सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शनिदेव दयालु भी है


भारतीय दर्शन मे शनिदेव को एक क्रूर ग्रह माना गया है, शनि को आम जनता के बीच इतना आंतक है कि यदि भूले-भटके भी घर, परिवार, शरीर मे कोई अनिष्ट हो जाये तथा कोई पंडित, ज्योतिषी इसे शनि का दोष बता दे, घर मे सबको सांप सूंघ जाता है। हजारों भयानक  अनिष्ट कर कल्पनायें उसे अंदर तक झझकोर देती है। शनिदेव की क्रूरता के हजारों लाखों किस्से जनता मे प्रचलित है। कहा जाता है कि भगवान राम व श्रीकृष्ण भी शनि के कोप से नही बच सके थे लेकिन मथुरा मे श्री कृष्ण जंमभूमि नंदगांव से चार किलोमीटर दूर गंाव के पास एक स्थान पर एक ऐसा शनि मंदिर है जहां शनि कृपालु और दयालु रूप मे विद्यमान है। यहां का शनि मंदिर करीब तीन किलोमीटर के दायरे मे फैला हुआ है यहाँ के शनि स्थान व मूर्ति की इतनी अधिक मान्यता है। कि हर शनिवार दूर-दराज के करीब पचास हजार मे भी अधिक श्रद्धालु यहाँ शनिदेव के दर्शन के लिये आते है। भक्त यहां के सूर्य कुंड मे स्नान करके मंदिर मे उड़द, तेल, लोहा व काले कपड़े का दान करते है। तथा विस्तृत क्षेत्र मे फैले मंदिर की परिक्रमा करते हैं। पौराणिक एवं ज्योतिषीय मान्यता के अनुसार शनिदेव भगवान सूर्य व उनकी द्वितीय पत्नी छाया के पुत्र है। पत्नी के शाप के कारण वह क्रूर हो गये और माता पार्वती के शाप के कारण लंगड़े हो गये चँुकि उन्हें खंज या खाज का रोग हो गया था अतः वे काले रंग के, शूद्रवर्ण और सूर्यमुख माने गये हैं उनका वाहन गिद्ध है। इन्ही की दृष्टि पड़ने के कारण श्री गणेश जी का सर कट कर गिर गया था जिससे रूष्ट होकर माता पार्वती ने इन्हें शाप दे दिया था फलतः शनिदेव लंगड़े हो गये थे।
 माता पार्वती ने इन्हें शाप दे दिया था फलतः शनिदेव लंगड़े हो गये थे कोकिला वन मूलतः ब्रज क्षेत्र का एक उपवन है। जिसकी गणना ब्रज के चैबीस उपवनों मे की जाती है। कोकिला वन का वर्णन गर्ग संहिता मे भगवान कृष्ण की रासलीला के अन्र्तगत आता है जनश्रुति है। कि रास लीला के समय एक बार स्वयं भगवान कृष्ण ने कोयल की तरह कूक कर लीला की थी तथा प्राचीन काल मे यहाँ चारों तरफ निबिड़ घोर जंगल था जिसके वृक्षों पर कोयलों की बहुतायत थी लोक कथा के अनुसार भगवन विष्णु के अवतार श्री कृष्ण के बाल रूप के दर्शन हेतु सभी देवता, सिद्ध, यक्ष. किन्नर, गंधर्व आदि सभी पहुचें तब शनिदेव भी पहुंचे तो शनि की क्रूर दृष्टि की आशंका के कारण माता यशोदा ने श्रीकृष्ण के दर्शन कराने से मना कर दिया तब भगवान कृष्ण ने अपने दिव्य रूप मे प्रकट होकर उनसे कहा कि वे नंद भवन से उत्तर दिशा मे निवास करें वहां उनके मनोरथ के लिये वे कोयल बन कर अप्रकृट रासलीला करेंगें और शनिदेव कूक सुनकर ही रासलीला का आनंद लेंगें तब से शनि यहीं विराजित है। और कृष्ण की 'नित्य निकुंज' रासलीला का आनंद लेते है यही कारण है। कि शनि देव ब्रजभूमि मे क्रूर ना होकर भक्त रूप मे विराजते हैं। और अपने श्रद्धालुओ पर कृपा बरसाते हैं। इस शनिदेव की प्रतिमा की स्थापना भरतपुर नरेश के राजपुरोहित प. रूपराम कटारा द्वारा की गयी थी। यहां शनिदेव जी की प्रतिमा काले रंग की छोटी सी है। इस प्रतिमा मे शनिदेव भैंसे पर सवार हैं। जो विलक्षण है। यहां के सूर्य कुंड का निर्माण ओरछा के राजा वीर सिंह जूदेव द्वारा 16 वीं सदी मे करवाया गया था कहा जाता है कि इस कंुड मे स्नान करने से खाज, खुजली, कोढ आदि रोग नष्ट हो जाते हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति