सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भुवल सन्यासी केस

रामेन्द्र नारायन राय भुवल रियासत के तीन राजकुमारों मे मंझले राजकुमार थे भुवल रियासत आजादी के पूर्व पूर्वी पाकिस्तान मे ढाका से पास थी पांच लाख आबादी वाली भुवल रियासत 1500 वर्ग किलोमीटर या 579 वर्गमील मे फैली हुयी थी। उनका विवाह विभादेवी के साथ हुआ था।
 वे शिकार के बेहद शौकीन थे और उन्होंने कई शेर मारे थे 1905 मे उन्हें सिफलिस हुयी थीे 1909 मे पित्त की पथरी के इलाज के लिये वे दार्जलिंग गये थे जहां 7 मई को 25 वर्ष की आयु मे उनकी मृत्यु हो गई 8 मई को उनके परिवार वालों ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया संस्कार के समय भारी आंधी तूफान आ गया और चिता से शव कही गायब हो गया पत्नी विभावती अपने भाई सत्येन बनर्जी के साथ ढाका लौट गई अगले दस सालों मे बाकी दोनो राजकुमार भी मर गये और अंग्रेजो ने रियासत का शासन अपने हाथों मे ले लिया 1920-21 में ढाका मे भभूत लपेटे हुये एक सन्यासी प्रकट हुआ उन्ही दिनांे यह अफवाह फैली कि सन्यासी भुवल स्टेट का मंझला राजकुमार है। जिसका अंतिम संस्कार पूर्ण नही हुआ था राजकुमार की बड़ी बहन का बेटा सन्यासी की जांच करने गया लेकिन वह किसी नतीजे पर नही पहुँचा फिर राजा के अंय रिश्तेदार और बहन ज्योर्तिमयी ने सन्यासी की पूरी जांच करके पाया कि उनका भाई जीवित है सन्यासी ही उनका मंझला भाई रामेन्द्र है। जिसकी लाश चिता मे जलने से पूर्व ही गायब हो गई थी 12 अप्रैल 1921 को सन्यासी हाथी पर बैठ कर ढाका आया रिश्तेदारों ने मान लिया कि वही मंझला राजकुमार है। 30 अप्रैल को संबधियो ने पुनः उसे ढाका बुलाया और सैकड़ों संबधियो और हजारो जनता के मध्य उसे पेश किया गया साधु ने अपने कई कर्मचारियो, रिश्तेदारों को पहचाना अपनी वेट नर्स को भी पहचाना जिसके बारे मे कोई नही जानता था अन्ततः सब लोगों ने उसे अपना दूसरा राजकुमार मान लिया किन्तु रानी विभावती ने उसे फ्राड और धोखेबाज बताया कुछ लोगों का कहना था कि रानी के अपने धरेलू डाक्टर के साथ गलत संबध थे और उसने ही डाक्टर के साथ मिल कर राजकुमार को मारने की साजिश रची थी राजकुमाार ने बताया कि वह दार्जलिंग मे बीमार था फिर उसे कुछ याद नही जब उसे होश आया तो उसने खुद को एक साधु धर्मदास नागर के पास पाया जिसे राजकुमार भीगी अवस्था मे जंगल मे मिला था साधु ने उसका इलाज करके अपना चेला बनाया और वह कई वर्ष तक साधु चरणदास बन कर रहा वह अपनी यादाश्त खो चुका था जब उसकी यादाश्त वापस आने लगी तो साधु ने उसे घर लौट जाने को कहा 15 मई 1921 को  जैयदभर राजावटी मे भारी भीड़ ने सार्वजनिक तौर पर उसे अपना राजकुमार घोेषित कर दिया रानी विभावतीने सन्यासी से मिलने से मना कर दिया 29 मई 1921 को राजा अपने दो वकीलों के साथ ढाका के भवल हाउस मे आये और जिला जज व कलेक्टर जे. एच. लिंडमे से मिलकर अपना दावा लिखवाया राज्य प्रबंधक पंजाब मे बाबा धर्मदास नागर से मिले जिसने बताया कि बाबा चरणदास भोपाल का मान सिंह हैं। 3 जून को राजस्व विभाग ने दावा किया कि दावेदार झूठा है, राजा के प्रमुख सहयोगी सौरेन मुखर्जी ने वकील अनंद चन्द्र राय द्वारा मामला अदालत मे पेश करने की सोची। किन्तु सन्यासी के वकील विजाॅय चन्द्र चटर्जी ने 30 अप्रैल 1930 को जिला जज एलन हैन्डरसन और पन्नालाल बोस की कोर्ट मे विभावती और अन्य जमींदारों के खिलाफ कोर्ट आॅफ वार्ड में मुकदमा दायर किया 30 नवम्बर 1933 को केस शुरू हुआ रानी ने सन्यासी को धोखेबाज बताया बाबा      धर्मदास नागर ने कोर्ट को बताया कि बाबा चरणदास भोपाल का मान सिंह है। 24 अगस्त 1936 को कोर्ट ने फैसला सन्यासी के हक मे दिया फैसले को राजस्व विभाग ने नही माना और फैसले के खिलाफ 5 अक्टूबर 1936 को कलकत्ता हाईकोर्ट मे अपील की कोर्ट के आदेश से निचली अदालत से 11,327 पेज दस्तावेज मंगाये गये तीन जजो की विशेष बेंच लिओनाॅर्ड कोस्टले, चारू चन्द्र विश्वास और रोनाल्ड फ्रान्सिस का गठन हुआ विश्वास ने राजा के हक मे फैसला दिया और बाबा धर्मदास के बयान को झूठा करार दिया 29 अगस्त 1940 को जस्टिस कोस्टले का फैसला जज विश्वास के पास आया जिसके मुताबिक उन्होने निचली कोर्ट के फैसले को बदलने से इंकार कर दिया अतः अपील निरस्त कर दी गई विभादेवी ने हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ प्रिवी कौसिंल, लंदन मे अपील की और अपील स्वीकार की गई। लार्ड मैक कर्टन, लार्ड हसर्ट डू पारेक मरी, और सर चेत्तूर माधवन नायर ने 28 दिन तक सुनवाई की 30 अप्रैल 1946 को तीनो जजांे ने राजा  रामेन्द्र नारायन राय के हक मे फैसला दे दिया और अपील निरस्त कर दी। फैसला 31 जुलाई 46 को कलकत्ता आया उसी शाम राजा साहब को स्ट®क लगा और दो दिन बाद 2 अगस्त 46 को 62 साल की आयु मे उनकी मृत्यु हो गई। 13 अगस्त को उनका श्राद्ध हुआ उनकी मृत्यु को रानी ने दैवी  न्याय व दंड बताया और 8 लाख रूपये की विरासत लेने से मना कर दिया मुकदमे मे विद्वान जजों ने राजा रामेन्द्र व सन्यासी के बीच निम्न समानतायें पाई। उनका रंग, बाल, आँखों का रंग, मूँछें, दोनो का निचला ओठ दांयी ओर मुड़ा होना, नोकदार कान, कान की ओर गाल से जुड़ी ना होना, उपरी बंाया मोलट दान्त टूटा होना, छोटे हाथ, बांये हाथ की तर्जनी और मघ्यमा दांये हाथ से छोटी होन,दांयी पलक के नीचे मस्से का दाना, पैर का आकार, सिफलिस के घाव, सर व पीठ पर जलने के घाव, घुटने के पास आपरेशन के निशान, दांयी भुजा पर चीते के हमले का घाव, लिंग पर हलका सा तिल, फोटोग्राफ, हाव भाव, आवाज, भाव भंगिमा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति