सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

देवर तोड़े पापड़ी भौजाई बीने रे!

अजमेर ब्यावर सड़क मार्ग पर केसरपुरा गांव के निवासी अजय सिंह और उनकी पत्नी हांसीबाई को 24 जुलाई 1988 को रविवार नागपंचमी के दिन एक पुत्र पैदा हुआ जिसका नाम बलराम सिंह उर्फ पप्पू रखा गया जंम से ही उसके बांये कान मे अजीब सा निषान था बाये पैर की एक उंगली मुड़ी हुयी थी सीने पर दागने जैसा निशान था पेट और पैरों पर कुछ निशान थे जिन्हें वह पूर्व जंम मे छर्रे लगने के निषान बताता था, वह बचपन से ही अपने पूर्व जंम की बाते बताता था वह नकली ट्रक बनाकर खेलता और कहता कि तुमने मेरे ट्रक को टक्कर मारी सरिया मेरे कान मे घुस गई और मैं मर गया था साथ ही बताता कि मेरे गांव मे बड़े-बड़े पहाड़ है बड़े-बड़े खेत है, दो कुयें है। एक में पंप लगा है। एक काला सांप भी रहता है। एक दिन अजय सिंह द्वारा विस्तार से पूछने पर बलराम ने बताया कि मेरा नाम मदन सिंह रावत है। मेरे गांव का नाम कोटाज है। मेरे पिता हाल सिंह रावत है, मां मर गई है, मेरी पत्नी और दो लड़कियां है। पत्नी का नाम सीता बच्चियों के नाम बीरी और सोहनी उर्फ सोनी है। मंै रोज की तरह ट्रक पर बैठकर गांव वापस आ रहा था कि ब्यावर की तरफ से आ रहे गुजरात के मूर्तियो से भरे ट्रक ने डबल फाटक के पास टक्कर मार दी वह ट्रक हमारे ट्रक के उपर चढ़ गया था, टक्कर लगते ही ड्राइवर पांचू सिंह वही मर गया खिड़की का सरिया गले मे घुस कर कनपटी के पार होते हुये कान से निकल गया था, मेरे कान मे सरिया घुस गया मैं बेहाश हो गया बाद मे मेरी मृत्यु हो गई तब मैं 22 साल का था मेरी आत्मा मरने के बाद भटक हुये इधर से गुजर रही थी मैने  अजय सिंह के यहां टेप में मारवाड़ी गाना बजते हुये सुना मुझे यह गाना बहुत पसंद था तब मैं अपनी इस जंम की मां हांसी देवी के पेट मे आ गया वह गाना था, देवर तोड़े पापड़ी भौजाई बीने रे। बलराम की बात सुन कर अजय सिंह को पत्नी के गर्भ काल यह गाना सुनने की बात याद आ गई वे अचंभित रह गये बालक जो भी भविष्यवाणी करता था वह सच हो जाती थी केसरपुरा से छह किमी दूर भील और रावत बाहुल्य कोटाज गांव है। इसी गंाव मे हालू सिंह रावत अपनी पत्नी भंवरी देवी, एक पुत्र मदन सिंह और दो पुत्रियों नौसर और मैमा के साथ रहते थे पत्नी और छोटी बेटी मैमा का निधन हो चुका था हालु सिंह ने मदन का विवाह नरवर गांव की सीता देवी के साथ कर दिया था और वह दो पुत्रियों का पिता भी बन गया था वह गांव के ट्रक ड्राईवर पांचू सिंह के साथ ट्रक पर काम करने लगा सब कुछ मजे से चल रहा था कि 18 फरवरी 1990 की रात करीब 10 बजे हालु सिंह को मदन सिंह के 1990 की रात करीब 10 बजे हालु सिंह को मदन सिंह के एक्सीडेंट की खबर लगी वह भागा-भागा अजमेर जिले के जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय पहुंचा आधी रात के बाद मदन सिंह ने दम तोड़ दिया अपने पुत्र की जिद पर अजय सिंह बलराम को कोटाज गांव लाये बच्चा सीधा हालु सिंह के घर पहुच गया उसने हालु सिंह अपनी पत्नी दोनांे बच्चियों को पहचान लिया हालु सिंह ने इस बच्चे के बारे मे नाहरपुरा निवासी शंकर सिंह से सुना बच्चे ने शंकर सिंह को पहचान लिया था लेकिन हालु को षंकर की बातों पर यकीन नही हुआ हालु सिंह को कुदरत के इस अजूबे को देख कर हतप्रभ रह गये। उन्होने पूछा तू मेरा बेटा कैसे हो सकता है। बच्चे ने कहा कि यह देखो पैर के उंगली को निशान जो कुयें पर काम करते हुये लगा था यह कान का निषान कान में सरिया घुसने का है। ये देखो सीने के दाहिने और दागने का निशान जो आपने मेरे बीमार होने पर लगवाया था आपको याद है। कि बचपन में मैने टोटे छोड़े थे उसके छर्रे मेरे दोनों पैरो मे घुस गये थे यह देखकर हालु व अंय परिजन चैंक गये उन्हें सौ फीसदी यकीन हो गया यह बाालक ही उनका मदन सिंह है। वे उसे बेतहाशा चूमते हुये खुशी से रोने लगे। हालु सिंह रावत ने बताया था कि मदन सिंह का जंम 1968 की कार्तिक माह प्रथम पक्ष (शुक्ल) की दशमी को प्रातः साढे हुआ था 
मृत्यु का जमांक-19 फरवरी 1989। रात्रि-2.00 बजे। अजमेर। धनु लग्न मे मंगल 19 अंष, षनि 27 अंश, शुक्र 28 अंश, मकर मे बुध 13 अंश, राहू 22 अंश, कुंभ मे सूर्य 6 अंश, 7 वें भाव मे मिथुन का गुरू 7 अंश, वृश्चिक का चन्द्र, अष्ठमी तिथी। 
बलराम कां जंम-23 जुलाई 1989। नाग पंचमी, साढे दस बजे। अजमेर। कन्या लग्न चतुर्थ मे धनु का शनि, कुंभ मे चन्द्र राहू, मिथुन मे गुरू 4 अंष, कर्क मे सूर्य 5 अंश, मंगल  28 अंश, बुध 8 अंश, सिंह मे षुक्र 3 अंश। चतुर्थेश शुक्र मंगल व राहू दृष्ट वाहन दुर्घटना योेग, चन्द्रमा से 8 वें भाव मे अष्टमेश शनि वक्री होकर कुंभ से चन्द्रमा से चतुर्थेश शुक्र को देखे होकर वाहन दुर्घटना योेग। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति