सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गणेश स्तूप

इन महान अनोखे ज्योतिषी, संत, शिव व देवी दुर्गा साधक, सिद्ध पुरूष पं. गणेश नारायण का जंम राजस्थान के झंुुझनु जिले के बुगाला गांव मे एक समृद्ध रूथला खण्डेलवाल ब्राह्मण, विद्वान वैद्य और नवलगढ के राज ज्योतिषी पं. घनश्याम दास नामक के घर विक्रम संवत 1903 पौष मास की कृष्ण पक्ष प्रतिपदा गुरूवार रोहणी नक्षत्र चतुर्थ चरण मे तदनुसार दिनांक 3 दिसम्बर 1846 को हुआ उनकी चन्द्र कुण्डली इस प्रकार है। वृष लग्न मे चन्द्र व गुरू वक्री, तुला मे मंगल व राहू, वृश्चिक मे सूर्य व शुक्र धनु मे बुध वक्री  कुंभ मे शनि मेष मे केतु। जंम के बाद आपके पिता नवलगढ मे द्वारिकाधीश मंदिर मे व्यस्थापक हो कर वही बस गये उनकी प्रारंभिक शिक्षा प. रूदेन्द्रजी द्वारा संचालित पाठशाला मे हुयी जिन्होने गणेशजी को ज्योतिष, आयुर्वेद, कर्मकांड और तंत्र मंत्र मे दक्ष कर दिया उन्ही दिनो एक बार जब घनश्याम जी किसी काम से बाहर गये हुये थे तो गणेश जी के चाचा नानकराम का छोटा बेटा बीमार पड़ गया तो चाचा ने गणेश जी से कहा जरा इसकी जंम पत्री देख कर बताओं कि ग्रहों का क्या चक्क्र है। 10 वर्षीय बालक गण्ेाश जी ने गणना करके बताया कि कल दोपहर तक और जीयेगा यह सुनते ही घर मे रोना पीटा शुरू हो गया तभी प. धनश्याम जी भी आ गये सारी बात जान कर क्रोधित होकर बोले गणेश क्या जंमपत्री देखेगा कल ही तो मैने उसे सिखाया है। प. घनश्याम ने स्वयं लड़के की जंमपत्री देखी सचमुच मारकेश लगा हुआ था लड़का अगले दिन बारह बजे चल बसा 11 वर्ष मे 1857 मे उनकी सगाई गोपी नाथ मंदिर के पुजारी जोधराज की पोती व प. चतुर्भज की पुत्री श्यानन्दी देवी के साथ हो गई दो साल बाद 1859 मे आपका विवाह हो गया 1874 मे गणेशजी को एक पुत्र हुआ जो एक साल मे मर गया फिर दो पुत्रियां हुयी जीवन के उत्तरार्ध मे आपने शमशान काली की सिद्धि प्राप्ति की माँ के आदेश से वे भगवान शिव के अघोर रूप की साधना करने लगे आपके मुँह से जो भी बात निकल जाती थी वो सच हो जाती थी उस जमाने के जानी मानी हस्तियां उनकी शिष्य बन गई थी थी जिनमे पिलानी के जुगल किशोर बिड़ला भी थे आप योग बल से कभी शेर तो कभी साँड़ का रूप धारण कर लेते थे एक बार गणेशजी चिड़ावा के शमशान मे बैठे थे तभी पिलानी से जुगल किशोर मिलने आ गये उन्हें देखते ही पंडित जी ने कहा रे जुगल्या आज तो तेरे चोखो दिन छ। करणी वरणी चालु रखा जे। जाज्या (अरे जुगल आज तेरा अच्छा दिन है। भवन निर्माण और ब्राह्मण द्वारा पूजा बराबर चालू रखना जा भाग जा) बिड़ला जी समझ गये कि अच्छा मुहूर्त है। उन्होने सीधे कलकत्ता जाने का विचार किया और अपना रथ नारनौल स्टेशन के रास्ते हंकवा दिया चाँदनी रात थी बिड़ला जी का रथ थोड़ी ही दूर गया था कि रास्ते के दांये ओर उन्हें एक काला सांप फन उठाये दिखाई दिया जुगल जी इसे अपशकुन समझ कर वापस पंडिती जी के पास लौट आये बिड़ला को देखते ही पंडितजी ने लौट आने का कारण पूछा उन्होने सर्प मिलने की बात बताई पंडित जी बोले रे जुगल्या तू तो गलती करी छ। तू चल्यो जातो तो चक्रवर्ती वण जातो जा अब भी तेरी कीर्ति सार फैल ज्यागी जुगल किशोर कलकत्ता चले गये और समय के साथ उन्होने ईतना पैसा और यश कमाया कि भारत ही नही बल्कि विदेशों मे भी प्रतिष्ठा पाई पंडितजी अक्सर चिड़ावा के नेमानी मोहल्ले के प्रहलाद राम नेमानी की दुकान पर बैठते थे एक दिन पंडित जी वहाँ आ गये उन्होने नेमानी से कहा ला कागज दे तेरे लड़के की जंमपत्री बना दूँ। नेमानी चैंके क्योकि उनके कोई लड़का नही था उन्हें कलम कागज दिया गया तो पंडिती जी ने जंमपत्री बना कर लड़के का नाम कैलाशेश्वर रखा एक वर्ष बाद नेमानी को पुत्र हुआ तो पुजारी कालीचरण ने बालक की जंमपत्री बनाई वह जंमपत्री पंडितजी द्वारा बनाई जंमपत्री से अक्षरशः मेल खा गई पंडित जी ने 1912 मे गुरूवार को ही शरीर त्यागा उनके दाहस्थल पर ही लोगों ने उनका एक मंदिर बनवाया और बिड़ला जी ने पंडित जी के मंदिर के पास ही उनका एक विशाल स्तूप बनवाया जो गणेश स्तूप के नाम से प्रसिद्ध है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति