सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अन्तर्राष्ट्रीय स्टूडेन्ट क्वालिटी कन्ट्रोल सर्किल सम्मेलन सम्पन्न


सिटी मोन्टेसरी स्कूल, कानपुर रोड कैम्पस, लखनऊ के तत्वावधान में आयोजित चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय स्टूडेन्ट्स क्वालिटी कन्ट्रोल सर्किल सम्मेलन (आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019) के चैथे व अन्तिम दिन विभिन्न देशों से पधारे क्वालिटी गुरुओं ने एक स्वर से कहा कि मानव जाति की बेहतरी शिक्षा में क्वालिटी विचारधारा द्वारा ही संभव है। सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में चल रहे आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019 का चैथा दिन काफी दिलचस्प रहा तथापि विश्वविख्यात क्वालिटी विशषज्ञों ने अपने सारगर्भित उद्बोधनों से गागर में सागर उड़ेल दिया। उन्होंने अपने अनुभवों को बच्चों के सामने रखकर उन्हें क्वालिटी विचारधारा को आत्मसात करने के लिए प्रेरित किया। सम्मेलन के अन्तिम दिन आज विभिन्न देशों से पधारे प्रतिभागी छात्रों ने 'क्वालिटी क्विज' प्रतियोगिता में जोरदारी भागीदारी कर अपने ज्ञान-विज्ञान का प्रदर्शन किया। इसके अलावा, समापन समारोह में इस ऐतिहासिक सम्मेलन का फ्लैग नेपाल के प्रतिनिधि को सौंपा गया, जहाँ वर्ष 2020 में अगला क्वालिटी सर्किल सम्मेलन आयोजित किया जायेगा।
 आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019 के चैथे व अन्तिम दिन का शुभारम्भ प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी द्वारा 'मीनिंगफुल एजुकेशन' विषय पर सारगर्भित संभाषण से हुआ। डा. गाँधी ने कहा कि मानवता का कल्याण तब तक नही हो सकता है, जब तक मानव में 'क्वालिटी' का प्रादुर्भाव नही हो जाता है। मानव में क्वालिटी की भावना ही मानवता की सेवा करने के लिए प्रेरित करती है अन्यथा मानव पढ़-लिखकर भी बड़े ऊँचे ओहदे पर पहुँचकर भी मानवता का शोषण उत्पीणन करता है। अपने विचारों को स्पष्ट करते हुए डा. गाँधी ने कहा कि आज मानव भौतिकता में तो निरन्तर प्रगति कर रहा है परन्तु अपने मनोविचारों की क्वालिटी में निरन्तर गिरावट करता जा रहा है। मानवता के कल्याण के लिए क्वालिटी भावना का विकास अति आवश्यक है।
 चर्चा में भाग लेते हुए हैदराबाद से पधारे प्रो. विक्रमादित्य दुग्गल, सी.ई.ओ., अभिव्यक्ति - द एक्सप्रेशन ने 'पाॅजिटिविटी एण्ड माइंडसेट कैन वर्क वण्डर्स इन एजूकेशन' विषय पर कीनोट एड्रेस देते हुए छात्रों से कहा कि यदि सफलता चाहिए तो अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आओ। अभ्यास से ही सफलता मिलती है। तमिलनाडु से पधारी सुश्री सेल्वी संतोषम ने 'प्राब्लम साल्विंग मेथड इन स्कूल्स फाॅर एक्सीलेन्ट टीम वर्क एण्ड टु बिल्ड फ्यूचर लीडर्स' विषय पर बोलते हुए कहा कि क्वालिटी सर्किल में बच्चे बेहतर सीखते हैं, उनकी क्षमता बढ़ जाती है, बच्चे सशक्त होते हैं तथा परिणाम भी बेहतर मिलते हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा बांटना जरूरी है नहीं तो इसमें स्थिरता आ जायेगी। आस्ट्रेलिया से पधारे आस्ट्रेलियन इन्स्टीट्यूट आॅफ बिजनेस मैनेजमेन्ट के चेयरमैन श्री शाॅन रूपराय ने कहा कि सी.एम.एस. की शिक्षा पद्धति बेहतरीन है, जिसके अच्छे परिणाम हमें लगातार देखने को मिल रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका से पधारे क्वालिटी स्ट्रेटजीज इण्टरनेशनल (क्यू.सी.आई.) के सी.ई.ओ. श्री डेविड क्राफोर्ड ने 'इम्पार्टेन्स आॅफ ग्लोबल कोलाबरेशन इन बिल्डिंग एन इफेक्टिव एजूकेशनल इकोसिस्टम' विषय पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि हमें सोचना होगा कि हम कितनी बड़ी समस्या अपनी अगली पीढ़ियों के लिए छोड़े जा रहे हैं। ईश्वर ने हमें इस पृथ्वी पर राज करने के लिए भेजा है परन्तु हम इसे ही नष्ट किये जा रहे हैं। अब बच्चे ही इसे बेहतर बना सकते हैं और इसके लिए हमें उनको तैयार करना होगा। इंग्लैण्ड से पधारी सुश्री कैरोलिन गेटन, हेड आॅफ लर्निंग एण्ड डेवलपमेन्ट, डेविड हचिन्स इनोवेशन, ने ग्लोबल वार्मिंग एवं पर्यावरण पर गहन चिन्ता व्यक्त करते हएु कहा कि सामाजिक जागरूकता से ही इस वैश्विक समस्या का समाधान संभव है जिसके लिए हमें युवा पीढ़ी को तैयार करना होगा। इसी प्रकार, देश-विदेश से पधारे कई अन्य विद्धजनों ने भी अपने सारगर्भित विचार व्यक्त किये।
 इसके अलावा, अपरान्हः सत्र में आयोजित 'क्वालिटी क्विज' प्रतियोगिता काफी दिलचस्प रही और दर्शकों ने तालियां बजाकर प्रतिभागी छात्रों की खूब हौसलाअफजाई की। प्रतियोगिता में देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों ने  अपने ज्ञान-विज्ञान का अभूतपूर्व परचम लहराया। लिखित राउण्ड के बाद चयनित टीमों ने बिजली की गति से सवालों के जवाब देकर अपनी क्वालिटी व हुनर का प्रदर्शन किया। इसके अन्तर्गत प्रतिभागी छात्रों से विभिन्न विषयों पर सवाल पूछे गये जिसमें इस बात पर जोर दिया गया कि छात्रों में क्वालिटी की भावना का समावेश हो एवं क्वालिटी मैनेजमेन्ट से रूबरू हो सकें। 
 क्वालिटी सम्मेलन का समापन पुरस्कार वितरण के साथ हुआ तथापि देश-विदेश की विजयी छात्र टीमों को पुरष्कृत कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर अपने अनुभव बांटते हुए इन छात्रों कहा कि जो क्वालिटी की भावना उनके अन्दर प्रवाहित हुई है वह जीवन भर उनको उत्कृष्टता की ओर ले जायेगी। सी.एम.एस. परिवार में उन्हें जो स्नेह और अपनत्व महसूस हुआ है वह एक मीठी याद बनकर उनके हृदय में रहेगा। उनको यहां शान्ति और एकता की सीख मिली है जिसे वे तोहफे के रूप में अपने देश वापस ले जा रहे हैं। 
 समापन समारोह में देश-विदेश से पधारे क्वालिटी विशेषज्ञों व प्रतिभागी छात्रों का हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए सी.एम.एस. कानपुर रोड की वरिष्ठ प्रधानाचार्या एवं आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019 की संयोजिका डा. (श्रीमती) विनीता कामरान ने कहा कि क्वालिटी जीवनदायिनी शक्ति है। यदि जल या वायु प्रदूषित हो तो मानव जीवन का अस्तित्व ही संकट में आ जाता है। प्रकृति भी हमें क्वालिटी का सबक सिखाती है। छात्रों को शुरू से ही यदि टोटल क्वालिटी परसन बनने की शिक्षा दी जानी चाहिए। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा सी.एम.एस. कानपुर रोड द्वारा आयोजित इस आयोजन में 12 देशों के छात्रों व क्वालिटी विशेषज्ञों ने प्रतिभाग कर क्वालिटी सर्किल के इतिहास में एक नया अध्याय जोड़ा है। इस अवसर पर आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019 की सह-संयोजिका एवं सी.एम.एस. कानपुर रोड की प्रधानाचार्या श्रीमती रोली त्रिपाठी ने सभी अतिथि गणों, शिक्षकों, शिक्षाविदों, गुणवत्ता विशेषज्ञों और छात्रों को धन्यवाद दिया जिनके प्रतिभाग से इस सम्मेलन का सफल आयोजन संभव हो सका।



 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति