सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मतदाताओं को मतदान हेतु जागरूक कर सराहनीय योगदान

जिलाधिकारी, रायबरेली नेहा शर्मा व पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह ने लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 में मतप्रतिशत बढ़ने व निर्वाचन कार्य को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए अधिकारी/कर्मचारियों खण्ड विकास अधिकारी, एसडीएम, पुलिस विभाग के अधिकारी/थाना प्रभारी, लो0क0 मित्र, व्यापारियों पत्रकार बन्धुओं समाज सेवियों को सम्मान पत्र व अभार प्रकट कर सम्मान पूर्व में ही दिया जा चुका है। इसी कड़ी में आज बचत भवन के सभागार कक्ष में निर्वाचन में विधान सभागार ऐसे तीन-तीन ग्राम प्रधान एवं कोटेदार जिसके द्वारा मतदाताओं को मतदान हेतु जागरूक कर सराहनीय योगदान दिया गया है। जिससे सम्बन्धित पोलिंग बूथो पर सर्वाधनिक मतदान प्रतिशत रहा। इसके अलावा माडल बूथ बनाने वाले प्रबंधक/प्रधानाचार्य जिनके द्वारा सम्बन्धित पोलिंग बूथ को बनाकर मताधिकार का प्रयोग करने वाले मतदाताओं को पूर्ण सुविधा उपलब्ध कराते हुए मतदान हेतु जागरूक करने में अपना विशेष सहयोग प्रदान किया गया आदि सहित कई अन्य जनों को भी प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 
जिलाधिकारी नेहा शर्मा व पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह ने बताया है कि जनपद में हुए 06 मई  मतदान में मतदाताओं में मतदान के लिए जोश व उमंग तेज रहा है। मतदाता मतदान के लिए जागरूकता कार्यक्रम जोर-शोर से किये गये। विशाल मतदाता जागरूकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर व गुब्बारे उड़ा कर जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी नेहा शर्मा व पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह कार्यक्रम का विगत दिनों शुभारम्भ किया गया था। इसी प्रकार मतदाता जागरूकता संगोष्ठी, जागरूकता शपथ समारोह, पीजी कालेज, रेल कोच फ्रेक्ट्री, एनटीपीसी, विद्यालयों आदि में भी बढ़-चढ़ कर हुए मतदाताओं से अधिक से अधिक 6 मई को मतदान करने के लिए अपील की गई थी। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल0 वेकेटेश्वर लू द्वारा भी मतदाताओं को मतदान करने हेतु मतदाता जागरूकता की शपथ बचत भवन में विगत माह दिलाई गई थी। परिणाम स्वरूप जनपद की मतप्रतिशत में वृद्धि भी हुई। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी नेहा शर्मा व पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह, उप जिला निर्वाचन अधिकारी/एडीएम एफआर डा0 राजेश कुमार प्रजापति व उनकी पत्नी डा0 श्रेया उप जिलाधिकारी सदर शशांक त्रिपाठी, सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार, सुहैल आदि जनपद के व्यापार बन्धु द्वारा भी जनपदवासियों से मतदान की अपील भी की गई थी। मतदाता जागरूकता कार्यक्रम में डीएम-एसपी ने अपना नया मतदाता पहचान पत्र भी प्राप्त किया जिससे दोनो अधिकारी में खुशी भी देखने को भी मिली जिसमें उपस्थित जन जागरूक भी हुए। डीएम-एसपी ने विगत 6 मई को अपनी निर्वाचन ड्युटी के साथ ही अपने मत का भी प्रयोग किया था। हर वोट महत्वपूर्ण होता है कोई भी मतदाता मतदान करने से न छुटे। जनपद में मतदाता जागरूकता कार्यक्रमों धूम मची रही निश्चय ही मतदाता जागरूक कार्यक्रम सफल रहे तथा जनपद में 56.23 मतदान प्रतिशत रहा। मतदान प्रतिशत बढ़ने पर डीएम-एसपी ने उत्कृष्ट योगदान करने वालों को सम्मान पत्र सभी को धन्यवाद दिया। 
जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने बताया कि जागरूकता के कारण ही जनपद में करीब एक लाख से अधिक नये मतदाता बनकर अपना मत का भी प्रयोग करके जनपद में मतप्रतिशत बढाने में सहयोग किया। ग्राम प्रधान/कोटेदारों, पत्रकारों, व्यापारियों, पुलिस विभाग के अधिकारी/कर्मचारी एवं समाजसेवियांे, अधिकारियों/ कर्मचारियों आदि ने भी अपना अमूल्य योगदान देकर जनपद में हुए लोक सभा सामान्य निर्वाचन को निष्पक्ष, निर्भीक, सकुशल एवं शान्तिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने में योगदान दिया गया।  सम्पन्न हुए सकुशल निर्वाचन की प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी वैकेटेशवर लू आदि सहित चैतफा प्रशसा भी की गई। कार्यक्रम का संचालन कुशलता के साथ एस0एस0 पाण्डेय द्वारा किया गया। 
इस मौके पर पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह, एडीएम एफआर डा0 राजेश कुमार प्रजापति, सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार डीपीआरओ, जिला पूर्ति अधिकारी, खण्ड शिक्षा अधिकारी आदि सहित बड़ी संख्या में ग्राम प्रधान, कोटेदार, पत्रकार आदि भी उपस्थित थे। विभिन्न ग्राम के ग्राम प्रधान व कोटेदार पूनम सिंह, हेमचन्द्र, गीता देवी, मातादीन, रामनरेश, राजेन्द्र कुमार, हेतराम, महेश प्रसाद, ज्योति, कुन्ती, प्रीति, मन्जू, रामदेव, सिराज अहमद, रेखा देवी, धीरज सिंह, चन्द्रशेखर, राज्य बहादुर ब्रजलाल आदि सहित बड़े लाल यादव, मो0 राशिद रियाज अन्सारी, सारिका शुक्ला, अजय टैगोर, पुनीत श्रीवास्तव, संजू देवी, चन्द्रसेनभारती, अजय कुमार वेद, इफ्तिखार अहमद, बृज किशोर, रामबहादुर यादव, अर्जुन यादव, प्रिया गुप्ता, विनय श्रीवास्तव, आशीष सिंह, पी0 दुबे, सौरभ सिंह, रमा सिंह, वन्दना, रविकान्त मिश्रा, आनन्द कर्ण, प्रियका, सुधीर त्रिवेदी, योगेन्द्र विश्वकर्मा आदि सहित दर्जनोंजन प्रशस्ति पत्र पाकर खुश दिखे तथा कहा कि अगामी चुनाव में भी इसी प्रकार से मतदाता जागरूकता कर मतदान प्रतिशत बढ़ाकर सकुशल शान्तिपूर्वक चुनावों को सम्पन्न करायेंगे। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति