सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक चमकता सितारा ओमपुरी


 ओमपुरी की माँ के अनुसार ओमपुरी का जंम 1950 में दशहरे के दो दिन बाद सुबह पौने छह बजे अंबाला मे हुआ था इस तरह उनका जंम संवत 2007 आश्विन शुक्ल त्रयोदशी तदनुसार 23 अक्टूबर 1950 में कन्या लग्न में हुआ था। (अमर उजाला, 7 जनवरी 2017) उनकी मृत्यु पौष शुक्ल नवमी या 7 जनवरी 2017 की रात रहस्यमय ढंग से हुयी पुलिस के अनुसार मौत का कारण हार्ट अटैक था लेकिन उनके सर में डेढ इंच गहरा घाव था शव किचिन मे मिला और शव पूरा नंगा था, शव के होंठ व कुछ अंग नीले थे पुलिस ने मृत्यु का समय रात 10 से 11 बजे व पोस्टमार्टम रात ढाई बजे का बताया गया। एक दिन पहले रात में उनका अपनी द्वितीय पत्नी नंदिता से उसके घर पर झगड़ा हुआ था देर रात आकर उन्होने शराब पी और सुबह ड्राईवर द्वारा कई बार बेल बजाने पर भी जब दरवाजा नही खुला तो उसने पुिलस बुलाई पुलिस के घर में घुसने पर वो मृत पाये गये उनका जंमाक इस प्रकार है। 
कन्या लग्न- लग्न में शनि 4 अंश, बुध 28 अंश, शुक्र 29 अंश, केतु-4-57 अंश, तुला में सूर्य-5 अंश, वृश्चिक मे मंगल-26 अंश, कुंभ में गुरू-4 अंश व चन्द्र-21 अंश, मीन में राहू-4.57 अंश उ0 भाद्रपद-प्रथम चरण। 
फलादेश- लग्न में शुक्र, केतु बुध योग ने उन्हें गोरा रंग दिया लेकिन लग्न में बुध केतु योग तथा द्वितीय भाव में अग्निकारक ग्रह मंगल ने उनके चेहरे को चेचक व कई घावों से युक्त और खुरदुरी त्वचा वाला बनाया लग्न में नीच का शुक्र ने तथा शनि केतु योग के लंगोटी योग ने बचपन में उन्हें अत्यंत गरीब व संघर्षपूर्ण जीवन दिया 7 वर्ष की आयु कन्या के गुरू गोचर मे उन्होने चाय की दुकान में काम किया तथा 1973 में कन्या से त्रिकोण में मकर के गुरू गोचर में गिरीश कर्नाड ने उन्हें पहली बार बाल फिल्म में काम दिया। धन कारक शुक्र नीच का होकर उच्च के बुध से युत है, यह नीच भंग राजयोग बना रहा है, जिसके कारण उन्हें जीवन के पूर्वाध में संघर्ष व गरीबी तथा उतारार्ध में भारी धन लाभ और सफलता मिली। भृगु नाड़ी के अनुसार द्विस्वभाव के शुक्र ने उन्हें दो पत्नियां दीं। पहला विवाह उन्होंने अभिनेता अन्नू कपूर की बहन सीमा कपूर से किया जिससे तलाक हुआ दूसरा विवाह अपने से 16 साल छोटी पत्रकार नंदिता से हुआ जिससे सन 2000 से तलाक का मुकदमा चल रहा था गुरू से त्रिकोण में सूर्य ने उन्हें प्रथम संतान पुत्र दिया गुरू वक्री होने के कारण पुत्र से संबध मधुर नही थे नीच के शुक्र, शुक्र से द्वितीय भाव में शुक्र का शत्रु सूर्य स्वयं नीच हो कर बैठा है। तथा शुक्र दो पापी और शत्रु ग्रहों सूर्य व केतु के मध्य पापकर्तरी में तथा शुक्र केतु युति होने के कारण उन्हें दोनो पत्नियों से वैवाहिक सुख नही मिला सप्तम भाव पर शनि शुक्र की दृश्टि ने विवाह में विलंब दिया भगु नाड़ी के अनुसार बुध से त्रिकोण मे केतु प्रेम संबध देता है। यदि इस योग पर गुरू या शुक्र प्रभाव हो तो प्रेम संबध विवाह मंे बदल जाता है। ऐसा ही हुआ तथा सप्तम भाव पर शनि की दृष्टि ने उन्हे अति छोटी उम्र की पत्नी दी कंुभ में गुरू व चन्द्र युति ने उन्हें जंमस्थान से दूर स्थान पर सफलता दी। तथा गुरू के आगे कई भाव खाली ने उन्हें जीवन में लंबा भयानक संघर्ष दिया उनकी हत्या किये जाने की आश्ंाका जताई जा रही है। जंमाक मे हत्या के स्पष्ठ योग मिल रहे हैं। स्व. माणिक जैन की थ्योरी के अनुसार यदि राहू केतू के राशि स्वामी यदि राहू या केतु के साथ युत हों तो जातक हत्या का शिकार होता है। कुण्डली मे केतु कन्या मे गया है। जिसका स्वामी ग्रह बुध केतु के साथ है। अष्ठमेश मंगल रहस्यमय केतु की राशि वृश्चिक मे गया है जो रहस्यमय मृत्यु देता है। है। अतः मौत रहस्यमय हुयी। अष्ठमेश मंगल स्थिर रशि में है। जो घर के अंदर ही मृत्यु देता है। मृत्यृ घर मे हुयी उपपद धनु मे है उससे त्रिकोण मे सूर्य के गोचर मृत्यु देता है। मृत्यु धनु के सूर्य गोचर मे हुयी पंचम भाव ग्रह या उसे राशि दृष्टि से देखने वाले ग्रह या पंचमेश से मृत्यु तिथी देखते है। पंचम भाव खाली है। उस पर तुला के सूर्य की राशि दृष्टि है। सूर्य प्रतिपदा व नवमी दो तिथियों का स्वामी है। अतः मृत्यु नवमी तिथी को हुयी। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति