सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाचार

माइक्रों प्लान के अनुरूप पल्स पोलिया अभियान व संचारी रोग नियंत्रण अभियान को बनाये सफल: सीडीओ
जिलाधिकारी नेहा शर्मा के निर्देश पर रायबरेली के मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे डीटीएफएम की बैठक में दिये जा राहे निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करें। पल्स पोलियों अभियान बूथ दिवस 23 जून तथा घर-घर दस्तक 24 जून से 28 जून तक सम्पन्न कराई जायेगी। बूथ दिवस प्रातः 08ः00 बजे सायं 04 बजे तक चलाया जायेगा। कोई भी शून्य से 05 साल तक का बच्चा पल्स पोलियों खुराक व टीकाकरण से वंचित न रहे। उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान को गम्भीरता से लिया जाये। माईक्रो प्लान के अनुरूप कार्य किया जाना चाहिए। इसके अलावा द्वितीय संचारी रोग नियंत्रण अभिान 2019 को भी गम्भीरता से लिया जाये या अभियान 01 जुलाई से 31 जुलाई तक मनाया जायेगा। जिसकी समुचित तैयारिया पूर्ण कर ली जाये।
मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि संचारी रोगांे विशेषरूप से दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण हेतु माननीय मुख्यमंत्री जी उत्तर प्रदेश की विशेष प्राथमिकताओं का कार्यक्रम संचारी रोग नियंत्रण माह-दस्तक अभियान (01 जुलाई से 31 जुलाई 2019) तक मनाया जाना है। जिसमंे सभी विभागों को संयुक्त रूप से आपसी समन्वय स्थापित कर कार्य कराना है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग नोडल विभाग के रूप में कार्य करे व करायेगा। जनपद के समस्त ग्रामों में जलभराव के स्थानों पर लार्वा रोधी रसायन का नियमित छिड़काव किया जाना है। प्रधानों तथा स्कूल के बच्चों द्वारा जनजागरूकता हेतु प्रभात फेरियो का आयोजन किया जाना है। जनपद स्तर पर अन्र्तविभागीय समन्वय समिति की बैठक मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार की अध्यक्षता मंे बचत भवन सभागार में सम्पन्न करायी गयी एवं समस्त ब्लाक स्तरीय अन्र्तविभागीय समन्वय समिति की बैठकें आयोजित की जानी है। दस्तक अभियान के अन्र्तगत आशाओं, आंगनबाडी कार्यकत्रियों को घर-घर जाकर लोगों को संचारी रोगों के बारे में जागरूक करना है व रोगों से बचाव के उपाय बताना है। विभिन्न विभागों द्वारा शासन द्वारा निर्धारित कार्य एवं दायित्वों के अनुरूप कार्य कराये जाने है। पंचायत राज अधिकारी द्वारा उथले हैण्डपम्पों का निस्प्रयोज्य हेतु लाल रंग से चिन्हिकरण एवं प्लेटफार्म की मरम्मत का कार्य कराना है व ग्राम प्रधानों द्वारा नालियों की साफ सफाई व लार्वा रोधी रसायन का छिड़काव किया जाना है। जैसे कृषि विभाग द्वारा कृतक(चूहे, छछून्दर आदि) को नियंत्रित किया जाना है। झाड़ियांे की कटाई जलभराव के स्थानों को समाप्त किया जाना है। शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को संचारी रोग सम्बंधी शपथ दिलाने एवं प्रार्थना सभाओं में रोग के बारे में बताया जाना है। बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा अतिकुपोषित बच्चों को चिन्हित कर पोषण पुर्नवास केन्द्र मंे सन्दर्भित किया जाना है एवं आंगनबाडी कार्यकत्री द्वारा दस्तक अभियान में घर-घर जाकर संचारी रोग से सम्बंधित जानकारियों को देने में पूर्ण सहयोग देना है। पशु पालन विभाग सुअर पालकांे को अन्य व्यवसाय जैसे कुक्कुट पालन, डेयरी फार्मिंग आदि हेतु पे्ररित किया जाना है। सुअर बाडों को यथासम्भव आबादी से दूर करने तथा सुअर बाडों को जालियों से ढकने एवं बाडों मे कीटनाशक दवा का छिड़काव किया जाना है। नगर विकास विभाग द्वारा मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम हेतु नगरीय वार्डों एवं शहरी क्षेत्र में रोस्टर अनुसार नियमित फागिंग व नालियों में लार्वा रोधी रसायन का छिड़काव किया जाना है। स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग के रूप में कार्य करेगा तथा संचारी रोगांे पर नियंत्रण एवं उनके त्वरित एवं सुचारू उपचार के लिए समस्त निरोधात्मक उपाय करेगा।
अन्र्तविभागीय डिस्ट्रिक टास्क फोर्स की बैठक में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा सभी कार्यक्रम से सम्बंधित विभागों से माइक्रोप्लान 15 जून 2019 तक कार्यालय मुख्य चिकित्साधिकारी में प्रेषित करने के निर्देश दिये। सभी विभागों को उनके उत्तरदायित्वों के निर्वहन निष्ठा पूर्वक करने हेतु निर्देशित किया गया जिससे अभियान सुचारू रूप से सफल हो सके।
60 लाख रूपये छात्रवृत्ति घोटालें की जांच के सम्बन्ध में साक्ष्य आदि कोई भी बात/जानकारी 20 जून के मध्य दें: डीएम
जिलाधिकारी, रायबरेली नेहा शर्मा ने निर्देश पर महाराणा प्रताप महिला महाविद्यालय डलमऊ में 60 लाख रूपये छात्रवृत्ति घोटालें की शासन स्तर पर की गयी शिकायत के प्रकरण की जांच के लिए जिला विकास अधिकारी ए0के0 वैश्य द्वारा की जा रही है। छात्रवृत्ति अथवा विद्यालय से सम्बन्धित अन्य शिकायत के सम्बन्ध में कोई भी छात्रा यदि अपना कोई पक्ष प्रस्तुत कराना चाहती हों, तो 14 जून 2019 को एवं 17 जून से 20 जून 2019 के मध्य प्रातः 10ः00 बजे से अपरान्ह 01ः00 बजे के मध्य विकास भवन स्थित जिला विकास अधिकारी कार्यालय में उपस्थित होकर अपना पक्ष प्रस्तुत कर सकती है।
सीडीओं ने बालश्रम जागरूकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना
अन्तराष्ट्रीय बालश्रम विरोध दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना द्वारा विकास भवन से मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार द्वारा हरी झण्डी दिखाकर बला श्रम जागरूकता रैली को रवाना किया। रैली नगर के विभिन्न बालश्रम क्षेत्रों में बालश्रम के विरोध में लोगों को जागरूक करने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि बालश्रम हमारे समाज के लिए अभिषाप बना हुआ है जिसे दूर करने की जरूरत है। सभी विकास खण्डों में विद्यालय चलाया जा रहा है तो गरीब बच्चों तथा बालश्रम की चपेट में आते है उन्हें शिक्षा देकर उन बच्चों का भविश्य उज्ज्वल कराया जाता है। रैली में बड़ी संख्या में बच्चें बालश्रम के विरूद्ध पोस्टर, तख्ती आदि लेकर चल रहे थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति