हाई स्पीड ट्रेन ने आगरा से झांसी की दूरी 3 घंटा 13 मिनट में तय की

झांसी। अब दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर भी 180 किमी प्रति घंटे रफ्तार से ट्रेन चलाने की तैयारी शुरू हो गयी है। इसके लिए रेल मंत्रालय द्वारा तैयारियां की जा रही हैं। इसके तहत आगरा से रिसर्च डिजाइन स्टैंडर्ड आर्गनाइजेशन (आरडीएसओ) के अफसरों की टीम ने आरडीएसओ स्पेशल ट्रायल ट्रेन (हाई स्पीड) को चला कर परीक्षण किया। यह ट्रेन आगरा से झांसी तक तीन घण्टा तेरह मिनट में पहुंच गयी।
गौरतलब है कि रेल प्रशासन द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर भी 180 किमी प्रति घंटे रफ्तार से ट्रेन चलाने की तैयारी की जा रही है। इसके तहत आगरा-झांसी सेक्शन के रेल मार्ग पर हाई स्पीड का परीक्षण करने के लिए आज आरडीएसओ स्पेशल ट्रायल ट्रेन (हाई स्पीड) को दौड़ाया गया। इस ट्रायल ट्रेन में सम्बन्धित गति मापक उपकरणों से सुसज्जित आरडीएसओ के अधिकारियों व तकनीकी कर्मचारियों की टीम आगरा से झांसी तक दौड़ी। टीम ने आगरा-झांसी सेक्शन के बीच ट्रायल ट्रेन को लगभग 160 किमी प्रति घण्टे की गति से दौड़ाया। इस दौरान जांच दल ने हर पहलू पर नजर रख कर रिपोर्ट तैयार की ताकि हाई स्पीड ट्रेन को चलाने में आने वाली कमियां सामने आने पर उन्हेें दूर कर ने कार्यवाही की जा सकेगा, बताया गया है कि यह ट्रायल ट्रेन आगरा से पूर्वान्ह 11.04 बजे रवाना हुई और दोपहर 2.17 बजे झांसी स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर 2 पर आकर रुकी। इस दौरान ट्रेन को दो जगह रोका गया। इस तरह इस ट्रेन ने 160 किमी प्रति घण्टे की गति से आगरा-झांसी के बीच की दूरी तीन घण्टा तेरह मिनट में पूरी कर ली। यहां कुछ देर रुक कर आरडीएसओ के अधिकारियों व कर्मचारियों की टीम को लेकर यह ट्रेन वापस रवाना हो गयी। वापसी में गति का ट्रायल नहीं किया गया। बताया गया है कि इस ट्रेन से कई बार ट्रायल कर जांच पूरी होने तक इसे 180 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से दौड़ाने का प्रयास किया जाएगा। जांच पूरी होने के बाद इस गति से हाई स्पीड ट्रेन को चलाने की कवायद शुरू हो सकेगी।