सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अद्वितीय प्राचीन तावीजें

स्वास्तिक-योरोप व विष्व कुछ सभ्यताओं मे इसे सूर्य का प्रतीक माना जाता है। जब कि भारत मे इस आकाष मे धु्रव तारे के चारों और सप्तर्षियों की परिक्रमा का प्रतीक माना जाता है। तावीज के रूप मे इसे धारण करने से धन, मकान वाहन व अंय समृद्धि प्राप्त होती है। 
उल्टा स्वास्तिक- यह उर्जा व शक्ति का प्रतीक है। इसे धारण करने से शत्रुओं पर विजय होती है। भूत-प्रेत, तंत्र-मंत्र, मारण, मूठ आदि से रक्षा होती है। 
चाभी-यह बुद्धि चेतना, समृद्धि, विवेक, ज्ञान, काम शक्ति बढाता है। 
मछली-आलस, कमजोरी, अज्ञान, जड़ता हटा कर उर्जा सक्रियता, धन वैभव बढाये यह सम्पन्नता के प्रतीक लखनऊ के नवाबों का राजचिन्ह था
कुल्हाड़ी-बुरी नजर, भूत प्रेत बाधा, अंजाने भय का नाशकरे मेष व तुला राषियों वाले जातक यदि सफेद धातु मे पहने तो को विशेष लाभ हो लोहे मे पहने से कवच का काम करे।
हाथी दांत-साढे साती और शनि की ढइया तथा शनिजन्य रोगों व कष्टों से मुक्ति दे सौभाग्य व समृद्धता दे। 
कछुआ-रोग, दुर्घटना नाषक कवच है अल्पायु दोश का नाश। हाथ-बेराजगारी, आलस, व्यापार वृद्धि हेतु तथा भूत प्रेत जादू टोने से रक्षा करे।
भेड़ के सींग-रोजगार, व्यवसाय, पद मे प्रमोषन, आयवृद्धि, कार्य पद, को स्थाई व बनाये। साहस बढाये।
कमल-
गांठ- स्त्री पुरूष के मिलन का प्रतीक है रूठे प्रेमी प्रेमिका या पति पत्नी मे अगाध प्रेम बढाये परस्पर वशीकरण करे
अर्धचन्द्र-उन्नति दे, रोग व अल्पायु नाशक,। उपरी हवाओं से रक्षा, चन्द्रमा का कटा भाग उपर और उभरा भाग नीचे रखें।
सीढी-जीवन की कठिनाईयों व संघर्षों मे विजय व अध्यात्मिक उन्नति दे।
झण्डा-विजय, सफलता, यश, पराक्रम, प्रतिष्ठा दे, मुकदमे और चुनाव मे सफलता दे।
टी या होली क्रास-क्रिश्चयनिटी का प्रतीक यह सेंट एंटनी क्रास, मिर्गी, मानसिक रोग बुरी नजर, भूत प्रेत, तंत्र मंत्र, मारण मूठ आदि से रक्षा करता है। 
लंगर का कांटा- लोहे का बना तावीज ज्यादा शक्तिशाली होता है। चन्द्र व शनि ग्रह के दोषों का नाश करे।
बाघ का पंजा-हिसंक पषु, भय, भूत प्रेत उपरी हवा आदि से रक्षा करता है।
गदा-रोग व शत्रुनाशक, भूत प्रेत उपरी हवा आदि से रक्षा करता है।
आंख- दक्षिण अफ्रीका मे रोग व शत्रुनाषक, भूत प्रेत काला जादू, उपरी हवा आदि से रक्षा करता है। सूर्य का प्रतीक है बिच्छू-रक्षा कवच है। भूत प्रेत काला जादू से रक्षा करता है। कन्या व वृश्चिक राशि वालों को विशेष लाभ देता है। 
सुअर-यह बेराजगारी प्राप्ति, व्यापार वृद्धि हेतु सौभाग्य, भाग्योदय समृद्धि की प्राप्त होती है। चांदी मे बना तावीज अधिक शक्तिशाली होता है।
बिल्ली- जोखिम भरी यात्राओं मे तथा भूत प्रेत, तंत्र मंत्र, उपरी हवा आदि से रक्षा करता है। मकर, मीन वाले जातकों को विशेश लाभ देता है।
घोड़े की नाल-बुरी नजर, भूत प्रेत की छाया, जादू टोना, तंत्र मंत्र, आदि बलाओं से रक्षा करता है। 
तीर- सौभाग्य व मुकदमे मे विजय देता है। सोने चांदी का तावीज बना कर या परूषों को अंगूठी मे तथा स्त्रियो को कमर या गले मे पहनना चाहिये।  
डंडे पर लिपटा सांप-इसे ज्ञान और भाग्य का प्रतीक मानााता है यह ज्ञान की सात अवस्थाओं को बताता है। सांप बुद्धि का प्रतीक है। इसे चांदी की अंगूठी मे पहना जाता है। 
देवदूत या उसके पंख- उन्नति, निकट भविष्य मे सौभाग्य आने, नई योजनाओं तथा नये अवसरों का प्रतीक है।
छिपकली- -बुरी नजर, भूत प्रेत बाधा, सौभाग्य प्राप्ति,।
समकोणकार तावीज-शिक्षा, बुद्धि, विवेक, लेखन कार्य, बौद्धिक विकास।
पंखों वाली छड़ से लिपटे दो सांप-मिस्त्र मे इसे रोजगार, व्यापार, वृद्धि, अच्छे व्यापारिक समझौते करवाने, विवाद या झगड़ो निपटाने मे लाभकारी माना जाता है। 
हार्ट का तावीज-दिल के आकृति का तावीज प्रेमी प्रेमिका या पति पत्नी के मध्य प्रेम को बढा कर कलह नाष करता है। सोने मे बना कर पहने से सिंह और तुला राशि के जातकांे को विशेष लाभ देता है
बेनेडिक्ट तावीज- गणित के प्लस के चिन्ह का यह तावीज शुभ, सौभाग्य और देवी कृपा मिलने का प्रतीक माना जाता है।
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति