सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मंगली दोष कितना सत्य या निराधार

किसी वर या कन्या के माता-पिता को बहू या दामाद तलाष करते समय पता चलता है कि उनका लड़का या लड़की मंगली है तो वे हजारों परेषानियों व आषंकाओं से घिर जाते हैं। मानों उन्हें काले नाग ने डस लिया हो, हालंाकि यह आषंका पूरी तरह निराधार नही है। उनके दिमाग में पहली बात यही कौंधती है, कि कहीं उनका लड़का शादी के बाद मर ना जाये या उनकी लड़की विधवा ना हो जाये लेकिन केवल 20 फीसदी मामलों में ही मंगली दोष घातक होता है। जो जंमाक के सही अध्ययन से ही पता चलता है। सामान्यतः मंगली दोष का अध्ययन करने आधार निम्न श्लोक है।


                लग्ने व्यये च पाताले,


                जामित्रे चाष्टमे कुजे।


                कन्या भर्तृविनाषाय,


                भत्र्ता पत्नी विनाषिकृत।।


                अर्थात यदि जमांक मे लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्ठम व द्वादष (1, 4, 7, 8, 12) भाव में मंगल हो तो मंगली दोष होता है। जो कन्या के पति का तथा पुरूष की पत्नी का विनाष करता है। इसे वर व कन्या की लग्न व चन्द्र कुण्डली से अध्ययन करना चाहिये उपरोक्त दोषों के अनेक अपवाद है।



  1. यदि वर या कन्या लग्न या चन्द्र से दोनों मंगली हो दोष नष्ट हो जाता है।

  2. यदि जंमाक मे जिस भाव मे मंगल हो तो वर या वधु के उसी भाव में मंगल या कोई अंय पापी ग्रह बैठा हो तो मंगली दोष नष्ट हो जाता है। यदि शनि हो तो 12 आने, राहू हो तो 10 आने व सूर्य हो तो आठ आने दोष नष्ट हो जाता है।

  3. मंगल यदि स्वराषि मेष या वृष्चिक मे हो या उच्च या नीच कर्क या मकर राषि का हो या मित्र राषि, सिंह, धनु या मीन का हो तो मंगली दोष कम हो जाता है।


5.चतुर्थ व द्वादष का मंगल कम घातक होता है।



  1. चतुर्थ व सप्तम भाव का मंगल पाप ग्रह से युत या दृष्ट ना हो व मेष या वृष्चिक, मकर सिंह, वृष या तुला राषि ,धनु या मीन राषि का हो तो मंगली दोष कम हो जाता है

  2. मिथुन या कन्या का मंगल द्वितीय भाव में हो।

  3. मंगल अष्विनी, मघा या मूल नक्षत्र में हो।

  4. शुक्र या बुध राषिगत मंगल द्वादषस्थ हो।

  5. कर्क या सिंह का मंगल 8 वंे भाव में हो।

  6. यदि स्वग्रही मंगल 4, 7, 8, 12 वें भाव मे हो।


घोर मंगली के योग।


                मंगल गुरू से युत या दृष्ट हो या मंगल शुक्र व गुरू युत या परस्पर केन्द्र मे या परस्पर सप्तम मे हों। मंगल शनि से युत या दृष्ट हो या मंगल राहू युत या दृष्ट हो या मंगल कुंभ, मिथुन, कन्या मे हो तो जीवन साथी की मृत्यु, तलाक, कठिन रोग, दुर्घटना मुकदमा, व परित्याग, आत्महत्या, कैद हत्या, सजा आपरेषन देता है।


उपचार



  1. यदि कन्या या वर आंषिक मंगली हो तो मंगल चण्डिका देवी का पूजन व हवन करवायें।

  2. यदि कन्या कठिन मंगली हो कन्या विवाह पूर्व विष्णु से विवाह, कुंभ या वट, पीपल विवाह करवायें व अंगारक पूजन करके मंगल यंत्र की स्थापना व पूजन करें। यदि वर कठिन मंगली हो तो मंगल चण्डिका देवी का पूजन व हवन करके मंगल यंत्र स्थापित करवायें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति