बौद्धिक सम्पदा अधिकार पर एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

बौद्धिक सम्पदा अधिकार पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन उघमिता विकास संस्थान द्वारा सिविल र्लाइ.न, रायबरेली स्थित एक होटल में आयोजित किया गया। जिसमें विज्ञान एवं प्रौद्योगिक परिषद के प्रतिनिधि मोहित कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति या व्यवसाय आदि को एक नई आईडी के रूप में विकसित किया जा रहा है। सरकार द्वारा भी राष्ट्रीय बौद्धिक सम्पदा नीति 2016 बनाई गई है जिसके माध्यम से प्रत्येक व्यक्तियों को जागरूक होकर अपनी पहचान के लिए कार्य करना चाहिए। जैसे टाटा, बिरला, रिलाइयस आदि की अपनी पहचान है इनके नामों के उत्पाद आदि को कोई अन्य द्वारा इनके नामों को नामांकित करके नही चला सकता है। लघु उद्यम उद्योग आदि भी बौद्धिक सम्पदा के तहत अपनी पहचान बनाकर उसका नियामानुसार पंजीकरण करा सकते है तथा अपने व्यवसाय को बढ़ा सकते है। बौद्धिक सम्पदा अधिकारों के महत्व को जानना और उसकी रक्षा के लिए कार्य करना चाहिए। 8 अधिनियमों के अन्दर बौद्धिक सम्पदा अधिकार सुरक्षित किये गये है। इस मौके पर उपायुक्त नेहा सिंह, संस्था के प्रतिनिधि अमरंजन कुमार आईआई के जिला अध्यक्ष अविचल आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये। कार्यशाला में एडी सूचना प्रमोद सहित बड़ी संख्या में उद्यमी भी उपस्थित थे।