सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मूत्रकृच्छ्र या मूत्रषोथ

मूत्रकृच्छ्र यह मूत्रमार्ग का रोग है। वात, पित्त, कफ आदि तीनों दोषों के अलग-अलग या संयुक्त से प्रकोप होने से मूत्रनली या मूत्रमार्ग मे संकोच होने से मूत्रमार्ग से मूत्र आने मे कश्ट होता है तथा रूकावट होती है, मूत्रमार्ग मे जलन या पीड़ा होती है। जिससे मूत्र कम आता है। या मूत्र नही आता है कभी-कभी मूत्रनली में कीटाणु अर्थात बैक्टिीरिया के संक्रमण (अटैक) के कारण भी मूत्रावरोध, कष्टप्रद, तीव्र जलनयुक्त या पीड़ा युक्त मूत्र त्याग होता है। यह मूत्रमार्ग रोग स्वतंत्र या उपसर्ग 8 प्रकार का होता है।
1. वातज मूत्रकृच्छ्र
2. पित्तज मूत्रकृच्छ्र
3. कफज मूत्रकृच्छ्र
4. सन्निपातज मूत्रकृच्छ्र
5. शुक्रकृच्छ्र
6. विट वृच्छ्र
7. घात कृच्छ्र
8. अष्मरी कृच्छ्र
मूत्राघात-  मूत्र के आवेगों मे चोट या घात के कारण बाधा या रूकावट होती है। तब यह मूत्राघात रोग कहलाता है।
 इस प्रकार मूत्रकृच्छ्र रोग मे सिर्फ मूत्र निकलने मे रूकावट या पीड़ा या जलन होती है। इसलिये मूत्र निकलने मे केवल मूत्रमार्ग का रोग है दोषों या आगन्तुक कारणों से मूत्रमार्ग का अवरोध या संकोच होने से मूत्र निकलने मे कठिनाई होती है। इस रोग मे मूत्र आने की प्रवृत्ति तो होती है। किन्तु मूत्र आने मे असहनीय तेज जलन या कष्ट होता है।
 गनोरिया या सुजाक मे मूत्रमार्ग के घाव मे मवाद के जम जाने से मूत्रमार्ग बंद या रूक जाता है। इसलिये मूत्र निकलने मे भंयकर दर्द या असहनीय पीडा़ होती है।
 मूत्रकृच्छ्र के कारण- अत्याधिक व्यायाम, तेज औषधियों का सेवन, अत्याधिक मद्यपान, रूखे पदार्थ खाना, तेज चलने वाले घोड़े की सवारी करने से, आनूप जन्तुओं के मांस का सेवन करने से अध्यश या अजीर्ण से मनुष्यों मे उपरोक्त 8 प्रकार के मूत्रकृच्छ्र रोग पैदा होते है।
 अपने अपने कारणों से प्रकुपित वातादि दोष अलग-अलग या एक साथ वस्ति मे पहुँचकर मूत्रमार्ग मे संकोच, दवाब उत्पन्न करते है। तब मूत्रत्यग करते समय रोगी को असहनीय जलन या रूकावट, पीड़ा होती है इस अवस्था मे मूत्राशय मूत्र से भरी होती है। रोगी को मूत्रत्याग की इच्छा भी होती है। किन्तु मूत्रमार्ग मे जलन विकार के कारण कष्ट से मूत्र निकलता है।
1. मू़त्राशयगत कारण- मू़त्राशय को कला मे सूजन, मू़त्राशय मे टयूमर, सिस्ट, मू़त्राशय मे अश्मरी, फिरंगी खंजता, हिस्टीरिया, मूत्र की अधिक अम्लता, मूत्र कृमियों का अधिक बनना मुख्य कारण होते हैं। 
2. मू़त्रप्रणाली गत कारण-मूत्रपरक शोथ (यूरेथ्राइटिस), गनोरिया तथा षिश्नगत मूत्र मार्ग मे उपसंकोचक (यूथ्रिल स्ट्रैक्चर) इन कारणों से भी मूत्र मार्ग मे अवरोध होता है।
अन्य कारण- पौरूष ग्रन्थि की वृद्धि (प्रोस्टेªटाइटिस) तथा अर्श से भी मूत्रकृच्छ्र होता है। मूत्राशय पर बुरा प्रभाव डालने वाले व्यायाम, शराब का गुण तीक्ष्ण है। अत्याधिक मद्यपान, खाद द्रव्यों पदार्थो के त्याग सन्निपातज मूत्रकृच्छ्र।
1. वातिक मूत्रकृच्छ्र-इस मूत्रकृच्छ्र मे वंक्षण, वस्ति और मूत्रेन्द्रिय मे भंयकर पीड़ा होती है, बार-बार थोड़ा मूत्र आता है। 
3. पैत्तिक मूत्रकृच्छ्र मे मूत्र पीला और कभी-कभी रक्त युक्त होता है, मूत्र त्याग मे पीड़ा और जलन होती है। 
4. कफज मूत्रकृच्छ्र मे वस्ति और मूत्रेन्द्रिय मे भारीपन, शिथिलता व शोथ पीड़ा हो जाता है।
5. सन्निपातज मूत्रकृच्छ्र मे सभी दोषों के लक्षण होते है, और यह अत्यन्त कष्ट साध्य हेाता है।
मूत्रवाही स्त्रोंतों मे आपरेशन कराने या बाहरी आघात लगने से क्षत होन से भंयकर मूत्रकृच्छ्र होता है। इसे वातक मूत्रकृच्छ्र के समान लक्षण होते है। मन के वेग को रोकने से वायु विलोम होकर पेट मे आहमान या दर्द या मूत्रवरोध कर देता है। जिस मूत्रकृच्छ्र का कारण पथरी होती है। उसे अष्मरी मूत्रकृच्छ्र कहते है। अपने स्थान से गिरा हुआ शुक्र जब दोनों के प्रकोप से अवरूद्ध होकर मूत्रमार्ग मे रूक जाता है। उस दशा मे रोगी को षुक्र सहित मूत्रत्याग कष्ट के साथ होता है। वस्ति और लिंग मे पीडा़ होती है। पथरी और शर्करा के लक्षण समान है। पथरी ही पित्त से परिपाचित और वायु से सूख जाने के कारण तथा कफ रूपी जोड़ने वाली वस्तु के नष्ट हो जाने पर छोटे-छोटे टुकड़ों मे बाहर निकलती है। इसको शर्करा कहते है। पथरी व शर्करा से उत्पन्न मूत्रकृच्छ मे हृदय मे पीड़ा या र्दद, कम्पन, कमर मे दर्द, अग्नि की दुर्बलता, मूच्र्छा तथा भंयकर मूत्रकृच्छ्र होता है। मूत्र के वेग के साथ शर्करा निकल जाने पर दर्द  तब तक शांत रहता है, जब तक दूसरी शर्करा मूत्रवाह स्त्रोत के मुख को फिर से बंद ना कर दे।
मूत्रकृच्छ्र चिकित्सा-
1. गोक्षुरादि गुगल, 1-1 गोली सुबह शाम आधा कप पानी से।
2. पुर्ननर्वादि गुगल, 1-1 गोली सुबह शाम आधा कप पानी से।
3. चन्द्रप्रभावटी 1-1 गोली सुबह शाम आधा कप दूध से।
4. शिलाजत्वादि वटी 1-1 गोली सुबह शाम आधा कप दूध से।
5. पुर्ननवा मंडूर 120 मिग्रा व प्रवालपिष्टी 60 मिग्रा मिला कर सुबह शाम आधा शहद से लंे।
6. यशद भस्म 20 मिग्रा सत्वगिलोय 5. मिग्रा पुर्ननवा मंडूर 80 मिग्रा सुबह शाम आधा कप दूध या शहद से लें।
7. मूत्र मे जलन होने पर स्वर्णसूतशेखर रस 1 गोली पुर्ननवा मंडूर 80 मिग्रा सुबह शाम आधा शहद से।
8. भृंगराज आसव 4 चम्मच समान जल से भोजन के बाद दोनो समय लें।
9. अष्चगंधारिष्ट और पुर्ननवासव 2-2 चम्मच 4 चम्मच पानी मिला कर भोजन के बाद दोनो समय लें।
10. सिरप नेफ्राल 2 चम्मच भोजन के आधा घंटे के बाद दोनो समय लें।
11. सिरप यूरेाली डेढ चम्मच भोजन के बाद दोनांे समय एक सप्ताह लें।
12. लोध्रासव 3 चम्मच चाय के 3 चम्मच पानी मिला कर भोजन के बाद दोनो समय एक सप्ताह लें।
13. त्रिनेत्राख्यो रस 1 गोली सुबह शाम  दूध या पानी से।
14. वरूणाथ लोध 1 गोली सुबह शाम दूध या पानी से।
15. मूत्रकृच्छ्रान्तक रस 1 गोली या 80 मिग्रा सुबह शाम पानी से।
16. मूत्रकृच्छ्रान्तक योग 80 मिग्रा सुबह शाम पानी से।
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति