सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वक्री और अस्त शनि के फल

शनि स्थूल रूप से एक राशि पर 30 माह रहते हैं। और प्रतिवर्ष वार महीने या 140 दिन वक्री रहते हैं। वक्री होने के 5 दिन आगे पीछे स्थिर रहता है। शनि सूर्य से चैथी राशि पार करते ही वक्री हो जाता है। सूर्य से पांचवी, छठी राशि पर वक्री, सातवी और आठवी राशि पर अति वक्री और नवमी व दसवी राशि पर कुटिल हो जाता है। वक्री शनि अपने से 12वीं राशि का फल देता है, और अति अशुभ फल और आयु क्षीण करता है। जंमस्थ वक्री जातक के जाॅब तक कई बार परिवर्तन कराता है। आत्मविश्वास में कमी देता है। अशांति, असन्तुष्टि, शक्कीपन, असुरक्षा व स्वार्थी बनाता है। अन्र्तमुखी, निराशाबादी एकांतवासी, लापरवाह, खोखले, डरपोक व समझौतावादी होते हैं। लग्न मे वक्री शनि अहंकारी, अड़ियल, विद्वान, कुटिल, कूटनीतिक, धनवान बनाता है। लग्न में उच्च या स्वग्रही या धनु मीन राशिगत षनि उच्च पद और राजा के समान वैभव देता है।
 द्वितीय भावस्थ वक्री शनि भौतिकतावादी, कटुभाषी, खर्चीला, परदेश मे धन कमाता है। तृतीय भावस्थ वक्री शनि शिक्षा, भाई बहनों के प्रति लापरवाह रहता है। अशांत, धनहानि, प्रतापी और शास्त्रों का ज्ञाता होता है। 
 चतुर्थ भावस्थ वक्री शनि अति भावुक, जायदाद के प्रति लापरवाह उच्च या स्वग्रही हो तो जायदाद मिलती है।
 पंचम भावस्थ वक्री शनि संतान के प्रति लापरवाह, प्रेम मे अति स्वार्थी, कामुक, अपमानित होता है। 
 शष्ठ भावस्थ वक्री षनि अति रिर्जव, रोगी, शत्रु रहित, शत्रुहन्ता किन्तु नीच शत्रुआंे से पीड़ित रहता है। 
 सप्तम भावस्थ वक्री शनि पार्टनरों से हानि, अस्थाई पार्टनर, अहंकारी, पत्नी मित्रों के प्रति शंकालु, कटु आलोचक व अविश्वास करने वाला होता है। विधवा, विधुर, तलाकशुदा तथा पति-पत्नी के मध्य आयु का काफी अंतर या बड़ी उम्र की पत्नी देता है। 
 अष्ठम भावस्थ वक्री शनि अति विद्वान, दुष्ट, विद्याओं का दुरूपयोग करके धन कमाने वाला होता है।        अष्ठमेश अल्पायु, नवमेश भाग्य मे अचानक पतन, दशमेश जाॅब मे कई बार परिवर्तन कराता है। लाभेश आय मे अचानक हानि या बेरोजगारी देता है। अस्त शनि के फल:- अस्त शनि कर्मों, मेहनत, योग्यता का पूरा फल ना मिल, जाॅब में उतार-चढ़ाव, एकाकीपन, उदासी, गठिया, लकवा रीढ की हड्डी के रोग, टी. बी., बेराजगारी, पिता या उच्चाधिकारियों में मतभेद। यदि शनि लग्नेष हो तो रोग, द्वितीमेश हो भारी कर्जा, तृतीयेश हो तो छोटे सहोदरों की मृत्यु या कश्ट, चतुर्थेश हो तो माता को रोग, वाहन, मकान, शिक्षा मे बाधा, षश्ठेश हो तो रोग, काला जादू, सप्तमेश विवाह विलंब, दुःखी वैवाहिक जीवन, अष्ठमेश रोग, अल्पायु नवमेश भाग्य हानि पिता को रोग, दशमेश हो तो बेराजगाारी, लाभेश हो तो  आय हानि, व्यय हो तो सुख हानि। अष्ठमेश अल्पायु, नवमेश भाग्य मे अचानक पतन, दशमेश जाॅब मे कई बार परिवर्तन कराता है। लाभेश द्वादश भावस्थ वक्री शनि अन्र्तमुखी प्रतिभा दे। घुमक्क्ड़, लापरवाह, निर्दयी, निर्धन, खर्चीला, दुःखी, अपाहिज, नीच संगति, शत्रुओं द्वारा पराजित होता है।
 लग्नेश वक्री शनि रोग चिंता, धनेश धनहानि, तृतीयेश डरपोक सहोदरों की हानि, अस्त शनि के फल, पंचमेश संतान बाधा, सप्तमेश विवाह विलंब, पाति-पत्नी में अस्थाई अलगाव, अष्ठमेश रोग, अल्पायु नवमेश भाग्य हानि पिता को रोग, दशमेश हो तो बेराजगाारी, लाभेश हो तो  आय हानि, व्ययेश हो तो सुख हानि।
 नवम भावस्थ वक्री शनि धर्मान्ध, हठी, अध्यात्मिक ज्ञान का दुरूपयोग करने वाला होता है। पुरानी इमारतों की मरम्मत कराने वाला और उनसे धन कमाता है।
 दशम भावस्थ वक्री शनि पद व अधिकारों का दुरूपयोग करने वाला ठंडे स्वभाव के, मुर्दादिल यदि कर्क का हो तो अति भावुक, अहंकारी, लापरवाह उच्च पदाधिकारी होता है। कानून का ज्ञाता, वकील, जज बनाता है। मिथुन का या स्वग्रही शनि उच्च पद व भारी लाभ देता है। लाभ भावस्थ वक्री शनि मित्रों, संबधियों से मतभेद, नीच लोगों से संगति व सम्मान पाये, चापलूसी पंसद होता है। स्त्री, संतान को हानि हो।   


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति