सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जलमग्न द्वारिका की खोज

सन् 2002 मे चेन्नई के राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिक संस्थान ने गुजरात के तट से 30 किमी. दूर खंभात की खाड़ी मे समुद्र के जल प्रदूषण की जांच करने की गरज से समुद्र के तल मे सोनार फोटोग्राफी की जो उनका रूटीन कार्य था, लेकिन जब प्राप्त तस्वीरों का विश्लेषण किया गया वैज्ञानिक यह देखकर दंग रह गये ये समुद्र की सतह से 40 किमी. नीचे हजारों साल पुरानी विशाल नगर सभ्यता के अवशेष के चित्र निकले। उनमे रिहायशी घरों जैसे आयताकार ढांचे, मोहन जोदड़ो के विख्यात पोखर जैसे चित्र थे। कई सप्ताहों तक इन चित्रों पर विचार-विमर्श के बाद वैज्ञानिकों ने रहस्यमय सनसनीखेज खुलासे किये कि गुजरात के तट से 30 किमी. दूर व समुद्र सतह से 40 किमी. नीचे समुद्र मे एक प्राचीन नदी के किनारे 9 किमी. के दायरे मे एक विशाल नगर के अवशेष फैले हुये हैं। जो हजारों साल पहले सागर मे डूब गया था सभ्यता मे निम्न ढांचे महत्वपूर्ण थे। सीढियों वाला एक विशाल तालाब, 200 मीटर लंबा और 45 मीटर चैड़ा एक पक्का चबूतरा, मिट्टी की मोटी दीवार से बना 183 मीटर लंबा अन्न भंडार, सैकड़ों रिहायशी घरों जैसे आयताकार ढांचे, इनमें नालियां, सड़कें, पत्थर के औजार, गहने, बर्तन, आकृतियां, जवाहरात, हाथीदांत, मनुष्य के जबड़े, लकड़ी के टुकड़े तथा नगर मे मानव द्वारा बनाये गये एक विशाल बांध के अवशेष, एक लकड़ी के कुंदे का काल जानने के लिये उसे लखनऊ व हैदराबाद की प्रयोगशाला मे भेजा गया जो वहां की रिपोर्ट देख कर सब दंग रह गये लखनऊ की बी एस आई पी प्रयोगशाला ने उसे 5500 ईसा पूर्व का बताया और हैदराबाद की एन, जी आई आई ने उसे 7500 ईसा पूर्व का बताया इस खोज से हंगामा मच गया।
 भगवान कृष्णः- श्री आद्य जगदगुरू शंकराचार्य वैदिक शोध संस्थान वाराणसी के संथापक स्वामी ज्ञानानंद स्वरसती ने अनेक ग्रन्थों, पुराणों, ऐतिहासिक दस्तावेजों, भृगुसंहिता की व कम्प्यूटर के तीर्थ, चक्र तीर्थ, कपिटंक तीर्थ, नृगकूप, सिद्धाश्रम, लीला सरोवर, हरि मंदिर, ज्ञानती, दानतीर्थ, गणपति तीर्थ, रैवत पर्वत, माया तीर्थ, गोमती- सिंधु संगम आदि पवित्र स्थान थे। राजा शाल्व व कृष्ण दो द्वारिका के राजा थे भागवत पुराण के अनुसार शाल्व मे अपने दिव्य विमान से श्री कृष्ण की द्वारिका पर विमान, आग्नेयास्त्रों व दिव्यास्त्रों से हमला किया था जिसके कारण द्वारिका की भूमि बंजर व नगर खंडहर बन गया था जसका जवाब श्री कुष्ण ने जवाबी हमले से दिया और अपने दिव्यास्त्रों से शाल्व का विमान मार गिराया महाभारत के अनुसार महाभारत युद्ध मे जब गंधारी के निन्यानबे पुत्र मारे गये तो गंधारी को भारी पुत्रशोक हुआ जब भगवान कृष्ण गंधारी के सामने गये तो गंधारी ने भगवान कृष्ण को शाप दिया हे कृष्ण तुम चाहते तो युद्ध को रोक सकते थे लेकिन तुमने ऐसा नही किया और मेरे सारे पुत्रों का वध हुआ जिस तरह तुमने मेरे वंश का नाश किया है। उसी तरह तुम्हारे यदु वंश का भी नाश होगा श्रीकृष्ण को यदु वंश विनाश और द्वारिका के भीषण अंत को पूर्वाभास था इसलिये वे भारी अन्न भंडार व अपने वंशजों के साथ प्रभास क्षेत्र मे आ गये थे उन्होंने ब्राह्मणों को दान देने व मृत्यु का इंतजार करने का आदेश दिया था कुछ दिनों बाद कृतवर्मा और सात्यकी के मध्य विवाद हो गया क्रोध मे सात्यकी ने कृमवर्मा का सर काट लिया जिसके कारण यादवों मे गृहयुद्ध छिड़ गया जिसमे कृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न, पौ़त्र अनिरूद्ध, और मित्र सात्यकी दोनो मारे गये सारा यदुवंश युद्ध मे नष्ट हो गया केवल दारूक और बव्रुवाहन ही बचे। इस युद्ध से खिन्न होकर बलराम एवं कृष्ण वन मे चले गये और  वर्तमान जूनागढ के बेरावल कस्बे के बाहर तीन नदियों के संगम स्थल पर भालुक तीर्थ नामक स्थान पर एक पेड़ के नीचे लेट गये जहाँ उन्हें पशु समझ कर जरा नामक बहेलिये पांव के तलवें तीर मे मार दिया जिसके कारण कृष्ण जी देह त्याग कर गोलोक गमन किया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति