सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मशीन का रहस्य

आॅरफीशियस दावा करता था वह ऐसी मशीन बना सकता है जो बिना किसी ईधन के अपने आप चल सकती है। किन्तु इस दावे के बदले उसे सम्मान नही बल्कि लोगांे की घृणा मिली उसका जन्म सन् 1780 को जर्मनी में हुआ था। उसने 36 साल की उम्र मे लोगों की प्रताड़ना से परेशान होकर वह जर्मनी की रियासत हेस केसिल आ गया था, हेस केसिल के काउंट कार्ल ने उसका सम्मान करते हुये उसे ऐसी मशीन बनाने का आदेश दिया 1717 में उसने मशीन तैयार कर ली काउन्ट ने प्रसिद्ध वैज्ञानिक सर आइजक न्यूटन के उनके मित्र विलेम ग्रैब्सेंड तथा आस्ट्रिया के शाही वैज्ञानिक बेरेन फिशर को उस मशीन की जांच के लिये बुलाया आॅरफीशियस ने वैज्ञानिको से कहा कि आप मेरी मशीन के भीतरी भाग को तब तक नही देख सकेगें जब तक मुझे मेरी मशीन की कीमत नही मिल जाय, बिना कीमत के मैं इस मशीन का रहस्य किसी को नहीं बताऊगा काउंट के किले के एक पत्थर के उंचे अंधेरे कमरे मे मशीन रखी थी कमरे के बीचो-बीच 12 फुट ऊचा व 2 फुट मोटा व भारी भरकम एक पहिया था जो जमीन से आठ दस इंच ऊपर था इसका घूरा एक मशीन से जुड़ा था मशीन बहुत बड़ी नही थी मशीन पूरी तरह कपड़े से ढकी है। कई लालटेन की रोशनियों में वैज्ञानिको ने मशीन का गहन निरीक्षण किया मशीन मंे से जुड़ा जमीन या फर्श पर कोई पट्टा नहीं था वैज्ञानिको के कहने पर आॅरफीशियस ने पहिये को हाथ के घक्के से घुमा दिया और मशीन चालू हो गई वैज्ञानिको ने घड़ी देखकर पाया कि पहिया एक मिनट मे छब्बीस चक्कर लगा रहा है। वैज्ञानिको ने उससे मशीन रोकने का तरीका पूछा तो उसने कहा कि पहिये पर हाथ रखने से मशीन रूक जाती है वैज्ञानिको ने हाथ रखा तो मशीन रूक गई उन्होंने आॅरफीशियस से कहा जो मशीन केवल हाथ रखने से रूक जाय उससे कोई काम नही लिया जा सकता है और हो सकता है कि मशीन के अंदर कोई आदमी बैठा हो। प्रोफेसर ने मशीन का मुआयना करते-करते अचानक मशीन पर एक चुटकी नसवार फेंक दी ताकि कोई आदमी अंदर छुपा हो जो बाहर आ जाय किन्तु मशीन से कोई आदमी बाहर नही निकला उन्होंने पूछा मि. आॅरफीशियस मशीन कितने दिनों तक चल सकती है तो उसने जवाब दिया क्योंकि इसमे कोई ईधन नही लगता है। अतः यह महीनों, वर्षो, सदियों तक चल सकती है। तीन दिनों तक वैज्ञानिकांे ने मशीन की पूरी जांच की इस दावे को परखने के लिये 12 नवम्बर 1717 को मशीन चला दी गई कमरे को बंद करके दरवाजों के ताले पर वैज्ञानिको ने अपनी सील लगा दी आठ सप्ताह बाद 4 जनवरी 1718 को बेरेन व प्रो. ग्रेव्सेंड ने सील तोड़कर ताला खोला व कमरे में जाकर देखा कि मशीन का पहिया उसी गति से चल रहा है। वैज्ञानिक चमत्कृत रह गये प्रो. से पहिये पर हाथ रखा और मशीन रूक गई उन्होंने पूछा यह कौन सा सिद्धान्त है। यह सिद्धान्त मैं आपको कीमत मिलने पर बता दूँगा। इस रहस्य की क्या कीमत मांगते हो। 20,000 ब्रिटिश पौंड। अरे यह कीमत तो बहुत ज्यादा है। प्रो. ग्रेव्सेंड ने इस संबध मे प्रसिद्ध वैज्ञानिक सर आइजक न्यूटन को पत्र लिखा तभी इसमे एक ऐसा मोड़ आया जिसने सारा बना बनाया खेल बिगाड़ दिया दरअसल रकम आने मे देर हो गई आॅरफीशियस को शक होने लगा कि वे दोनों वैज्ञानिक उसे टाल रहे हैं। उसे उसकी मुँह मांगी कीमत नही मिलेगी वे लोग मुफ्त में ही उसका राज जान जायेंगे जैसे-जैसे समय बीतता गया उसका संदेह और पागलपन बढ़ता गया एक रात आॅरफीशियस ने मशीन को भारी हथौड़े से तोड़ डाला उसे रोकने और कैद करने की बड़ी कोशिश की गई लेकिन वह किसी के हाथ नही आया और घने जंगलों मे भाग गया सैकड़ों आदमियों ने उसकी हफ्तो तलाश की किन्तु उसका कुछ पता नही चला इस सच्ची और प्रामाणिक घटना पर उन दोनों वैज्ञानिको ने काफी कुछ लिखा उनके अन्य वैज्ञानिकों को लिखे पत्र भी इस घटना के प्रमाण है। इस घटना पर कई किताबें भी लिखी गयीं जो बाजार मे उपलब्ध है। ना जाने आॅरफीशियस को प्रकृति के कौन से रहस्य का पता चल गया था जिसके आधार पर उसने ऐसी मशीन बना डाली। सोचने की बात है इतनी वैज्ञानिक प्रगति हो जाने के बाद भी आज तक ऐसी मशीन न बन सकी ना बनने की संभावना है। वो कौन सा रहस्य था कोई नही जानता।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति