सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विजयदशमी श्रेष्ठ मुहूर्त है

शारदीय नवरात्रि की समाप्ति पर दशमी तिथि को विजयादशमी का पर्व पड़ता है। आम भाषा मे इसे दशहरा कहते हैं। इस तिथि का अपना ज्योतिषीय, धार्मिक व तांत्रिक महत्व है। यह तंत्र-मंत्र बाधा नाश, शत्रु विनाश, दरिद्रता नाशक, मुकदमा विजय तथा अन्य प्रकार की तंत्र क्रियाओं के लिये श्रेष्ठ मुहूर्त है। यह तंत्रशास्त्र मे यह भाग्य जगाने का सर्वोत्तम समय माना जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान विष्णु के आठवें अवतार प्रभु श्री राम ने शारदीय नवरात्रि में नौ दिन तक माँ दुर्गा की नित्य 108 कमल पुष्पों से साधना की और उनसे प्राप्त वरदान और शक्ति की मदद से विष्व के सबसे शक्तिषाली राक्षस लंकापति रावण का वध करके उसके अत्याचारों से पीड़ित मानवता की और तीनों लोकों की रक्षा की थी। विद्वान ऋषियों व पूर्वजों ने दशहरा पर्व पर जीवन की अनेक समस्याओं को हल करने हेतु विशेष साधनाओं को जन्म दिया था। कुछ सरल और ज्योतिषीय उपाय निम्नलिखित हैं।
1. यदि घर मे किसी प्रकार का जादू टोना किया गया हो तो दशहरे की रात में सात काली कौड़ी काले धागे मे बांध कर दरवाजे की चैखट में लटका दें। तो जादू टोना किया खत्म हो जायेगा।
2. व्यापार वृद्धि हेतु दशहरा की रात कपूर और रोली को जला कर इसकी राख बना लें। और इस राख को चाँदी की डिब्बी में भर कर एकादशी को गल्ले में रखें।
3. दशहरे के दिन किसी मंदिर मे लगे पीपल के वृक्ष में सफेद ध्वजा लगाने से व्यापार की बाधा दूर हो। 
4. यदि जातक तंत्र प्रहार से ग्रसित हो तो दशहरे की रात काले तिल या काले चावल की काले वस्त्र चार की छोटी छोटी पोटलियां बनायें और फिर राम रक्षा का पाठ करके इन्हें घर के चारों कोने में गाढ़ दें। 
5. यदि आप कर्जे से ग्रस्त हों तो दशहरे की रात आध पाव काली राई हाथ मे लेकर घर के तीन चक्कर लगायें फिर घर से निकल कर 'ऊँ हलीं क्लीं महालक्षभ्यों नमः' का 21 बार पाठ करके इन्हें किसी तिराहे पर तीनों मे राई फेंक कर बिना पीछे देखें वापस आयें और हाथ पैर धोकर घर में प्रवेश करे।
6. कर्ज मुक्ति के लिये अष्ठमी की रात किसी एकान्त मे जाकर एक गढढा खोद कर तीन कौड़ियां और तीन गोमती चक्र दबा दें। फिर मट्टी में लाल व हरा गुलाल मिलाकर गढढा भर दें उसके उपर पीला गुलाल से कर्जदार का नाम लिख दें, फिर दशहरे की रात पान के पत्ते पर तीन बताषे, घी में डूबी दो लौगंे, तीन बड़ी इलायची, थोड़ा सा गुड़ और काले तिल किसी वीरान चैराहे पर रख कर सेन्दूर छिड़क कर पान के पत्ते से ढक दें।
7. धन लाभ हेतु दशहरे की रात किसी देवी मंदिर में दो अलग-अलग जगह पर आध पाव रोली, आध पाव सेंन्दूर, सवा मीटर लाल कपड़ा, जटा नारियल, 21 रूपया रख कर पूजन करे। फिर दो ढेरों में से एक स्थान की सामग्री मंदिर में चढा दें। दूसरे स्थान की सामग्री लाल कपड़े मे बंाध कर घर मे रख दें। फिर 21 दिन तक इसे धूप-दीप दिखायें।
8. मनोकामनार्पूिर्त के लिये दशहरे की रात नये सूती वस्त्र में एक जटा नारियल की पूजा करके बांध दें। और रात में बिना बोले इसे चैराहे पर रख आयें।
9. यदि आपका पैसे कही डूबा हों और मांगने पर नही मिल रहा हो तो दशहरे की रात एक गोमती चक्र लेकर दुर्गा जी का नाम लेकर जायें और फिर गढढा खोद कर गोमती चक्र गाढ दें उस पर कर्जदार का नाम लेते हुये सेंदूर छिडकें और एक नीबू काट कर बिना बोेले वापस चले आयें।
10. यदि आपका प्रमोशन नही हो रहा है। तो दषहरे की रात जितने वर्श आपकी नौकरी या व्यवसाय के बीत गये हो उतने गोमती चक्र लेकर किसी शिवलिंग पर चढा दें और बिना बोलें वापस आ जायें।
11. यदि बेरोजगारी की समस्या हो तो दशहरे के दिन आपने हाथ से अषोक के आठ-आठ पत्ते के दो गुच्छे बनायें और उसक अपने मुख्य दरवाजे के दोनो ओर बांध दे और दीवाली तक रोज शाम को धूप-दीप दिखा कर माँ दुर्गा से रोजगार देने की प्रार्थना करें। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति