अनोखा ज्योतिषीः आश्चर्यजनक किन्तु सत्य

20 जून 2015 की शाम करीब छह बजे मेरे ज्योतिष कार्यालय मे विकास नगर लखनऊ निवासी अम्बरीष कुमार जन्म नामक एक युवक अपनी पत्नी सहित हस्तरेखा पढवाने आया मैने कौतुहलवश उससे उसकी जंम तारीख पूछी तो उसने बताया कि उसको अपनी जंम तारीख व समय याद नही है। उसने मुझे 1977 की एक तारीख बताते हुये कहा कि यह मेरी स्कूल मे लिखी जंम तारीख है। वर्तमान मे उसकी उम्र करीब 40 साल है। आज से करीब दो साल पहले उसके कार्यालय मे कोई ज्योतिषी बंगाल से आये थे उन्होने मेरी नब्ज देखकर कहा कि तुम्हारा जंम 11 नवम्बर 1975 को शाम 6.35.44 सेकेंड पर बाराबंकी मे हुआ है। मैने पूछा कि उसकी बात की सत्यता क्या है। तो अम्बरीष ने बताया कि बंगाली ने कार्यालय मे कई लोगों की नब्ज देख की उनकी जंम की तारीख व समय बताया था चुँकि उन लोगों के पास उनकी जंमपत्री मौजूद थी जिनसे बंगाली की बताई जंम तारीख व जंम हूबहू मेल खा रही थी मै दंग रह गया क्योंकि मैने पिछले 30 साल के ज्योतिष अघ्ययन और अनुभव मे किसी ऐसी ज्योतिष विद्या के बारे मे नही पढा या सुना जो मात्र नब्ज देख कर एकदम सटीक जंम समय व तारीख बात दें।