सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मेट्रोमोनियल एस्ट्रोलाॅजी वाइॅफ आर लाइफ पार्टनर

इस अजीबो-गरीब और अटपटे शीर्षक वाले और विचित्र विषय पर लेख लिखने का कारण गत दिनों मे कार्यालय मे कुछ अजीब सी वैवाहिक समस्याओं से पीड़ित लोगों का आना था तथा कुछ अविवाहित युवक युवतियों का अपनी परिवारिक, आर्थिक, कैरियर और मानसिक स्थितियों के आधार पर भावी वैवाहिक जीवन के बारे में सलाह मांगना, साथ ही विवाह पूर्व लड़के और लड़कियों का शादी को लेकर अपने माता-पिता से गंभीर मतभेद हो जाना प्रमुख कारण है। दरअसल बदलती सभ्यता के दौर मे देश मे भारी नई आर्थिक, पारिवारिक, समाजिक परिस्थितियों का जंम हुआ जिनको नई पीढी और पुरानी पीढ़ी दोनों ही पूर्ण रूप से समझने मे नाकाम रहे जिनके कारण नवयुवको युवतियों को अपना जीवन साथी खोजने तथा माता-पिता को दामाद और बहू खोजने मे भारी समस्या हो रही है लोग वाइॅफ आॅर लाइफ पार्टनर के अन्तर को समझने मे नाकाम रहे। यह लोग जिस सोच के आधार पर अपना जीवन साथी खोजते है विवाह के बाद उनको ठीक उससे विपरीत परिस्थितियों का सामना करता है जिससे पति पत्नी के बीच तलाक और सास बहू के झगड़े और दोनो परिवार के मध्य झगड़े, मुकदमे और एक दूसरे को नीचा दिखाने की होड़ लग जाती है। थाना कचहरी इस समस्या को और गंभीर बना देते है। 15-20 साल तक मुकदमा चलता है दोनों का जीवन नर्क बन जाता है। और मुकदमा का फैसला आने तक दोनांे बूढे हो जाता है। उनका पुर्नविवाह असंभव हो जाता है। लड़कियाँ अपने मायके मे बैठ जाती है और अपने भाई-भाभी तथा बहनों के जीवन मे अनावश्यक हस्ताक्षेप पैदा करके या पैतृक जायदाद में हिस्सा मंाग कर गृह कलह पैदा करती है। अपना वैवाहिक जीवन तबाह करके वे भाई-बहनों का वैवाहिक जीवन बर्बाद करने की कोशिश करती है। माता-पिता भी अपने अहंकारवश तथा बेटी-बेटे के मोह मे बेटी को घर बैठाकर इस समस्या को राई से पहाड़ बना कर दुनिया कोसते हुये खुद मर चले जाते है और अपने पुत्र-पुत्रियों का जीवन नर्क बना जाते है। इसका मूल कारण है। कि वर वधु तथा उनके माता पिता अपने परिवार तथा अपनी जरूरतों को समझ ही नही पाते है कन्या या वर उनकी जरूरतो या परिस्थितियों के मुताबिक है भी कि नहीं। नवयुवक केवल लड़की का कैरियर उसकी शारीरिक खूबसूरती और ग्लैमर देखते है लड़कियां भी पति की केवल पोस्ट, मोटी तनख्वाह तथा पर्सनाॅल्टी देखती और बाद मे धोखा खाती हैं। आइये हम पत्नी और लाइफ पार्टनर के अंतर को समझते है। पत्नी वह होती है जो संयुक्त परिवार मे शादी करके आती है और सास देवर, ननद से निभा कर सास-ससुर की सेवा करती है। आम तौर पर व्यापारी और कृषक परिवार या संयुक्त परिवार के लोग इस तरह की पत्नी ब्याह कर लाते है। ऐसी कन्या धार्मिक और समाजिक मूल्यों और परम्पराओं का पालन करने वाली होती है। गृह कार्य मे कुशल, मेहनती होती है। हमारे पूर्वजों ने इसके निम्न लक्षण बतायें है।
भारतीय ग्रन्थों मे पत्नी के लक्षण:-
 ''कार्येशु मंत्री करमेशु दासी
 रूपेशु लक्षमी क्षमया धरित्री।
 स्नेहेशु माता षयनेशु वेष्या
 शडकर्मनारी कुल धर्म पत्नी।।
कार्य मे मंत्री, कर्म मे दासी, रूप मे लक्षमी, क्षमा मे पृथ्वी, स्नेह मे माता और शयन मे वेश्या हो हांलाकि उपरोक्त सभी गुण किसी भी महिला मे मिलना असंभव है। क्योंकि संसार मे परमात्मा के सिवाय कोई पूर्ण नही है। कभी-कभी इसमे बेमेल विवाह, पति-पत्नी मे वैचारिक अंतर, रूचियों में अंतर के कारण अनेक गंभीर समस्यायें पैदा हो जाती है।
लाइफ पार्टनर- जब वर और वधु दोनों अपनी पसंद से एक ही प्रोफेशन, शारीरिक, मानसिक व वैचारिक समानता के आधार पर विवाह करते है तो वधु पत्नी ना होकर जीवन साथी होती है। इसमे पत्नी मित्र बन कर जीवन बिताती है, इसमे केवल पति, पत्नी और बच्चों के ही सुख-दुःख का ख्याल रखा  जाता है। अत्यन्त छोटे परिवार वाले और माता पिता से दूर रहने वाले जोडे़ ऐसे विवाह करते है यह लव मेरिज और अरेंन्ड मैरिज दोनों रूप मे हो सकते है इसमे सास ससुर या धार्मिक और समाजिक मूल्यों और परम्पराओं को कोई महत्व नही रहता है केवल अपनी सुविधा का ख्याल रखा जाता है। 
 अक्सर संयुक्त परिवार मे पली लड़कियां संयुक्त परिवार मे विवाह करती है और उनके मन मे लाइफ पार्टनर वाले जीवन की चाह होती है अतः वे पति से या सास-ससुर से अलग रहने की जिद करके गृह कलह करती है। वर आर्थिक या समाजिक कारणों से अलग नही हो पाता है। उसका वैवाहिक जीवन नरक बन जाता है लड़कियां शादी के पूर्व वर पसंद करते समय इस बात को समझ ही नही पाती है। शादी के बाद इस बात को उन्हें अहसास होता है। उनका मन कभी भी पत्नी के रूप को स्वीकार नही कर पाता है।
पत्नी के ज्योतिष लक्षण- यदि कन्या के जंमाक मे लग्न में चन्द्रमा व बुध हो तो वह बुद्धिमान व दयालु व घरेलू स्वभाव की व ललित कलाओं मे निपुण होती है।
2. यदि जमंाक लग्न में शुक्र बुध युति हो या लग्नेश शुक्र, बुध हो तो वह बुद्धिमान व गृहलक्षमी होगी।
3. यदि जमंाक लग्न में शुक्र बुध युति हो या लग्नेश शुक्र, बुध हो तो वह बुद्धिमान व गृह लक्षमी होगी।
4. यदि लग्न व चन्द्रमा सम राशि मे हो तो कन्या मे स्त्रियोचित गुण, गृह लक्षमी, मीठी वाणी व सुन्दर आकृति हो । 
5. लग्न, चन्द्र शुक्र या बुध से द्वितीय भाव मे शुभ ग्रह गुरू, चन्द्र, बुध शुक्र हो या इनकी दृष्टि हो तो जातिका विनम्र, घरेलू, धार्मिक, मधुर, मीठी वाणी बोलेगी
6. द्वितीय भाव मे चन्द्रमा या शुक्र या इनकी युति या इनमे से एक ग्रह लग्न मे हो और दूसरे ग्रह की युति हो बड़ी व सुन्दर आँखे, सफेद या पीली पुतली हो। यदि द्वितीयेश भी द्वितीय भाव मे हो हंसमुख, पतिव्रता ,सौभाग्य कमल के समान मोहनी व गृह लक्षमी हो।
7. स्त्री जातक मंे यदि 3, 11 भाव मे शुक्र व चन्द्रमा की युति या दृष्टि हो तो जातिका की गर्दन शंखाकर, सुन्दर हो। यदि उपरोक्त स्थानो पर बुध-चन्द्र की युति या दृष्टि हो तो जातिका की गर्दन पर आकर्षक धारियां हो वह समाजिक व गृह लक्षमी हो। यदि 12 वें भाव में उच्च का चन्दमा हो तो तलवे मे कमल का चिन्ह हो।
 यदि 12 वे भाव मे चन्द्र हो तो तलवे मे मछली का चिन्ह हो। 12 वें भाव में चन्द्र- शुक्र की युति या एक ग्रह बैठा हो और उसे दूसरा ग्रह देखता हो पैर सुन्दर, नरम व चिकने हो जो गृहकार्य मे दक्ष होगी 
ज्योतिषी मनुभाई शाह ने अपनी पुस्तक ए बुक आॅफ करेक्ट प्रैडिक्शन मे लिखा है कि स्त्री जंमाक में लग्न मे चन्द्र, गुरू, शुक्र या बुध हो या लग्नेश कर्क, सिंह, धनु, मीन, वृष, तुला, मिथुन, कन्या मे हो तो जातिका सुन्दर सुशील होगी या लग्न मे वृष, तुला, कर्क, सिंह, धनु, मीन, मिथुन, कन्या राशि हो तो जातिका सुन्दर सुशील होगी यदि प्रथम भाव से सूर्य, चन्द्र, गुरू, शुक्र या बुध का संबध हो तो जातिका सुन्दर व सुशील होगी। 7 वें भाव मे बुध शु़क्र, चन्द्र हो तो स्त्री मे।  
लाइफ पार्टनर के ग्रह योग-
1. यदि मंगल की राषि मे बुध या बुघ की राशि मे मंगल हो या मंगल बुघ की युति हो या मंगल व बुध मे राशि परिवर्तन हो तो जातिका पत्नी नही लाइफ पार्टनर बनेगी।
2. यदि जमांक मे शुक्र बुध की युति या यह दोनो परस्पर त्रिकोण मे या यह दोनो 2/12 भाव मे हो तो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी।
3. यदि जमांक मे शुक्र शनि की युति या यह दोनों परस्पर  त्रिकोण मे या दोनो 2/12 भाव मे हो तो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी या शुक्र पर शनि की दृष्टि हो तो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी। 
4. यदि लग्न या 7 वें भाव मे शनि या राहू या मंगल हो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी। 
5. शनि यदि मेष, वृष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु, मकर, कंुभ मे हो हो तो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी।
6. मिथुन, कन्या मे शनि हो तो जातिका लाइफ पार्टनर बनेगी।
 पूर्ण रूप से लाइफ पार्टनर के गुण कम ही महिलाओं मे पाये जाते है। अधिकांशतः भारतीय महिलाओं मे कमोबेश दोनों गुण पाये जाते है। वे सर्विस के साथ घर भी संभालती है। यदि वर वधु विवाह पूर्व इस पहलु पर भी विचार कर ले तो काफी हद तक विवाहोपरान्त उत्पन्न समस्यायो से बचा जा सकता है।
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति