सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारतीय संस्कृति ही कर्म प्रधान संस्कृति है

झांसी। श्री कुंजबिहारी संगीत वेद वेदांत आश्रम में पत्रकार वार्ता एवं सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए बुन्देलखण्ड धर्माचार्य महंत राधा मोहन दास महाराज ने बताया कि प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक भारतीय संस्कृति कर्म प्रधान संस्कृति है। सर्वांगीणता, विशालता प्रेम और सहिष्णुत की दृष्टि से अन्य देशों की संस्कृतियों की अपेक्षा भारतीय संस्कृति अग्रणी स्थान रखती है। भारत की संस्कृति बहुआयामी है जिसमें भारत का महान इतिहास विलक्षण भूगोल और सिंधुघाटी की सभ्यता के दौरान बनी, आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई। यह अतिश्योक्ति नहीं होगा कि भारतीय संस्कृति ही भारत के प्राण हैं।
बुन्देलखण्ड धर्माचार्य ने कहा कि भारत की संस्कृति रीति-रिवाज, भाषायें, प्रथायें और परम्परायें एक-दूसरे से परस्पर सम्बन्धों में महान विविधताओं को एक अद्वितीय उदाहरण देती है। भारत की कई धार्मिक प्रणालियों जैसे कि हिन्दू, जैन, बौघ, सिख धर्म जैसे धर्मों का जनक हैं। इस मिश्रण से भारत में उत्पन्न हुये विभिन्न धर्म और परम्पराओं ने विश्व के अलग-अलग हिस्सों को भी बहुत प्रमाणित किया है। उन्होंने कहा कि आधुनिकता की चकाचैंध में हुये परिवर्तिन से भारतीय संस्कृति भी अछूती नहीं है। आज भारतीय युवाओं में पश्चात्य संस्कृति का प्रभाव सिर पर चढ़कर बोल रहा हैं परिणाम स्वरूप घर, गली, मोहल्ला, प्रदेश और देश में बिखरते परिवार व उनमें कटुता का भाव बढ़ता देखा जा सकता है। विश्व में भारतीय संस्कृति की धीमी होती चमक को बरकरार रखने के उद्देश्य से श्री कुंज बिहारी संगीत वेद वेदांत आश्रम की स्थापना आज से एक पूर्व सफला एकादशी के दिन की गई थी। ब्रह्मलीन महंत गुरूदेव भगवान बिहारीदास महाराज आजीवन भारतीय संस्कृति को बढ़ाव देते रहे है। मंदिर परिसर में प्रत्येक मंगलवार की सायं सांस्कृति संध्या का आयोजन वर्षों से होता चला आ रहा है। उसी पद्घति पर चलकर स्थापित कुंजबिहारी संगीत वेद वेदांत आश्रम में बालक, युवा व प्रौढ़ प्रतिदिन शास्त्रीय संगीत की विधाओं की जानकारी से न सिर्फ अवगत होते हैं बल्कि नित्य अभ्यास कर सीखते है और उसका अनुसरण भी करते हैं।
श्री गुरूदेव भगवान की स्मृति एवं संगीत वेद वेदांत आश्रम के एक वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में श्रीधाम वृन्दावन के कलाकारों द्वारा भगवान की दिव्य रासलीला एवं रामलीला के माध्यम से भगवान के दिव्य चरित्रों का बहुत ही सुंदर चित्रण एवं मंचन किया जा रहा है। इस मौके पर महाराज श्री ने नगर के वरिष्ठ पत्रकारों व छायाकारों को सम्मानित कर यशस्वी लेखनी के माध्यम से राष्ट्र के विकास में सकारात्मक योगदान की अपेक्षा करते हुये सभी को सुभाशीष दिया। कार्यक्रम में श्रीधाम वृन्दावन की आदर्श रास मण्डल के कलाकार, रामलील व्यास राधाबल्लभ वशिष्ठ, रासलीला व्यास व्यास देवेन्द्र वशिष्ठ, मनमोहनदास, बालकदास एवं परमानंद दास महाराज सहित कई विद्वान मौजूद रहे।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति