सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत का पूर्वी द्वार है नागालैण्ड

भारत के सुदूर पूर्व में स्थित नागालैण्ड राज्य भारत का पूर्वी द्वार और हजारों साल से देश का सजग प्रहरी है। इस पर्वतीय राज्य के पूर्व में बर्मा वर्तमान में म्यांमार पश्च्छिम मंे असम उत्तर में अरूणाचंल और दक्षिण में मणिपुर स्थित है। नागालैण्ड पर्यटन, पर्वतारोहण जंगल भ्रमण ऊंचें-ऊंचें पहाड़ों हरी-भरी घाटियों लहरदार झरनों, के लिये आदर्श जगह है। यहां के सूर्यादय व सूर्यास्त दृश्य प्रकृति सौन्दर्य का अलौकिक आनंद की अनुभूति देते है। यहाँ की विभिन्न स्थानीय जातियों के उत्सव, त्यौहार, नाच-गाने, जीवन की शैली, चावल से बनी शराब भी पर्यटकों का घ्यान अपनी ओर खींचते हैं। यहांँ के दुर्लभ पेड़-पौधे, वनस्पतियां तथा पशु-पक्षी भी नागालैण्ड की विशेषता है। यहां का तापमान गर्मी में 16 से 31 डिग्री सेन्टीगे्रट तथा जाड़े मे 4 से 24 डिग्री सेन्टीगे्रट तक रहता है। यहाँ सात मुख्य दर्शनीय स्थान है।
कोहिमा:- समुद्र तल से लगभग 1500 फुट की उंचाई पर स्थित प्रदेश की राजधानी कोहिमा मुख्य दर्शनीय स्थान है। जो प्राकृतिक सौन्दर्य के अनमोल खजाने से भरपूर है। कोहिमा व्यापार का प्रमुख केन्द्र भी है। कोहिमा प्राकृतिक सौन्दर्य प्रेमियों लिये स्वर्ग है। कोहिमा वार मेमोरियल कोहिमा का मुख्य दर्शनीय स्थान है।
दीमापुर:- दीमापुर राज्य का ना केवल प्रवेश द्वार है। बल्कि राज्य का प्रमुख व्यापारिक केन्द्र भी है। प्रकृति प्रेमियों के लिये यहाँ कई अनोखे दर्शनीय प्राकृतिक स्थल है। यहाँ 10 वीं सदी के कचारी के भव्य खंडहर यहाँ के गौरवशाली इतिहास को दर्शाते है।
मोकाकचुंग:-यह नागालैण्ड की सांस्कृतिक और बौद्धिक राजधानी मानी जाती है। यहां के मनमोहक पर्वत और बहते झरनांे का मधुर संगीत पर्यटकों का मनमोह लेता है। यहाँ के नागाओं के परम्परागत त्यौहार भी यहाँ का प्रमुख आकर्षण है।
फेक :- फेक का मुख्य आकर्षण यहाँ के हरे-भरे घने जंगल है। जो यहां की 70 फीसदी जमीन पर फैले हुये है। साथ ही आश्चर्यजनक प्राकृतिक सौन्दर्य है। शानदार पहाड़ सदा नीरा विशाल झीलें जादुई सौन्दर्य रखती हैं।
किफिरे:-यहां का मुख्य आकर्षण साबरमती पर्वत है। जिसमे नागालैण्ड की सर्वोच्च ऊंची पर्वत चोटी है। बर्मा की सीमा से लगे किफिरे का प्राकृतिक सौन्दर्य है। आपको बार-बार यहाँ आने को विवश कर देगा।
वोखा :- वोखा नागालैण्ड के परमपरागत ग्राम्य जीवन के सौन्दर्य से भरपूर है। जो यहां की लोथा जनजाति की मातृभूमि है। हरे-भरे घने जंगल है। अन्नानास, संतरो, बेर के बाग यहाँ के सौन्दर्य को चार चांद लगा देते हैं।
मोन ;डवदद्ध:- समुद्र तल से 900 फुट के ऊंचाई पर स्थित मौन नागालैण्ड का अति रहस्यमय स्थान है। जो नागालैण्ड के उत्तरी पूर्र्वी भाग मे स्थित है। जो यहाँ स्थानीय जनजातियों की सम्पन्न सांस्कृतिक परम्पराओं से भरपूर है। यहाँ की घाटियां, मैदान और पहाड़ों का कोई जवाब नही है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति