सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019 का भव्य उद्घाटन


सिटी मोन्टेसरी स्कूल, जाॅपलिंग रोड कैम्पस एवं राजाजीपुरम (द्वितीय कैम्पस), लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित पाँच दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय भूगोल ओलम्पियाड 'जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019' का उद्घाटन मुख्य अतिथि नन्द कुमार गुप्ता 'नंदी', राजनीतिक पेंशन एवं अल्पसंख्यक कल्याण, मंत्री उ.प्र., ने दीप प्रज्वलित कर सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में किया। इस अवसर पर सी.एम.एस. छात्रों द्वारा प्रस्तुत रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों की इन्द्रधनुषी छटा एवं हरित क्रान्ति के आहवान के बीच नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका एवं देश के विभिन्न प्रान्तों से पधारे प्रतिभागी छात्रों व टीम लीडरों की उपस्थिति ने वसुधैव कुटुम्बकम का अनूठा दृश्य उपस्थित किया। समारोह का शुभारम्भ सर्व-धर्म तथा विश्व शांति प्रार्थना से हुआ। इस अवसर पर सी.एम.एस. छात्रों ने वल्र्ड पार्लियामेन्ट की अनूठी प्रस्तुति से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया जिसके माध्यम से छात्रों ने विश्व की ज्वलन्त समस्याओं पर गहन विचार-विमर्श किया। समारोह में सी.एम.एस. छात्रों ने भारतीय लोक गीतों का आलोक बिखरते शिक्षात्मक एवं प्रेरणादायी सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने दर्शकों का मन मोह लिया जबकि प्रतिभागी टीमों ने एक अनूठे अंदाज में अपना परिचय प्रस्तुत किया। विदित हो कि 'जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019' का आयोजन 15 से 19 नवम्बर 2019 तक सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में किया जा रहा है। इस अन्तर्राष्ट्रीय भूगोल ओलम्पियाड में देश-विदेश से पधारे 500 से अधिक छात्र प्रतिभाग कर रहे हैं।
 उद्घाटन समारोह में देश-विदेश से पधारे बाल भूगोलविदों को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री नन्द कुमार गुप्ता 'नंदी' ने कहा कि समाज को आपसे बहुत अपेक्षायें हैं। भूगोल जैसे महत्वपूर्ण विषय का ज्ञान प्राप्त करके अनेक विश्वव्यापी समस्याओं का हल खोजा जा सकता है। धरती के प्राकृतिक संसाधन सभी के लिए हैं, इनका बंटवारा नहीं होना चाहिए। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस आयोजन से बच्चों में प्रकृति के प्रति प्रेम व पर्यावरण को शुद्ध और स्वच्छ रखने की भावना जागृत होगी।
 इससे पहले 'जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019' में प्रतिभाग हेतु लखनऊ पधारे देश-विदेश के प्रतिभागी छात्र अपरान्हः सत्र में आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेन्स में पत्रकारों से मिले और दिल खोलकर अपने विचार रखे। पत्रकारों से बातचीत करते हुए स्काॅलिस्टिका स्कूल, बांग्लादेश से पधारे छात्रों ने कहा कि  हम जियोफेस्ट में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए तो आये ही हैं, साथ ही लखनऊ की तहजीब और यहाँ के ऐतिहासिक स्थलों को देखने की भी हमारी दिली तमन्ना है। मनिमुकुन्द सेकेण्डरी स्कूल, नेपाल से पधारे छात्र जियोफेस्ट की विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग हेतु काफी उत्साहित थे। इन छात्रों का कहना था कि पर्यावरण की समस्या किसी एक देश तक सीमित नहीं है अपितु विश्व के देशों के एक साथ बैठकर इस पर विचार विमर्श करना होगा। इण्टरनेशनल पब्लिक स्कूल, नेपाल से पधारे छात्र 
सी.एम.एस. में मिले आपसी पारिवारिक माहौल व मेहमानवाजी से खुश हैं। इन छात्रों का कहना था कि जियोफेस्ट की प्रतियोगिताओं के माध्यम से विश्व शान्ति एवं विश्व एकता का मकसद भी पूरा होगा। इसी प्रकार, देश-विदेश से पधारे अन्य प्रतिभागी छात्रों ने भी दिल खोलकर पत्रकारों से बातचीत की और कहा कि जियोफेस्ट पर्यावरण संरक्षण की महत्ता से समस्त विश्ववासियों को अवगत कराने का सशक्त माध्यम है।
 'जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019' की संयोजिका व सी.एम.एस. जाॅपलिंग रोड कैम्पस की प्रधानाचार्या श्रीमती शिप्रा उपाध्याय ने कहा कि इस भूगोल ओलम्पियाड को आयोजित करने का उद्देश्य देश-विदेश के छात्रों में साफ-सुथरी तथा हरी-भरी धरती को निर्मित करने का उत्साह जगाना है। इस तरह के आयोजनों से देश-विदेश के छात्रों को धरती के गर्भ में छिपे संसाधनों से परिचित होने में अत्यधिक सफलता मिलेगी, साथ ही पर्यावरण संवर्धन के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए छात्रों को उत्साहित किया जायेगा। 
 'जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019' की सह-संयोजिका व सी.एम.एस. राजाजीपुरम (द्वितीय कैम्पस) की प्रधानाचार्या सुश्री पूनम अरोड़ा ने प्रतियोगिताओं की जानकारी देते हुए बताया कि जियोफेस्ट की प्रतियोगिताएं प्राइमरी, जूनियर एवं सीनियर तीन वर्गो में आयोजित की जायेंगी। इन प्रतियोगिताओं में क्रिएट योर टेस्ट (कोलाज प्रतियोगिता), जियोटून (कार्टून प्रतियोगिता), जियो फ्रेण्डली हैण्ड्स (साॅफ्टबोर्ड मेकिंग, माॅडल मेकिंग एवं पोस्टर मेकिंग), जियोक्विज (क्विज प्रतियोगिता), जियोटेक (वेव डिजाइन प्रतियोगिता), जियोटाॅक (वाद-विवाद प्रतियोगिता), जेल-ओ-माइम (माइम एक्ट एण्ड पोएम रेसीटेशन), जियो प्ली (ग्रुप-ए: ट्रेडीशनल फाॅक डान्स एवं ग्रुप-बी: कोरियोग्राफी) आदि प्रमुख हैं।
 सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने इस अवसर पर कहा कि इस ओलम्पियाड में देश-विदेश के छात्र जिस जोश व उमंग के साथ भाग ले रहे हैं, उससे यह स्पष्ट है कि भावी पीढ़ी मानव जाति के अस्तित्व की सुरक्षा हेतु ईश्वर प्रदत्त धरती को साफ-सुथरा तथा हरा-भरा बनाये रखने हेतु जागरूक हो रही है। डा. गाँधी ने जोर देकर कहा कि छात्रों व युवा पीढ़ी को पर्यावरण की चिन्तनीय स्थिति से रूबरू कराना हम सभी का परम दायित्य है तभी आने वाली पीढ़ी इस विभीषिका को समझ पायेगी एवं इसका समाधान ढूँढ पायेगी।
 सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि जियोफेस्ट इण्टरनेशनल-2019 की प्रतियोगिताएं कल 16 नवम्बर को प्रातः 9.00 बजे से प्रारम्भ होंगी। कल, 16 नवम्बर को आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओं में जियो प्ली (ट्रेडीशनल फाॅक डान्स एवं कोरियोग्राफी), क्रिएट योर टेस्ट (कोलाज प्रतियोगिता) एवं जियोटाॅक (वाद-विवाद प्रतियोगिता) प्रमुख हैं। इस अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पियाड में देश-विदेश की 70 टीमें प्रतिभाग कर रही हैं।



 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति