सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जातक की कुण्डली बताये पिता का भाग्य

मनुष्य के जीवन की सारी छोटी बड़ी शुभ अशुभ घटनायें जातक के पूर्वजंम के शुभ अशुभ कर्मों के अनुसार पूर्व निर्धारित है। और इस जीवन मे आने वाले सारे संबधी मित्र शत्रु पशु पक्षी लाभ हानि जीवन मरण यश अपयश सब पूर्वजंम मे किये गये पुण्य-पापों के अनुसार पूर्व निर्धारित है। किसी परिवार मे पुत्र या पुत्री के जंम के बाद माता पिता या परिवार की आर्थिक पारिवारिक समाजिक स्थिति सुधरने लगती है। किसी किसी परिवार मे संतान के जंम के बाद आर्थिक समाजिक पारिवारिक स्थितियां बिगड़ने लगती है। नाड़ी ग्रन्थ इस तथ्य की बड़े स्पष्ठ और सरल तरीके से इसकी व्याख्या करते है। कभी संतान बीमार पैदा होती है। जिसके ईलाज मे धन व वक्त नष्ट होता है। कभी संतान के जंम के बाद पत्नी रोगी हो जाती है। या पिता की नौकरी छूट जाती है। या व्यापार नष्ट हो जाता है। कभी माता पिता या संतान मे भयानक  शत्रुता रहती है जिनमे कभी-कभी हत्यायें तक हो जाती है। कभी पिता के रहते जातक उन्नति नही कर पाता है। कभी जातक को मृत पिता के कोटे से सरकारी नौकरी मिल जाती है। तो कभी जातक पिता का कारोबार अपना लेता है। जैसे व्यापार, डाक्टरी या वकालत का पेशा।
पाराशर ज्योतिष मे सूर्य को पिता तथा शनि को पुत्र व गुरू को संतान माना गया है। नाड़ी मे सूर्य पिता व पुत्र चन्द्र माता व बड़ी बहन, मंगल भाई पति शत्रु, बुध छोटा भाई छोटी बहन गर्लफ्रेन्ड या ब्वाॅयफ्रेन्ड, शुक्र पत्नी बहन प्रेमिका, बहू, पुत्री शनि बड़ा भाई राहू बाबा।
सूर्य-चँन्द-माता के मध्य संबध अच्छे हों उनका वैवाहिक जीवन सुखी हो। पिता जंम स्थान से दूर स्थान पर बसें व जाॅब करें। पिता के जंम स्थान के पास कुआ या तालाब होगा। 
सूर्य-मंगल-पिता के पास खेत जमीन जायदाद हो पिता क्रोधी हो। पिता को पित्त के रोग, हृदय रोग हो।
सूर्य बुध पिता/पुत्र के पास जायदाद प्लाॅट, हो पिता शिक्षित हो।
गुरू-सूर्य योग परस्पर त्रिकोण मे जातक को  पिता व पुत्र को राजप्रताप योग प्राप्त होगा पुत्र प्रदान करें, पुत्र यशस्वी, विशेष शिक्षा प्राप्त करे विनम्र बुद्धिमान सम्मानित हो पहली संतान पुत्र हो वैवाहिक ज्ञान युत, समाजसेवा में लगा रहें। पूर्वजंम का पिता व पुत्र प्राप्त होगा। 
सूर्य शुक्र पिता/ पुत्र के पास धन पर पिता को रोग हो उन्हें शत्रुओं का सामना करे। 
सूर्य शनि-जातक को पूर्वजंम का पिता प्राप्त होगा पिता पुत्र के मध्य मतभेद होगंे पिता के जीवन काल मे पुत्र की प्रगति ना हो कुछ केसेस मे पुत्र पिता का जाॅब अपनाये। जातक और उसके पिता का संबध तीन जंमों का हो सूर्य राहू पिता महान व्यक्ति या गांव का मुखिया या किसी विभाग का प्रधान हो पिता की बदनामी हो उन्हें रोग हों पिता के जंम स्थान के पास खंडहर होगा खुला उजाड़, मैदान नाला या कब्रिस्तान हो।
सूर्य केतु-पिता धार्मिक हो पिता को वैदिक ज्ञान हो पिता के जंम स्थान के पास मंदिर होगा सूर्य से 12 वें केतु पिता गत जंम मे महात्मा हो। 
सूर्य बुध राहू-पिता के जंम स्थान के पास मजार या कोई मुस्लिम भवन मस्जिद होगी। 
गुरू चन्द्र परस्पर त्रिकोण मे जातक को पूर्वजंम की माँ सास या बड़ी बहन मौसी प्राप्त होगी।
गुरू बुध सूर्य- मित्र द्वारा लाभ हो गुरू जिनसे जीवन में भारी लाभ। जातक और उसका पिता पूर्व जंम मे मित्र थे जातक शैक्षिक सफलता मिले।
मंगल-शुक्र परस्पर त्रिकोण मे जातक को पूर्वजंम की पत्नी पति, भाई बहन, पुत्री या बहू प्राप्त होगी जातिका को पूर्वजंम का पति प्राप्त होगा।  
गुरू शुक्र-परस्पर त्रिकोण मे जातक को पूर्वजंम की पत्नी बहन, पुत्री या बहू/ पति प्राप्त होगी। 
कन्या का या तुला का सूर्य या सूर्य पापग्रह से युत जंम जातक के जंम के समय पिता पर भारी दुर्भाग्य आये मीन/ मेष का सूर्य जंम या सूर्य गुरू, शुक्र बुध युत जातक के जंम के समय व पश्चात पिता का भारी भाग्योदय प्रमोशन होगा। नीच का सूर्य पापग्रस्त पिता अल्पायु। सूर्य उच्च का या सिंहस्थ सूर्य पिता/पुत्र को सरकारी जाॅब। सूर्य मेष, सिंह, वृश्चिक, धनु मकर कुंभ मीन मे पिता/पुत्र नौकरी करे। वृष मिथुन, कर्क कन्या, तुला पिता/पुत्र व्यापार करे या प्राईवेट नौकरी करे।
ब्राह्मण युवक-13 फरवरी 1978। शाम-7.30 मिनट। लखनऊ। सिंह लग्न लग्न मे शनि-4 अंश, कन्या मे राहू-6 अंश, मे छठे भाव मे मकर मे बुध  21 अंश, सप्तम भाव मे कुंभ का सूर्य 1 अंश व शुक्र 6 अंश, अष्ठम मे केतु, मेष मे चन्द्र-16 अंश,  मिथुन मे गुरू वक्री-2 अंश, कर्क मे नीच का मंगल-1 अंश। पत्नी आशा 8 सितम्बर 2018 सोमवार को पत्नी जली व 12 सितम्बर 2018 शुक्रवार को उसके डेढ माह बाद करवाचैथ की शाम 27 अक्टूबर 2018 को जातक का बड़ा पुत्र बिजली के 11,000 वोल्ट के तार की चपेट मे आकर कोमा मे चला गया और और दीवाली के दूसरें दिन भईया दूज 9 नवम्बर 2018 को बालक की शाम चार बजे मौत हो गई। पत्नी कारक शुक्र तथा पुत्र कारक सूर्य दोनो कंुभ मे युत है। इनसे 8 भाव द्वितीय मे कन्या का राहू बैठा है। तो पत्नी व पुत्र के अल्पायु और दुःमरण योग बना रहा है। बुध सूर्य व शुक्र से अष्ठमेश है जो इनकी मृत्यु बता रहा है। बुध छठे भाव मे है। जिस पर धटना के समय आग, दुर्घटना व बिजली का कारक केतु मकर से गुजर रहा था किसी ग्रह से अष्ठमेश से राहू केतु का गोचर उस ग्रह के रिश्तेदार की मृत्यु देता है। 
2. वृश्चिक लग्न मे 11 वे भाव मे कन्या मे सूर्य शनि योग बालक के जंम के पूर्व के पिता को भारी व्यापारिक घाटा, बेरोजगारी निर्धनता व समजिक पतन भोगना पड़ा। 
2. जंमाक मे कन्या का नीचत्व को जाता सूर्य शत्रु शनि युत जंम के समय पिता दुर्भाग्य भोगेगा भृग नाड़ी।
2. कुंभ लग्न तृतीय मे मेष सूर्य उससे 7 वे भाव मे उच्च का तुला का वक्री शनि। सूर्य पर शनि का वेध है। जातक के जंम के पश्चात पिता दीवलिया होकर दूसरी जगह बस गया।
3. मेष लग्न सूर्य 10 वें मकर मे शत्रु राशि गत है। सूर्य का राशीश शनि सूर्य से द्वादश व्यय भाव मे है जातक के जंम के पश्चात पिता को भारी घाटा हो गया जिसकेे कारण वो जातक का ईलाज नही करा सका और जातक की मृत्यु हो गई उसके बाद पिता की स्थिति सुधर गई। 
4. धनु लग्न लग्न मे सूर्य शनि जातक वकील था पिता के साथ रहता था पर उसकी वकालत नही चली पिता डाक्टर था जातक के जंम के पश्चात पिता  अपने पिता से अलग दूसरे शहर मे बस गया नाम, सफलता व धन कमाया।
5. मकर लग्न 11 वें वृश्चिक मे सूर्य उससे 12 वें तुला मे शनि जातक डाक्टर था पर प्रैक्टिस नही चली परिवार का खर्चा भी नही निकल पाता था पिता की मृत्यु के बाद अच्छी उन्नति हुयी। तुला का वक्री शनि । सूर्य पर शनि का वेध है। जातक के जंम के पश्चात पिता दीवालिया होकर दूसरी जगह बस गया।
3. मेष लग्न सूर्य 10 वें मकर मे शत्रु राशि गत है। सूर्य का राशीश शनि सूर्य से द्वादश व्यय भाव मे है जातक के जंम के पश्चात पिता को भारी घाटा हो गया जिसकेे कारण वो जातक का ईलाज नही करा सका और जातक की मृत्यु हो गई उसके बाद पिता की स्थिति सुधर गई। 
4. धनु लग्न लग्न मे सूर्य शनि जातक वकील था पिता के साथ रहता था पर उसकी वकालत नही चली पिता डाक्टर था जातक के जंम के पश्चात वो पिता से अलग दूसरे शहर मे बस गया नाम, सफलता व धन कमाया।
5. मकर लग्न 11 वें वृश्चिक मे सूर्य उससे 12 वें तुला मे शनि जातक डाक्टर था पर प्रैक्टिस नही चली परिवार का खर्चा भी नही निकल पाता था पिता की मृत्यु के बाद अच्छी उन्नति हुयी।
  


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति