सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अम्लपित्त

यह रोग आमाशय में अत्याधिक अम्ल बनने के कारण होता है। इसमें रोगी के नेत्र, गले, भोजन नली, आमाशय, छोटी आंत व हृदय प्रदेश मेे जलन होती है। अत्याधिक प्यास लगती है।
कारण:-
1. अम्ल, लवण, कटु तिक्त, कषाय द्रव्यों के अधिक सेवन से।
2. मिर्चा, तेल, खटाई, चिकने तले भुने पदार्थों के अधिक सेवन से। 
3. पूड़ी पराठा, घी, दूघ, दही मलाई आदि के अधिक सेवन से।
4. जठराग्नि की तीव्रता अधारणीय वेगों केा रोकने से भी मूत्र मे जलन व दाह होती है। अमाशय में अधिक मात्रा में निकला अम्ल पित्त के साथ मिल कर अम्ल पित्त रोग की उत्पत्ति करता है। 
लक्षण:- खट्टी डकारें आना, गले आमाशय छोटी आंत व हृदय में जलन, मिचली, उल्टी (वमन), क्षुधा अल्पता, अजीर्ण थकान व शरीर का भारीपन, मल व मूत्र में जलन व पीड़ा अम्ल पित्त के मुख्य लक्षण हैं। अम्ल पित्त रोग की तीव्रता से यकृत वृद्धि, पित्ताशय वृद्धि, आमाशय व छोटी आंत में घाव, अल्सर, उल्टी (वमन) रक्त पित्त हलीभक कामला, जलोदर (सिरोसिस आॅफ लीवर, वायु विकार गैस, आमाशय व छोटी आंत में सूजन आदि बीमारियां उत्पन्न होती है। पित्त आयुर्वेद मतानुसार निम्न प्रकार का होता है। नाम, स्थान।
1. पाचक पित्त आमाशय, पक्वाशय व छोटी अंात मे रहता है। 
2. रंजक पित्त यकृत और प्लीहा मे रहता है।
3. साधक पित्त हृदय में रहता है।
4. आलोचक पित्त नेत्र में रहताहै।
5. भ्राजक पित्त त्वचा में रहता है। 
चिकित्सा:-
1. कच्चे नारियल का पानी 100 से 300 मिली ग्राम दिन में दो बार भोजन के बाद लें।
2. आंवला फल मज्जा का चूर्ण 3 से 5 ग्राम 200 मिली दूघ से सुबह शाम दिन में दो बार लें।
3. बड़ी ईलायची के दानों का चूर्ण 1 से 2 ग्राम 1 चिम्मच शहद से सुबह शाम लें।
5. हरी धनिया का स्वरस 2 चिम्मच शहद एक चिम्मच सुबह शाम दिन मे दो बार लें।
6. हरे पुदीना का रस 2 चिम्मच शहद एक चिम्मच सुबह शाम दिन मे दो बार लें।
7. हरी धनिया का रस, हरे पुदीना का रस, दोनो एक एक चिम्मच शहद एक चिम्मच सुबह शाम पिये।
8. हरें आंवलें का रस 1 चिम्मच हरी धनिया का रस, हरे पुदीना का रस, शहद एक चिम्मच मिला कर भोजन के बाद दोनों समय लें।
9. आंवले का फल का चूर्ण 1 ग्राम भृंगराज का चूर्ण 1 ग्राम शहद 1 चिम्मच लें।
10. हरिद्रा का सूखा कंद पटोलपत्र एवं आंवला फल मज्जा 500 मिली ग्राम प्रत्येक चूर्ण मिला कर भोजन के बाद 1 चिम्मच शहद से दोनो समय लें।
11. गुरूच के तने, नीम के पत्र या फल पटोल (परवल) के पत्र तीनों को समान मात्रा में लेकर काढा बनाये इसे 10 से 15 मिली की मात्रा में दिन मे 2 बार भोजन के बाद सेवन करें।
12. भूम्यामल भूमि आंवला की पचंाग स्वरस 2 चिम्मच मधु 1 चिम्मच मिला के भोजन के बाद दिन मे 2 बार सेवन करें।
13. पटोल पत्र, अडू़सा के पत्र गुरूचतना चूर्ण एवं कुटकी को समान भाग मे लेकर काढा बनाये इसे 15 से 20 मिली की मात्रा मे 1 चिम्मच शहद में मिला कर दिन मे 2 बार सुबह शाम लें।
औषघियां:-
1. धात्री लौह 500 से 1 ग्राम 1 चिम्मच देशी घृत या मधु के साथ दिन मे 2 बार सुबह शाम लें।
2. आपत्तिकर चूर्ण 3 से 5 ग्राम भोजन के बाद दिन मे 2 बार लें।
3. भूम्यामल भूमि आंवला चूर्ण 2 से 3 ग्राम 1 चिम्मच शहद के साथ दिन मे 2 बार सुबह शाम नाश्ते के बाद प्रयोग करें।
4. काम दुधारस 200 से 400 मिली ग्राम 1 चिम्मच शहद के साथ मिला के दिन मे 2 बार सुबह शाम लें।
5. सत गिलोय (सत्व) 1 से 2 ग्राम दिन में 2 बार 1 चिम्मच शहद से लें।
6. लीलाविलास रस 100 से 200 मिली ग्राम मिला कर सुबह शाम 2 बार सेवन करें।
7. अर्जुनघन सत्व 5 मिली ग्राम जहर मोहरा खताई पिष्टी 100 मिली ग्राम सत्व गिलोय 50 मिली ग्राम 1 चिम्मच शहद से सुबह शाम लें।
8. प्रवाल पिष्टी 100 मिली ग्राम अर्जुन धन सत्व 50 मिली ग्राम सत्व गिलोय गुरूच 100 मिली ग्राम 1 चिम्मच शहद से सुबह शाम लें।
9. शंख भस्म 200 मिली ग्राम प्रवाल पिष्टी 100 मिली ग्राम 1 चिम्मच शहद से सुबह शाम लें।
10. मुक्ता प्रवाल पंचमृत रस 100 मिली ग्राम सत्व गिलोय गुरूच 50 मिली ग्राम सुबह शाम 1 चिम्मच शहद से  लें।
11. सूतशेखर रस 150 से 250 मिली ग्राम सुबह शाम 1 चिम्मच शहद से  लें।
12. नारियल केलाखण्ड 3 से 5 ग्राम 200 मिली दूध या 1 चिम्मच शहद से सेवन करें।
13. क्षारराज 100 मि ग्राम 1 चिम्मच शहद से दिन मे 2 बार सेवन करें।
14. दशंाग क्वाथ 15 से 20 मिली 1 चिम्मच शहद मिलाकर दिन मे 2 बार सेवन करें।
15. आरेग्यवर्धिनी वटी 1-1 गोली भोजन के बाद दोनो समय जल के साथ लें।
16. गुलकंद 1 से 2 चिम्मच सुबह शाम नाश्ते के बाद 100 मिली दूध से लें।
17. सत्व गलोय 250 मिग्रा 1 चिम्मच शहद से भोजन के बाद दिन और रात मे लें।
18. प्रवाल पिष्टी 100 मिली ग्राम आरेग्यवर्धिनी वटी 1 गोली काम दुधारस 50 मिली ग्राम 1 चिम्मच शहद से सुबह शाम लें।
अम्लपित्त रोग में पथ्य:-
1. रोगी को 2 छोटी इलायची व 2 छोटी पिपल साबुत 1 गिलास दूध में पका कर ठंडा करके सुबह शाम नाश्ते के समय पियें।
2. आंवले के फल का मुरब्बा सुबह शाम नाश्ते के बाद 2 सप्ताह तक लें।
3. गुलकंद सुबह शाम 2-2 चिम्मच नाश्ते के बाद 100 मिली दूध से सेवन करे 2 सप्ताह लें।
4. पपीता व सेब 100 से 200 ग्राम प्रतिदिन प्रयोग करें।
पुराना शालि चावल, गेंहू, मूँग, सत्तू, जौ का सत्तू, शहद, दूध शीतल जल, करेला, कपित्थ, कैथा, अचार, आंवल के फल, परवल के फल, व पत्ते, हरी धनिया, पुदीना, वेतस शुंग अम्लपित्त के रोगी के लिये दैनिक जीवन में उपयोगी आहार भोजन है। पेठा या कुष्मंाड का सेवन करें।
अपथ्य- गुड़, अम्ल, कटु, तिक्त लवण कषाय द्रव्य, नवीन अन्न, विरूद्ध आहार तिल के बीज, माष उर्द एवं कुलत्थ तेल मे बनाये पदार्थ मिर्च, लाल खटाई, दही मलाई, मद्य, शराब, सिरका, पूड़ी, पराठा, अम्लपित्त के रोगी के लिये हानिकारक द्रव्य हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति