सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रमजान इबादत और रहमतों का महीना

इस्लाम में रमजान के महीने को सबसे पाक महीना माना जाता है। मुसलमानों के लिये रमजान के महीने का बहुत अधिक महत्व दिया जाता है, इस माह में हर सच्चा मुसलमान अल्लाह की इबादत करता है और उसके बनाये हुये नियमों का पालन करने की कोशिश करता है, जो कि हर मुसलमान व्यक्ति को करनी चाहिये। चाहे वो पुरुष हो या महिला, रोजा हर मुसलमान पर फर्ज है किसी भी हालत में रोजे को नहीं छोड़ा जा सकता है। इस महीने अल्लाह अपनी रहमत की बारिश करता है और हर इन्सान की इतनी कुव्वत और ताकत देता है कि वो पूरे दिन के रोजे को पूरे एहतराम के साथ रख सके। रमजान के दौरान मुसलमान रोजा रखते हैं और इबादत में वक्त गुजारते हैं। इबादत के दूसरे तरीकों की तरह रोजा भी एक बाहरी रूप है जिसे हम जानते हैं। जो रोजा रखते हैं लेकिन गलत काम करते हैं वे रमजान के दौरान रोजा रखने का महत्व नहीं समझते। मुहम्मद साहब ने कहा है कि ऐसा करने वालों को सिर्फ भूख और प्यास ही मिलती है। इस महीने में रोजे रखना सभी बालिग और स्वस्थ्य लोगों के लिए वाजिब (अनिवार्य) बताया गया है। बीमार, बूढ़े, सफर कर रहे लोगों, गर्भवती महिलाओं और दूध पिलाने वाली माओं को रोजे रखने या ना रखने की आजादी दी गई है।  रोजा सिर्फ इस बात का नही होता है कि सुबह फ़ज्र के वक्त से मगरिब की अजान तक कुछ खायें ना बल्कि रोज़ा हमारे पूरे जिस्म (शरीर) का होता है, हम किसी की बुराई न करें, क्योंकि हमारा मुँह का रोजा होता है, आँख से गलत न देखें, उसका भी रोजा होता है, रमजान के महीने में जितना जिससे हो सके वो गरीबों, यतीमों, बेरोजगारों और जितने भी बेसहारा और जिन्हे मदद की जरूरत है, उन्हें हमें कुछ तक्सीम करते रहना चाहिये। ये हमारा फ़र्ज है इस महीने में अल्लाह अपनी नेमत बरसाता रहता है, अल्लाह देने देने वालों को और ज्यादा देता है। रमजान के महीने में हर मुसलमान जो हैसियत रखता है उसे गरीब, बेसहारा, यतीमों को फ़ितरा और ज़कात देना चाहिये, उसके ऊपर फ़र्ज है, इस महीने में अगर आप 1 रुपये खर्च करेंगे तो अल्लाह आपको 70 रुपये नेकिया देता हैं। रमजान इबादत और रहमतों का महीना है अल्लाह अपने बन्दों पर रहमत और बरकतों की बारिश करता है, हर मुसलमान को चाहिये की वो सच्चे दिल से रोज़ा रखे, नमाज़ पढ़े, कुरआन की तिलावत करे, अल्लाह अपना रहम और करम फरमायगा। 10 साल की उम्र से हर बच्चे पर रोजा फर्ज़ है, रोजा किसी भी तरह छोड़ना नही चाहिये एक रोज़ा छोड़ने पर बहुत बड़ा गुनाह जिसने 1 रोजा छोड़ा वो अल्लाह और बरकतों से महरूम रह गया।
 हर मुसलमान के लिए जकात देना भी इस्लाम में वाजिब (फर्ज) बताया गया है। जकात उस पैसे को कहते हैं जो अपनी कमाई से निकाल कर खुदा की राह में खर्च किया जाए। इस पैसे का इस्तेमाल समाज के गरीब तबके की सेवा के लिए किया जाता है।
 मान्यता है कि जकात रमजान के महीने में बीच में ही दे देनी चाहिए ताकि इस महिने के बाद आने वाली ईद पर गरीबों तक यह पहुंच सके और वह भी ईद की खुशियों में शरीक हो सकें। रमजान के अगले महिने की पहली तारीख को ईद-उल-फित्र का त्यौहार मनाया जाता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति