सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्या कहता है नेताजी का हैंडप्रिंट

‘व्हाट हैपेन्ड टू नेताजी, इन्डियाज बिगिस्ट कवर अप, व बैक फ्राम डेडः ईन्साइड के लेखक अनुज धर ने अपने टिव्टर एकांउट पर नेताजी के दांये हाथ का हैंडप्रिंट दिया और ज्योतिषियों से आहवाहन किया कि वे हैंडप्रिंट का अध्ययन करके बतायें कि नेताजी मध्यायु थे या दीर्घायु। ए. एम, जुलाई, 1964 के अंक मे एच एल पाण्डया ने एक लेख ‘ इज नेताजी सुभाष चन्द्र बोस लिविंग आॅर डेड’ मे लिखा है कि उन्हें 18 फरवरी 1964 को बम्बई मे जहंागीर आर्ट गैलरी द्वारा आयोजित एक फोटोग्राफिक एग्जीबिशन मे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के दोनो हाथों के निरीक्षण का सौभाग्य मिला श्री पाण्डया के अनुसार नेताजी के  हाथ मे बलवान जीवन रेखा के साथ सोलोमोन रिंग थी जो अक्सर साधारण आदमियों, व्यापारियों और इंजीनियरों के हाथ मे पाई जाती है। नेताजी के हाथ मे दूसरा महत्वपूर्ण बिंदू यह था कि लंबी मस्तक मे हृदयरेखा की ओर उपर उठते हुये तीन-चार फोर्क युक्त थे जो कैरियर मे तीन चार बार सफलता की प्रतीक थे फोर्क वाली मस्तक रेखा कैरियर मे सफलता को बताती है। नेता जी के दांये हाथ मे सुंदर व लंबी प्रबल हृदय रेखा थी पर बांये हाथ मे  हृदय रेखा 5-6 जगह खण्डित थी तथा हृदय रेखा के फोर्क निम्नमंगल की ओर झुकावदार थे जो कैरियर मे अति ंिचंता को बता रहे थे नेताजी के हाथ मे डबल परस्पर समंातर सूर्य रेखायें थी जो प्रसिद्ध कर्मयोगी समाजिक कार्यकर्ता होना बताती है। पर ये सूर्य रेखायें खंडित थी जो उनके स्थान परिवर्तन तथा कार्य-कलापों के परिवर्तन को बताती है। निम्न मंगल पर कई निम्नगामी रेखायें जीवन रेखा पर आ रही थीं जो महान  योद्धा या झुझारू व विद्रोही स्वभाव बता रही थी हाथ नेताजी के तानाशाही स्वभाव को बता रहा था दोेनो हाथों मे लंबी मस्तक जो हृदय रेखा की ओर उपर उठते हुये तीन-चार फोर्क युक्त थी तथा उनकी गुरू तर्जनी उंगली सीधी व काफी लंबी थी बोस की तर्जनी उंगली अनामिका से बड़ी थी जो उनका नाम इतिहास मे सदियों तक अमर बना रही थी ऐसे जातकों को मरणोंपरांत भारी यश मिलता है। चन्द्र पर्वत पर बनी आड़ी रेखा उनकी विदेश यात्राओं को बतला रही थी 5-6 जगह खण्डित हृदय रेखा जो उन्हें स्वजनों से धोखा और टी.बी. के रोग दे रही थी स्वास्थ रेखा पर क्रास उनकी टीबी तथा अंय शारीरिक बीमारियों को बतला रही थी दांये हाथ की निर्दाेष हृदय रेखा उन्हें सभी प्रकार के शारीरिक राजनैतिक व दुर्भाग्यों से रक्षा दे रही थी नेताजी के दोनों हाथों मे जीवन रेखा बली थी पर मंगल रेखा निर्बल थी और 45 वर्ष के आस-पास उपर की ओर बिखर रही थी श्री पाण्डया का पूर्ण मत था कि नेताजी जीवित नही थे और उनकी आयु 45 से 55 वर्ष के मध्य तक ही थी पाण्डया का कहना था कि उनके एक धनिष्ठ मित्र के हैंडप्रिंट मे खण्डित हृदय रेखा ने मित्र को एक्सीडेंटल मौत दी जबकि उसकी जीवन रेखा निर्दाेष थी खण्डित हृदय रेखा ने नेताजी को अकाल एक्सीडेंटल मौत दी पाण्डया ने कई बली जीवन रेखा, मस्तक रेखा व हृदय रेखा वाले जातकों को अल्पायु देखा क्योंकि उनकी मंगल रेखा निर्बल थी नेता जी के हाथ मे दीघार्यु होने केे निम्न योग थे
1. नेताजी के दोनो हाथों मे बलवान जीवन रेखा थी।
2. उनके बांये मे हृदय रेखा 5-6 पर जगह खण्डित थी पर दांये हाथ मे निर्दोष थी दांये हाथ की निर्दाेष हृदय रेखा उन्हें सभी प्रकार के शारीरिक राजनैतिक व दुर्भाग्यों से रक्षा दे रही थी हस्तरेखा के नियमानुसार यदि बांये हाथ मे कोई रेखा अशुभ चिन्ह से युत हो पर रेखा दायंे हाथ मे निर्दोष हो तो जातक जंमजात दुग्र्भाय लेकर पैदा हुआ था पर वो वर्तमान कर्मों से दुर्भाग्य पर विजय पा लेगा। 
3. मंगल रेखा का निर्बल होना अवश्य अल्पायु बनाता है। पर मंगल रेखा तभी दीर्घायु योग बनाती है। जब जीवन रेखा पर कोई प्रबल अशुभ चिन्ह हो और उसके बगल मे मंगल रेखा बली हो तो मंगल रेखा दुर्भाग्य नाश करके जातक की रक्षा करती है।
4. एक्सीडेंट के ग्रह योगो मे मंगल रेखा से कोई संबध नही बताया गया है। 
5. नेताजी के हाथ कई वर्ग थे जो बीमारी और दुर्घटना और दुर्भाग्य से जातक को साफ निकाल लेता हें पहला सोलोमन ंिरंग से बना गुरू पर्वत पर दूसरा शनि पर्वत पर जो महान दुर्घटना से रक्षा कारी चिन्ह है। शनि वर्ग के बारे मे कहा गया है कि यदि जातक को शेर के सामने भी छोड़ दो तो जिंदा वापस आ जायेगा तीसरा मस्तक रेखा और हृदय रेखा के बीच मे भाग्य रेखा पर चैथा मस्तक रेखा के नीचे भाग्य रेखा पर पांचवा निम्न मंगल क्षे़त्र पर से पाचों वर्ग बेहद स्पष्ठ हैं। और नेताजी के हैंडप्रिंट मे कोई भी इन्हें देख सकता है। 
6. श्री पाण्डया का यह कहना  कि मंगल रेखा 45 वर्ष के आस पास उपर की ओर बिखर रही थी इसलिये गलत हैं क्योंकि मंगल रेखा केवल मंगल पर्वत तक ही होती हैं जिसके यानि  आधी जीवन रेखा के सामने तक उसके नीचे की रेखा शुक्र रेखा कहलाती है। यदि मंगल रेखा यदि शुक्र पर्वत पर मणिबंध भी जाती है। तो उसके निचला भाग शुक्र रेखा ही कहलाता है। साभार - वाराह वाणी


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति