सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में जांची गई हजारों लोगों की सेहत


'दीन सबन्ह को लखत हैं, दीनहिं लखै न कोय।
जो रहीम दीनहिं लखै, दीनबन्धु सम होय।।' 
वास्तव में ऐसे कम लोग हैं जो दीन दुखियों की पीड़ा पर द्रवित होते हैं। जो गरीबों निराश्रितों की मदद के लिए तत्पर होते हैं वे न केवल समाज सेवा का भेश बनाने वालों के लिए एक आदर्श बनते हैं बल्कि पीड़ितों के लिए परमात्मा के अवतार जैसे साबित होते हैं। समाज में अपनी सेवाओं के माध्यम से लोकप्रियता के पायदान चढने वाले विकास कंस्ट्रक्शन कम्पनी के एमडी व युवा समाजसेवी विकास सिंह जिले में ऐसी ही एक शख्शियत बन चुके हैं जो गरीबों, निराश्रितों व असहायों की पीड़ा पर द्रवित होकर तन, मन और धन से उनकी सेवा कर रहे हैं। विकास सिंह द्वारा लगवाए गए निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में हजारों मरीजों ने लाभ प्राप्त किया। शिविर में भाग लेने वाले जिले के नामचीन चिकित्सकों व डलमऊ विकास क्षेत्र, रायबरेली में साम्प्रदायिक सौहार्द कायम रखने तथा विभिन्न क्षेत्रों में जनसेवा करने वाले सैकड़ों लोगों का सम्मान भी विकास सिंह के द्वारा किया गया। उपेक्षा का दंश झेल रहे समाज के असहाय व निराश्रित गरीबों की निःस्वार्थ सेवा में सतत् संलग्न युवा समाजसेवी विकास सिंह को अपने बाबा स्व. अवधेश सिंह की पुण्यतिथि पर डलमऊ ब्लाक के बलीपुर बाजार में एक विशाल निरूशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में क्षेत्र भर से उमड़े विभिन्न रोगों व बीमारियों से पीड़ित हजारों मरीजों को सुविधाजनक चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराने के लिए विकास व उनकी पत्नी जूही सिंह दोनों लोग स्वयं जुटे रहे। विभिन्न रोगों के दर्जनों विशेषज्ञ डाक्टरों की टीम मरीजों से ऐसे पेश आ रहे थी जैसे वे उनके अपने परिजन हों। सुबह से शिविर में मरीजों का तांता लगना शुरू हो गया था। शिविर में शुगर, ब्लड प्रेशर, खून, ह्दय रोग, फेफड़ों आदि की जांच भी की गई। नेत्र परीक्षण की सुविधा मरीजों को उपलब्ध कराई गई। मरीजों मुफ्त दवाइयों के साथ वॉकर, कान की मशीन, रोटा व्हेलर आदि उपयोगी सामाग्री भी उपलब्ध कराई गई। इसके अलावा अन्य सामान्य बीमारियों से पीड़ित लोगों ने जांच करा कर दवाएं लीं। स्वास्थ्य शिविर में इण्डियन मेडिकल एसोसिएशन रायबरेली के अध्यक्ष डा. केपी वर्मा, सचिव डा. मनीष, कार्यक्रम अधिकारी डा. केएस सिंह, डा. राजेश गुप्ता, डा. मनीष सिंह चैहान, डा. हेमंत सिंह, डा. मनीष मिश्रा, डा. बृजेश सिंह और डा. रजा अब्बास की टीम ने रोगियों की जांच की। शिविर के बाद सभी चिकित्सकों को विकास कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा अंग वस्त्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इसके बाद क्षेत्र के सैकड़ों लोगों को उनकी उल्लेखनीय सेवाओं के लिए प्रशस्ति पत्र व अंग वस्त्र देकर सम्मान किया गया। आयोजक विकास सिंह की मानें तो स्वस्थ्य व्यक्ति प्रसन्न रहता है और खुशहाल व्यक्ति ही सम्पन्न माना जाता है। उन्होने कहा कि इसीलिए उन्होंने स्वास्थ्य सेवा को अपना आदर्श बनाया है। श्री सिंह ने कहा कि हर व्यक्ति को जाति, धर्म और अन्य तमाम प्रकार के भेद भुलाकर समाज के हर वर्ग की सहायता के लिये सबसे पहले हाथ बढ़ाना चाहिए ताकि एक अच्छे समाज की संरचना हो सके। इस मौके पर राम नरेश सिंह, राम बरन सिंह, उदयभान सिंह, बृजभान सिंह, व्यापारी नेता अतुल गुप्ता, राजेश सिंह, शिशुपाल सिंह प्रधान कठगर, ओमदत्त सिंह प्रधान गंजबड़ेरवा, राम किशन फौजी प्रधान जगतपुर, शिवबरन पासी प्रधान प्रतिनिधि बलीपुर, मदन सिंह, अरून सिंह, विष्नु सिंह प्रधान जहानामऊ, जानकी शरण सिंह, महेन्द्र अग्रवाल, प्रभाकर गुप्ता, शनि सिंह, त्रिचोलन सिंह छाबड़ा, सभासद पूनम तिवारी सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे। शिविर को सम्पन्न कराने में सराहनीय योगदान देने वाले धुन्ना सिंह ने सबका आभार प्रकट किया।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति