सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हस्त रेखा मे मांगलिक दोष

विवाह मेलापक भारतीय ज्योतिष और हिन्दू समाज की अत्यन्त प्राचीन व मान्यता प्राप्त परम्परा है। शिक्षित, अशिक्षित , शहरी, देहाती सभी किसी ना किसी रूप मे मेलाप को अपनातेे हैं। जिसका उददे्श्य होता हैं कि वर वधु अपने भावी जीवन मे सुखी वैेवाहिक जीवन बिताये। जिसे आम भाषा मे बनाबन, मिलान, मेलापक, जोग, संजोग कहते हैं। वैसे तो जातक के पूर्व जंम के कर्मानुसार उसके वर-वधु का चयन उसके जंम के पूर्व ही तय हो जाता है। इस संदर्भ मे यह कहावत प्रचलित है कि रिश्ते आसमान मे तय होते है। जहां संयोग होगा वहीं विवाह तय होगा। शास्त्र भी कहता  है।
 विवाहश्चार्थं अन्नं च जननं मरणं तथा।
 कण्ठे बध्वा दृढं सूत्रं यत्रस्थं तत्र नीयते।।
अर्थात विवाह, धन, अन्न, जन्म और मृत्यु जिसकी जहां बदी होती है। भाग्य गले मे मजबूत डोरी बांध कर उसे वहाँ ले जाता है।
 अशिक्षित और देहाती लोग जिनके पास जंम पत्री या जंम संबधी कोई आंकड़े उपलब्ध नही है। लड़का लड़की के नाम से ही गुण मिलाकर सन्तुष्ट हो जाते हैं। जबकि पढे लिखे लोग जंमपत्री मिलान, ग्रह मिलान, मंगली मिलान आदि करवाते हैं। आजकल शिक्षा के प्रसार, टी वी, कम्पयूटर की उपलब्धता के कारण सैंकड़ो टी. वीत्रमेलापक. चैनलों पर ज्योतिष ज्ञान के प्रचार के कारण लोग मेलापक के प्रति काफी जागरूक हो गयें हैं। लाखों करोडों लोग घर बैठे अपने कम्पयूटर से वर वधु के आंकड़े निकाल कर खुद मिलान करते हैं। किन्तु ज्योतिष की बरीकियों का ज्ञान ना होने के कारण और मनपंसद लड़का और लड़की मे ज्योतिषीय बाधायें आ जाने के कारण शंका समाधान करने के लिये ज्योतिषी के पास पहुँचते हैं। ज्येतिषी भी अपने अच्छे बुरे ज्ञान के    अधार पर जातक को सन्तुष्ट करने का प्रयास करता हैं। आजकल लड़के और लड़की द्वारा स्वयं चुनाव करना सामान्य बात है। उनकी पसंद का आधार सुन्दरता, ग्लैमर, स्मार्टनैस विचारों और पेशे की समानता, उच्च कैरियर, धन, संपदा होती है। लेकिन सौन्दर्यवान या उच्च जाॅब होना सुखी वैवााहिक जीवन की गारंटी नही होती है। लाखों आर्थिक रूप से सम्पन्न जोड़ों को अलगाव, तलाक, अकाल मौत, संतानहीनता असफल विवाह और आत्महत्या जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ज्योतिषीय मेलापक के तीन आधार होते हैं। गुण मेलापक, मंगली मेलापक और ग्रह मेलापक। जिनमें मंगली मेलापक और ग्रह मेलापक अति महत्वपूर्ण हैं। गुण मेलापक मे तीन या पांच गुण मिलने पर भी जातको को सफल वैवाहिक जीवन बिताते देखा गया है। हस्तरेखा और शारीरिक विज्ञान मे भी अनेक ऐसे सूत्रों का वर्णन मिलता है जो मंगल दोष और ग्रह मिलान को बताते हैं।
हस्तरेखा मे मंगली दोष के लक्षण
वर कन्या की हस्तरेखा या अंग लक्षण हो निम्न तो जातक या जातिका मंगली दोष से युक्त होगें और उसे वही दुष्परिणाम भोगने पड़ेगें जो मंगली दोष से युक्त जातक को  भोगने पड़ते हैं।
1. यदि वर वधु दोनों मे एक की हृदय रेखा अति छोटी हो और केवल शनि पर्वत तक ही जाये तो जातक 7 वें भाव का मंगली होगा।
2. यदि हृदय रेखा के अंत मे शाखायें ना हों तो जातक लग्न का मंगली होगा।
3. यदि विवाह रेखा द्विजीवी हो जातक 7 वें या आठवें भाव का मंगली हो और निश्चित तलाक होगा।
4. मस्तिष्क रेखा अति छोटी या जंजीरवत हो तो जातक लग्न या 12 वें भाव का मंगली हो।
5. अति लंबी तर्जनी जो अनामिका से लंबी हो तो जातक लग्न का मंगली हो और यदि तर्जनी अनामिका से छोटी हो तेा चैथे भाव का मंगली होगा। 
6. विवाह रेखा मस्तक रेखा को काटे तो 7वें या आठवें भाव का मंगली होगा।
7. विवाह रेखा जंजीरवत तो 7वें या आठवें भाव का मंगली होगा।
8. विवाह रेखा को आड़ी रेखा काटे चैथे भाव का मंगली होगा
9. विवाह रेखा हृदय रेखा पर गिरे आठवें भाव का मंगल हो।
10. विवाह रेखा आगे बढ कर जीवन रेखा को सातवें या आठवें भाव का मंगली होगा
11. विवाह रेखा प्रारंभ मे जीवन रेखा से अलग हो या गुरू पर्वत से निकले तो जातक लग्न या सातवें भाव का मंगली हो।
12. मस्तक रेखा और हृदय रेखा के बीच भाग्य रेखा को काटता द्वीप जो एक सिरे पर द्विजीवी हो।
13. जीवन रेखा से उपर उठती रेखा को शुक्र या निम्न मंगल से आती आड़ी रेखा काटे।
14. शुक्र पर्वत से निकली प्रभाव रेखा हृदय रेखा पर द्विजीवी होकर मिले।
15. शुक्र या निम्न मंगल से निकली प्रभाव रेखा विवाह रेखा को काटे।
16. विवाह रेखा शुक्र पर्वत पर आये।
17. विवाह रेखा टूटी हो।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति