सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सरकार की योजनाओं का सीधा लाभ जनता तक पहुंचे

जनपद के कलेक्ट्रेट में उत्तर प्रदेश दिवस हर्षाेउल्लास व भव्य तरीके से मनाया गया। यूपी दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में पधारे सलोन विधायक दल बहादुर कोरी व जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि सरकार की योजनाआंे का सीधा लाभ जनता तक पहुंचे तथा अधिकारियों से कहा कि वे सरकार की महत्वपूर्ण कल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार कर उसका लाभ समाज के अंतिम छोर पर बैठे गरीब को मिले। उन्होंने दीप प्रज्जवलित कर यूपी दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ भी किया। जिलाधिकारी व विधायक मुख्य विकास अधिकारी द्वारा विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया।


जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि प्रदेश/जनपद के जिन सपूतों का देश के आजादी में योगदान रहा है प्रदेश की सांस्कृतिक धरोहर एवं विविधता व जनपद के महत्वपूर्ण कार्य, उपलब्धियां, सरकार के संकल्प आदि पर विशेष फोकस डाला जाये। यूपी दिवस पर आमजन व नई पीढ़ी को देश व प्रदेश सरकार द्वारा कराये गये चैमुखी विकास कार्यो संकल्पों के बारे में बताया जाये। संविधान निर्माता भारत रत्न बाबा साहब डा. भीमराव रामजी अम्बेडकर, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई, लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक, भारत रत्न भगवानदास, लाल बहादुर शास्त्री, मंगल पाण्डेय, भगत सिंह, राजगुरू सुखदेव, चन्द्रशेखर आजाद, ऊदा देवी, झलकारी बाई, रफी अहमद किदवई, दुर्गा भाभी आदि महापुरूषों स्वतन्त्रा संग्राम सेनानियों को सम्मान देकर उनके प्रति कृत्यगता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि देश में मोदी व प्रदेश में योगी सरकार की प्राथमिकता देश व प्रदेशों में सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास के साथ देश व प्रदेश को उन्नति के शिखर पर पहंुचाना है। उन्होंने कहा कि जो सरकार की जो नीतियां है उन्हें अधिकारी समाज के अंतिम छोर में बैठे व्यक्ति तक उसका लाभ पहुंचे तभी सरकार द्वारा संचालित योजना का लाभ होगा। योजनाओं के लाभांवित करने में पात्र व्यक्ति को ही मिले। गरीब की झोपडी में विकास की किरण दिखायी पडेगी और उसे रोजी रोटी और कपडा और मकान की कमी नही होगी तो समाज व राष्ट्र का विकास होना निश्चित है। 
 विधायक दल बहादुर कोरी व मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने कहा कि प्रदेश का नाम करण उत्तर प्रदेश 24 जनवरी 1950 से प्रभावी हुआ है। सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश दिवस 24 जनवरी को भव्य तरीके से जनपद में भी मनाये जाने के निर्देश दिये गये है। उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के साथ ही जनता का इतिहास गौरवशाली रहा है यहां की संस्कृति यहां का गौरवशाली इतिहास स्वतन्त्रता संग्राम के समय में ही इतिहास में वर्णित है। वर्तमान सरकार की नीति सबका साथ सका विकास सबका विश्वास के सिद्धान्त पर आधारित है तथा प्रदेश सरकार गरीबों और वंचितों को न्याय दिलाने हेतु कृत संकल्पित है। केन्द्र व प्रदेश सरकार की कल्याणकारी व लाभ परक योजनाओं की विस्तार से जानकारी देने के साथ ही यूपी दिवस के भी महत्व को बताया। मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने उत्तर प्रदेश दिवस 24 जनवरी के अवसर पर  वर्तमान सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश को प्रगति के पथ पर अग्रसर किये जाने हेतु लिए गये संकल्प एवं उसे पूर्ण किये जाने की जानकारी विस्तार से देते हुए बताया कि आस्था को नमन, जनसमस्या निस्तारण, कानून व्यवस्था, उत्तर प्रदेश इन्वेस्टर्स समिट, जीएसटी, किसानों के हितार्थ ऐतिहासिक फैसले, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, ग्रामीण विकास योजना, पेयजल, स्वच्छ भारत मिशन, पं. दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी समारोह का आयोजन, किसान फसली ऋण मोचन योजना, सरकार की महत्वाकांक्षी योजना आदि के बारे में जानकारी दी। मुख्य विकास अधिकारी व विधायक द्वारा बेटी बचाव बेटी पढाओ के सुगम 151 कार्यकत्रियों व मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजनान्तर्गत प्रोबेशन विभाग की 3 महिला कर्मचारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मा.नित किया गया।
 यूपी दिवस पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग से आये हुए कलाकारों द्वारा कठपुतली, अजय जादूगर, रंजना, अवधेश द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों लोकगीत आदि के माध्यम से लोक कलाकारों द्वारा कला के माध्यम से सरकार की उपलब्धियों योजनाओं का बेहतर प्रदर्शन किया गया जिसकी लोगों ने तालियां बजाकर कलाकारों का उत्साहवर्धन किया। जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना, विधायक दल बहादुर कोरी, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार द्वारा विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोक किया गया। मत्स्य विभाग द्वारा नीलीकान्ति योजनान्तर्गत मोटरसाईकिल विद् आईबक्स की चाबी देकर उनको रवाना किया गया।
सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग लखनऊ से आयी एलईडी वैन के माध्यम से राजधानी में हुए उत्तर प्रदेश दिवस समारोह का सीधा प्रसारण के साथ ही उत्तर प्रदेश व केन्द्र सरकार की लाभपरक योजनाओं व कल्याणकारी कार्यक्रमों का भी प्रदर्शन किया। इसके अलावा दूसरी एलईडी वैन के माध्यम से गंगा यात्रा की जानकारी विस्तार से बताई गई। यूपी दिवस पर जिला सूचना कार्यालय के बड़े लाल यादव प्रचार सहायक,  मो0 राशिद कम्प्यूटर आपरेटर, लेखाकार इफ्तिखार अहमद खां द्वारा सीएए पम्पपलेट, उत्तर प्रदेश संदेश, विकास एवं सुशासन के 30 माह की पुस्तक, नववर्ष कलण्डर, पंचाग का कार्यक्रम में उपस्थित जनपद स्तरीय अधिकारियों, प्रदर्शनी स्टालों व आमजनमानस में वितरित किया गया। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 संजय कुमार शर्मा, डीपीआरओ, डीसी मनरेगा पवन कुमार, सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार, डीआईओएस चन्द्रशेखर मालवीय, संचालक एस0एस0 पाण्डेय, परियोजना निर्देशक प्रेमचन्द्र पटेल, उद्योग अधिकारी नेहा सिंह, खादी आधिकारी अवधेश सिंह, योग गुरू डा0 रवि सिंह, समाजसेवी ज्ञान प्रकाश तिवारी, जीसी सिंह, स्नेहलता त्रिवेदी, पूनम तिवारी, सारिका शुक्ला, पी0एन0 शर्मा, आदि अधिकारी व जनप्रतिनिधि, बड़ी संख्या में आमजन व छात्र-छात्रायें आदि उपस्थित थे। यूपी दिवस कार्यक्रम का संचालन एस0एस0 पाण्डेय द्वारा बखूबी से किया गया। वही स्थानीय छात्र-छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन किया गया।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति