सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फूल जिनको खिजा खा गई

 


 यह दुनिया की एक कड़वी और दुःखद सच्चाई है कि दुनिया मे तमाम बुद्धिमान और प्रतिभाशाली लोग बेहद कम उम्र मे ही दुनियां से रूखसत कर जाते है। बेहद खूबसूरत और हसीन नवयुवतिया कम उम्र मे ही मौत के आगोश मे चली जाती है। जिनसे देश समाज और दुनियां को भारी उम्मीदें होती है और उनके जाने के बाद लोग अफसोस करते है कि काश यह लोग अगर लंबी उम्र जीते तो दुनियाँ व समाज की तरक्की मे चार चंद लग जाते, उनकी प्रतिभा का बेहद योगदान होता। वैसे तो ऐसे लोग जिदंगी के हर क्षेत्र विज्ञान, साहित्य, कला, फिल्म, धर्म से पाये जाते है। लेकिन इस लेख मे केवल फिल्म से जुड़े लोगों को शामिल किया किया है। इनमे से कुछ नाम है। अभिनेत्री स्मिता पाटिल, दक्षिण की नायिका सिल्क स्मिता, पांचवे दशक के बेहद प्रतिभाशाली अभिनेता, निर्माता, निर्देशक गुरूदत्त, कवि शैली, आदि।
1. स्मिता पाटिल- टी वी और फिल्म अभिनेत्री स्मिता पाटिल का जंम 17 अक्टूबर 1955 को षाम- 5. 30 पर पूना मे हुआ था (साभार-द टाइम्स सेलेक्ट होरास्कोप) उन्होंने पूना फिल्म इन्टीटयूट से ग्रेजुएषन किया था उन्होंने अपना फिल्मी कैरियर 1975 मे श्याम बेनेगल की फिल्म चरणदास चोर से शुरू किया था वह समान्तर सिनेमा और भारतीय सिनेमा मे नवयुग आन्दोलन की प्रमुख नायिका थी। उन्हें दो बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (भूमिका व चक्र) एक बार फिल्मफेयर एवार्ड (चक्र, अर्थ) तथा 1985 मे पद्यम् श्री से भी सम्मानित किया गया था उन्होंने अभिनेता राज बब्बर से विवाह किया था, 13 दिसम्बर 1985 को पुत्र को जंम देते हुये उनकी मात्र 31 वर्ष की आयु मे मृत्यु हो गई थी। उन्होंने गोविन्द निहलानी, मृणाल सेन, सत्यजीत रे, श्याम बेलेगल जैसे दिग्गज निर्देशकों के साथ काम किया निषान्त, मंडी, हादसा, बाजार, भूमिका, मंथन, नमक हलाल, आक्रोश, अर्थ, चक्र, शक्ति, दर्द का रिश्ता, सद्गति, मिर्च मसाला, उनकी अविस्मरणीय फिल्में हैं। उनका जंमाक इस प्रकार है। 
मीन लग्न- 18. 25 अंश, तुला मे सूर्य-चित्रा 3, व चन्द्र- स्वाती 4, मंगल कन्या-9 अंष, बुध-22, सिंह मे गुरू-2 अंश, तुला मे शुक्र-27 अंश व शनि-27, वृश्चिक मे राहू-26, वृष मे केतु-26 अंश। शेष दशा राहू- 0 वर्ष, 8 माह, 10 दिन। पंचमेश व शष्ठेश युति अष्ठम मे शत्रुराशि मे पापकर्तरी मे गंभीर था संतान बाधा योग था लग्नपद मकर से षष्ठेश व बाधकेश की युति जमांक मे जटिल तंत्र प्रहार योग (मारण प्रयोग) दे रहा था मृत्यु के समय गोचर मे लग्नेश गुरू मकर मे नीच का था और द्वादेश शनि तुला मे नीच के सूर्य, शत्रुराशिगत चन्द्र, व अष्ठमेश शुक्र से गुजर रहा था गर्भाशय कारक पापग्रस्त चन्द्रमा शनि युत है। और उससे द्वितीय मे राहू प्रसव के समय बाधा, अकाल और 0दुःष्मरण योग दे रहा था अगस्त 1985 मे मेरठ के मशहूर तांत्रिक व ज्योतिषी प. रामस्परूप शास्त्री (बंगाली तांत्रिक) महबूब स्टूडियो मे स्मिता पाटिल से मिले थे। उन्होंने अपनी एक विचित्र समस्या से उन्हें परिचित कराया था उस समय वे गर्भ से थीं। गत दो सप्ताह से उन्हे बहुत बुरे-बुरे सपने आते थे सपने मे कभी उन्हें जली हुयी लाशे नजर आती थीं तो कभी उन्हें कौए और चमगादड़ नोचते हुये नजर आते थे सपनों मे जब उड़ती थीं तो उन्हें जलते हुये मुर्दे दिखते थे और उन्हें कौए और चमगादड़ नोचते वे बुरी तरह घबरा जाती थीं सपनो का असर दूसरे दिन भी बना रहता था उनका काम मे मन नही लगता था बंगाली तांत्रिक के अनुरोध पर उन्होंने अपना हाथ दिखाया हस्त चिन्हों तथा सपनों से पूरी तरह स्पष्ठ हो चुका था कि उन पर गंभीर मारण प्रयोग किया जा रहा था जो भविष्य मे जानलेवा बीमारी या मृत्यु दे सकता था उन पर मारण प्रयोग किया जा रहा था उनकी मस्तिष्क रेखा दोहरी थी जो असाधारण प्रतिभा और क्षमता को बताती थी सूर्य रेखा तिहरी थी जो अन्र्तराष्ट्रीय स्तर के सम्मान को बताती थी। एक सूर्य रेखा राहू क्षेत्र से निकली थी जो विदेष यात्रा और अन्र्तराष्ट्रीय स्तर के सम्मान को बताती थी किन्तु जीवन रेखा अत्यन्त क्षीण और कटी हुयी थी एक आड़ी रेखा निम्न मंगल क्षेत्र से अत्यन्त क्षीण जीवन रेखा भाग्य रेखा, सूर्य रेखाओं को काट कर वाहृय मंगल पर जा रही थी जो शत्रु द्वारा मारण प्रयोग की प्रतीक थी। जो भविष्य मे गंभीर बीमारी या मृत्यु की प्रतीक थी। बंगाली जी ने उन्हें बताया कि आप पर कोई मारण प्रयोग कर रहा है। आप को वैेवाहिक सुख बहुत कम है। आप माँ बनने से बचें प्रसव मे आपकी जान को खतरा है। स्मिता जी के प्रयोग काटने के अनुरोध पर बंगाली तांत्रिक ने हवा मे हाथ हिलाया उन्होंने मुठ्ठी खोली तो उसमे एक छुहारा था छुहारा देखकर स्मिता दंग रह गई वह छुहारा स्मिता जी को देते हुये उन्होंने अपने उपर से सात बार उतारने को कहा स्मिता ने वैसा ही किया बंगाली तांत्रिक ने छुहारा स्मिता के सामने रखा और मंत्र पढते हुये 50 पैसे के सिक्के से जमीन पर तीन रेखायें खींच दी। फिर छुहारा स्मिता जी को देते हुये कहा कि इसकी गुठली निकालिये स्मिता जी ने छुहारा छील की गुठली निकाली गुठली चार भागों मे बंटी थी आप पर भयानक मारण किया गया है। जिसे मैंने समाप्त कर दिया है किन्तु दुबारा किया गया तो आपके लिये जानलेवा होगा यदि आप तावीज पहन सके तो उपाय करूं किन्तु प्रेस के डर से स्मिता जी ने तावीज पहनने से इन्कार कर दिया बंगाली तांत्रिक ने एक कागज को कई तहों मे मोड़कर उसे स्मिता को देकर माथे से लगाने को कहा स्मिता ने कुछ देर उसे माथे से लगा कर अचानक उसे हटाते हुये हैरानी से कहा कागज एकदम से गरम हो गया बंगाली तांत्रिक ने कहा कि जब तक आप मां नही बनेगी मेरी शक्ति आपकी रक्षा करेगी मैं कुछ नही कर पाउंगा अगर आप हमेशा के लिये मुक्ति बला से मुक्ति चाहतीं है। तो आपको मेरठ मे बालाजी के दरबार मे आना होगा स्मिता जी ने कहा कि मैं जल्दी ही दिल्ली आने बाली हूँ वही से समय निकाल कर आपके पास आउंगी लेकिन होनी बड़ी प्रबल थी वह मौका कभी नही आया। 13 दिसम्बर 1985 को एक पुत्र को जंम देकर स्मिता की हालत अत्यन्त शोचनीय हो गई और 14 दिसम्बर 1985 को उनका देहान्त हो गया 13 दिसम्बर, को टी वी पर स्मिता जी गंभीर बीमारी का समाचार सुनकर 13 दिसम्बर को बंगाली तांत्रिक ने स्मिता जी की फोटो पर ध्यान लगाकर बताया कि स्मिता पर मारण किया गया है जो पूर्ण हो चुका है अब मेरी शक्ति उन्हें बचा नही सकती है। भृगु नाड़ी के अनुसार उनका गर्भ कारक चन्द्र की अपनी शत्रु राषि तुला मे दो शत्रु ग्रहों शनि षुक्र से युति है और उससे द्वितीय मे राहू है व 12 वें मंगल बुध है जो पापकर्तरी योग बना रहा है। चन्द्र मंगल, शनि, राहू की युति जो प्रसव मे मरण योग दे रहा है।
 7 वें भाव मे शत्रुराशिगत कन्या मे मंगल अपने षत्रु ग्रह बुध से युत है। बुध व मंगल दोनो मीन लग्न मे मारकेश है। लग्नपद से काले जादू के शिकार होने के स्पष्ठ योग है। शुक्र की राशि मे गया चन्द्रमा शुक्र युत भी है जो युवा स्त्री का शाप बता रहा है। जो काला जादू करवायेगी। मृत्यु के समय तुला मे षनि गोचर मे था जो चन्द्र कुुण्डली से अष्ठमेश चन्द्र मंगल, शनि, राहू की युति जो प्रसव मे मरण योग दे रहा है। 7 वें भाव मे शत्रुराशिगत कन्या मे मंगल अपने शत्रु ग्रह बुध से युत है। बुध व मंगल दोनों मीन लग्न मे मारकेश है। लग्नपद से काले जादू के षिकार होने के स्पष्ठ योग है। शुक्र की राशि मे गया चन्द्रमा शुक्र युत भी है जो युवा स्त्री का शाप बता रहा है। जो काला जादू करवायेगी। मृत्यु के समय तुला मे षनि गोचर मे था जो चन्द्र कुुण्डली से अष्ठमेश से तथा शुक्र लग्न से भी अष्ठमेश से निकल रहा था और मृत्यु योग बना रहा था।  


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति