सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रचीनतम वेधशाला

पेरू (द. अमेरिका) के उत्तरी तट पर निम्न पठारी दरार में एक टीले पर चूने पत्थरों से निर्मित चंकेलों के तेरह टावर स्थित हैं। पूरात्वविदों के अनुसार 23,00 वर्ष पुराने यह टावर किसी प्राचीन सौर वेधशाला के अंग है। पेरू की राजधानी लीमा के उत्तर मे 23,00 साल पुरानी पत्थर के टावरों की यह श्रंखला अमेरिका की अब तक ज्ञात प्रचीनतम वेधशाला है। पुरात्वविदों के अनुसार प्रस्तर चिन्हों की यह श्रंखला आकाश में सूर्य के परिक्रमा मार्ग को इंगित करती है। पेरू के प्राचीन सौरविज्ञानी इंका की प्राचीन सौर संस्कृति से दो मिलियन पूर्व संषोधित सूर्य पूजा करते थे। पेरू (द. अमेरिका) के उत्तरी तट पर निम्न दरार में एक टीले के चंकेलों के तेरह टावर ईसा से चार सदी पूर्व र्धािर्मक उत्सवों भवनों के समूहो का हिस्सा है। घाटी मे सतह से यह पत्थर 4 से 6 मीटर उंचे यह पत्थर है, इसके चार कि.मी. क्षेत्र मे कई भवन और ढाँचे है। इनमे से दो ढांचे 13 पत्थरों की श्रंखला के पूर्व और पश्चिम मे स्थित हैं। पूर्व उत्खनन मे एक ढांचे के चारों और बर्तन, ढक्कन और पत्थरों के टूटे टुकड़े पाये गये थे। यह स्थान 19 वीं सदी मे खोजा गया था। कुछ विद्वान इसे सूर्य के साथ चन्द्रमा के भी परिक्रमा पथ से जोड़ते है। पेरू में राष्ट्रीय सांस्कृतिक संस्थान के निदेशक इवान गेजी के अनुसार बर्तन और ढक्कन धार्मिक कार्यकलापों मे प्रयोग किये जाते थे। गेजी और लीस्टिर विश्वविद्यालय के पुरा खगोलषास्त्री क्लाइव रगल्स ने अपनी षोधों मे पाया कि दो खंडित ढांचे निरीक्षण स्थल थे जहाँ से लोग टावरों का निरीक्षण करते थे। उनकी टीम ने साल भर सूर्य की स्थितियों और पत्थर के टावरों की स्थिति का तुलनात्मक अध्ययन किया और 300 ईसा पूर्व जून और दिसम्बर की विषुव सं़क्रान्तियों मे धार्मिक उत्सवों को परखा तो पाया कि किसी भी निरीक्षण स्थल से पत्थरों का फैलाव संक्षिप्त रूप से सूर्य की गतियों का पूर्णतः अनुसरण करता है। और सूर्य की स्थितियों का हर दो-तीन दिन मे सही रूप मे चिन्हित करता है। षीत और ग्रीष्म संक्रान्तियों मे सूर्य की स्थिति बिलकुल इसके समान ही थी। टावरों की लाइन के किसी भी किनारे के बिन्दू से जब विपरीत निरीक्षण स्थल को देखते है। तो परिणाम सूर्य की आकाशीय स्थिति के अनुसार ही आते है। इसके अलावा 13 पत्थरों के समूह के कोई भी दो पत्थरों के मध्य का नियमित अंतर बताता है कि इसे सौर कलैण्डर के दिनों की गणना करने के लिये व्यवस्थित किया गया था जिससे सौरवर्ष के दिनों की गणना की जा सकती है। इसे इंका सभ्यता से 17,00 वर्ष पूर्व बनाया गया था। टावरों की श्रंखला शीत और ग्रीष्म संक्रान्तियों से पूर्ण रूप से संबधित हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति