गंगा यात्रा के लिए स्टीमर व नौकाओं आदि व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखे

जिलाधिकारी रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने गंगा यात्रा की तैयारी हेतु बचत भवन के सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि 27 जनवरी 2020 से 31 जनवरी 2020 क मध्य प्रदेश में गंगा यात्रा का आयोजन किया जाएगा। जिसमें जनपद भी शामिल है क्योकि उत्तर प्रदेश में गंगा नदी 26 जिलों से होकर प्रवाहित होती है। उन्होंने कहा कि गंगा के किनारे 29 गंाव है जिनके नोडल अधिकारी नामित कर दिये गये है सभी नोडल अधिकारी कल अपने-अपने निर्धारित गांव में जाकर वहां की सारी व्यवस्थाए दुरूस्त कराये गये तथा रिपोर्ट देकर कार्य योजना शीघ्र तैयार करें। जलशक्ति/सिचाई विभाग तत्काल कार्ययोजना तैयार करके जिला सूचना कार्यालय को मुहैया करवा दिया जाये ताकि कार्ययोजना को निदेशक सूचना तथा अपर मुख्य सचिव सूचना/गृह को उपलब्ध कराया जा सके। उन्हांेने कहा कि गंगा नदी के तटवर्ती क्षेत्र में पड़ने वाले सभी नगर निकायों में ओडीएफ प्लस के लक्ष्य को पूर्ण करे, सीवर/ड्रेनेज का प्रवाह गंगा नदी में न हो, पालीथीन का प्रयोग पूर्णतया रोक, गंगा आरती व सांस्कृतिक कार्यक्रम जगह चिन्हित रहे, गंगा पार्क में ओपेन जीम की व्यवस्था रहे, कार्याे में स्थानीय स्वरोजगार को बढ़ावा भी मिले। उन्होंने पुलिस अधीक्षक से कहा कि यात्रा के दौरान जहां-जहां सम्भव हो वहां स्टीमर या नौकायान से दूरी तय की जाएगी एवं जहां संभव न हो वहां सड़क मार्ग के माध्यम से यह दूरी तय की जायेगी स्टीमर और नौकाओं की व्यवस्थाए दुरूस्त रखी जाये। यात्रा के दौरान प्रत्येक दिन केन्द्रीय मंत्री से प्रतिभाग करने हेतु भारत सरकार से अनुरोध कर लिया जाये। स्थानीय सांसद, प्रदेश के मा0मंत्री तथा विधायकगण द्वारा यात्रा के दौरान गंगा नदी के किनारे पड़ने वाले सभी ग्राम पंचायतों एवं नगर निकाय में रात्रि विश्राम किया जायेगा। विधायकगण द्वारा अलग-अलग स्थानों पर रात्रि विश्राम किया जायेगा। 
जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि चयनित गांव में खेलकूद, वाद विवाद प्रतियोगिता, सामान्य ज्ञान, चित्रकला आदि प्रतियोगिताओं के साथ ही स्वास्थ्य, पशु मेलों का आयोजन भी आयोजित किये जाये। नदी के 500 मीटर के दायरे में बाढ़ क्षेत्रों को छोड़कर फलदार वृक्ष लागाकर गंगा उद्यान भी तैयार किया जाये। किसानों को फलदार वृक्ष लगाने की ओर प्रेरित करे। बैठक में अन्य बिन्दुओं पर भी विस्तारपूर्वक चर्चा की गई।