सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाज के हर तबके की सुरक्षा व उन्हें न्याय दिलाना पुलिस का परम कर्तव्य है

प्रदेश में कानून व्यवस्था सुदृढ़ करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। कानून व्यवस्था को अधिक चुस्त दुरूस्त करने के लिए नित नई-नई चुनौतियों का सामना करना भी परम आवश्यक है। पुलिस एवं प्रशासन प्रबन्धन सुचारू प्रणाली का एक महत्वपूर्ण अंग है। समाज में कानून के शासन एवं शान्ति व्यवस्था की स्थापना में पुलिस की महत्वपूर्ण भूमिका है। समाज के हर तबके की सुरक्षा व उन्हें न्याय दिलाना पुलिस का परम कर्तव्य है। हर पीड़ित व्यक्ति पुलिस से कुछ अपेक्षाएं रखता है और हमें किसी भी भेदभाव को अपनाए बिना उन्हें न्याय दिलाने को वचनबद्ध रहना है। पुलिस जनता से पुलिस मित्र, मृदुल व्यवहार, गरीब असहाय की मदद करें तथा अपनी शक्ति का असमाजिक तत्वों से निपटने अहंकार गुण्डों, शरारती तत्वों के विरूद्ध कार्यवाही करें। अपने कर्तव्यों का अनजाम जातिय, धर्म, सम्रदाय से उठकर करें। वर्दी के अहंकार में न रहें। प्रदत्त अधिकारों का दुरूपयोग न करें, जब भी जनता के बीच जायें तो आपकी मौजूदगी वर्दी से सुरक्षा महसूूस हो। उनके बीच आत्मविश्वास बडे़। 
मुख्य अतिथि जिलाधिकारी रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने 25वीं वाहिनी पीएसी के परेड ग्राउण्ड में आयोजित दीक्षांत समारोह (पासिंग आउट परेड) को सम्बोधित करते हुए कहा कि पासिंग आउट परेड के बाद पीएसी/पुलिस की वर्दी का महत्व बढ़ जाता है। आज से पीएसी पुलिस परिवार में शामिल हो गये है। ऐतिहासिक दिवस है। परिवार में शामिल होने पर जिम्मेदारियां भी बड़ जाती है। व्यक्तिगत लाइफ से लेकर पब्लिक लाइफ, मीडिया तथा आमजनता की नजर में आज से निरंतर समीक्षा होती रहेगी। पत्नी के प्रति माता पिता के प्रति, साथियों के प्रति, वर्दी के प्रति आदि पर भी पब्लिक आदि की नजर रहेगी। परिवार में शामिल होने का मतलब यदि कोई उंगली उठेगी तो ये पूरे परिवार पुलिस/पीएसी फोर्स महकमें पर उठेगी। अपना ही नही इससे विभाग का नाम भी जुड जायेगा। 
जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना, सेनानायक डा. अरविन्द्र भूषण पाण्डेय व उप सेनानायक बृजेश कुमार गौतम आदि की दीक्षांत परेड समारोह में उपस्थित पीएसी के जवानों को कर्तव्य निष्ठा, भारतीय संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा रखने के साथ ही राष्ट्रीय एकता व अखण्डता को अक्षुण्ण रखने की शपथ दिलाई। उन्होंने पीएसी के जवानों द्वारा परेड की सलामी ली तथा परेड का अवलोकन किया। सेना नायक डा0 अरविन्द भूषण पाण्डेय, उपसेना नायक बृजेश कुमार गौतम, सहायक सेना नायक देव नारायण यादव, चिकित्साधिकारी डा0 विपिन गुप्ता व सेवा निवृत्त पुलिस उपाधीक्षक कालू सिंह को स्मृति चिन्हि प्रदान किया गया। इसके अलावा सर्वोत्तम रिक्रूट आरक्षियों व विभिन्न समूह विभिन्न विषयों में अच्छे अंक प्राप्त करने दिनेश कुमार, प्रांशू यादव, रोहित कुमार, अखिलेश जसवन्त, शुभम सिंह, नागेन्द्र सिंह, हेमन्त कुमार यादव, पंकज यादव, भूपेन्द्र नाथ शुक्ल, ज्ञानेन्द्र बाल विद्याधर, वीरेन्द्र प्राप्त सिंह, रवि कुमार, मनोज कुमार साहू, शशिकान्त, सुशील कुमार, वीरेन्द्र प्रताप सिंह, अमित पवार, रोहित कुमार गुरूप्रीत सिंह आदि को भी रिक्रूट आरक्षियों को दीक्षांत समारोह परेड में प्रशस्ति पत्र दिया गया। इसके अलावा उन्होंने पासिंग आउट पीएसी जवानों को भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा आहवान किया कि वे निश्चित तौर पर समाज के प्रति निष्ठावान होकर सेवा करेंगे। सेनानायक डा. अरविन्द्र भूषण पाण्डेय ने कहा कि 253 रिक्रूट आरक्षियों को सकुशल प्रशिक्षण दिया गया। आरक्षियों को आटोमेडिक प्रणाली, सर्विलांस, तामिला, गिरफ्तारी, वारंट, वीपेन टेªनिक, एके 47, थ्री नाट थ्री, एमपी 3, स्मोक ग्रेनेड चुनाव ड्यूटी, मानवधिकार, जनता के प्रति कर्तव्य तथा कानून एवं शांति व्यवस्था सहित फिजिकल टेस्ट प्रेटिकल आदि की भी ज्ञान दिया गाया। सेनानायक डा. अरविन्द्र भूषण पाण्डेय ने आए हुए अन्य अतिथियों, अधिकारियों, पत्रकारों आदि सहित कई अन्य अधिकारी व कर्मचारियों व पीएसी के जवानों का आभार प्रकट किया। 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति