सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सीडीओ, डीएफओ, एसडीएम, बीडीओ, जनपद स्तरीय अधिकारियों से बेहतर सामंजस्य बनाकर वृक्षारोपण अभियान को गति दें

जिलाधिकारी रायबरेली, नेहा शर्मा ने निर्देश दिये है कि 22 करोड़ वृक्षारोपण महाकुम्भ वर्ष 2019 लक्ष्य एवं क्रियान्वयन के तहत जागरूकता एवं प्रशिक्षण शिवरों के माध्यम से जनपद में 2565110 वृक्षारोपण किया जाना है। जिसमें ग्राम्य विकास विभाग द्वारा 1681300 पौधे सहित शेष अन्य विभागों को किया जाना है। जिसकी रणनीति जिला वृक्षारोपण समिति व सभी विभाग बेहतर तरीके से बनाकर जियोटैगिंग की कार्यवाही कराया जाना शुरू करवा दिया जाये। जनपद में जुलाई व वर्षा के समय मंे अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर शासन के निर्देशों का कडाई से अनुपालन करें तथा परस्पर बैठ कर सामंजस्य बनाकर निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप वृक्षारोपण तैयारी के लिए कार्ययोजना बनाकर डीएफओ कार्यालय में देने के साथ ही उसी तैयारियां भी करें। जिलाधिकारी ने डीएफओ तुलसीदास शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, एडीएम वित्त एवं राजस्व डा0 राजेश कुमार प्रजापति, डीडीओ ए0के0 वैश्य, पीडी0 प्रेमचन्द्र, डी0सी0 मनरेगा पवन कुमार सिंह, समस्त खण्ड विकास अधिकारी समस्त एसडीएम सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अधिकारियों को साथ बेहतर सामंजस्य बनाकर जुलाई 2019 के आवंटित रोपण लक्ष्य की प्राप्ति हेतु बेहतर रणनीति की तैयार कर शीघ्रताशीघ्र रिपोर्ट प्रत्येक दशा में दे दे। राष्ट्रीय वन नीति व उ0प्र0 वन नीति के अनुसार देश के प्रत्येक राज्य में 33 प्रतिशत भू-भाग पर वनों का विकास और हरितिमा आच्छादन किए जाने का लक्ष्य को प्राप्त करने के सम्बन्ध में अधिक से अधिक वृक्षारोपण किया जाना जरूरी है। प्रदेश के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 9.18 प्रतिशत क्षेत्र वनावरण एवं वृक्षारोपण से आच्छादित है। एक रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश राज्य के वृक्षावरण तथा वनावरण में समेकित रूप से कुल वृद्धि 676 वर्ग किमी0 (वनावरण में 278 वग कि0मी0 एवं वृक्षावरण में 398 वर्ग कि0मी0 क्षेत्रफल वृद्धि) हुई है। इस वृद्धि का मुख्य कारण सरकार द्वारा सफल वृक्षारोपण गतिविधियां तथा संरक्षण हेतु किये गये प्रयास है। वृक्षारोपण किया जाना एक निरन्तर प्रक्रिया है।
जिलाधिकारी के निर्देश पर फिरोजगाधी डिग्री कालेज के आडिटोरियम में मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार एवं डीएफओं ने अधिकारियों/कर्मचारियों को प्रशिक्षण/कार्यशाला के दौरान प्रशिक्षित दिलाते हुए कहा कि वे संघन वृक्षारोपण के लिए दिये जा रहे प्रशिक्षण को भली-भांति लेने के साथ ही अधिक से अधिक छायादार फलदार वृक्षो के रोपण के साथ ही पीपल, बरगद, पाकड़ को भी अधिक लगाये क्योकि यह वृक्षों अधिक आक्सीजन उसर्जित करते है। उन्होंने कहा कि जनपद में कुल 2565110 पौधरोपण का लक्ष्य है जिसमें ग्राम्य विकास विभाग 1681300, राजस्व 168130, पंचायती 168130 आवास विकास प्रधिकरण 7680, उद्योग 14386, नगर पालिका व पंचायत 28280, पीडब्ल्यूडी 28714, सिचाई विभाग 26600, रेशम विभाग, 5308, कृषि 53901, पशुपालन, 6650, सहकारिता 6700, उद्योग 9086, विद्युत 5320, डीआईओएस 79514, बीएसए 67252, प्राविधिक शिक्षा 12262, श्रम 3567, स्वास्थ्य 10649, परिवहन, 3680, रेलवे 6652, रक्षा 4630, उद्यान 168116 एवं पुलिस 7680 विभागों द्वारा वृक्षारोपण का लक्ष्य है। मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि सभी उपजिलाधिकारी समय सारिणी के अनुसार सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारियों द्वारा चिन्हित किए गए पौधरोपण स्थलों व गढ्ढों को तैयार करा ले तथा इसकी जीपीएस मैपिंग के अनुसार कार्यवाही शुरू करें।
डीएफओ तुलसीदास शर्मा ने बताया कि शासन जी.पी.एस,/जियोटैगिंग रीडिंग के संबंध में कोई दिक्कत हो इसके लिए वे डीएफओ कार्यालय से सम्पर्क कर सकते है। वृक्षारोपण के लिए आवश्यक है पूर्व में स्थान का चिन्हांकन, मृदा की प्रकृति के अनुसार गड्डों का खुदान किया जाना तथा गड्ढों के आकार आदि को निर्धारित माप में खोदना अत्यन्त आवश्यक है। उन्होंने कहा कि गड्ढों की स्पेसिंग, आकार का जो निर्धारित मापन है उसी के अनुसार होना चाहिए। इसी प्रकार ऊसर भूमि की स्पेसिंग की भी मापन निर्धारित है। उन्होंने जुलाई 2019 के आवंटित पौधरोपण लक्ष्य की प्राप्ति हेतु रणनीति को विस्तार से विभिन्न विभाग के अधिकारियों को अवगत कराया। सभी अधिकारी प्रशिक्षण बेहतर तरीके से लें। कार्ययोजना निर्धारित समय में भेजे ताकि बेहतर माइक्रो प्लान तैयार हो सके। अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वृक्षारोपण कार्यक्रम के सम्पादन हेतु उत्तरदायी अधिकारियों के लिए कार्यो हेतु जो टाइमलाइन निर्धारित की जायेगी उसी के अनुसार कार्य किया जायेगा।
इस मौके पर एडी सूचना प्रमोद कुमार, एसडीओ एमएस यादव व बीएम शुक्ला, समस्त बीडीओ, एडीओ व जनपदस्तरीय विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति