सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आशाए एक पुनीत सामाजिक कार्य से जुड़ी हुई है

फिरोजगांधी डिग्राी कालेज के आडिटोरियम, रायबरेली में आयोजित आशा दिवस व सम्मेलन का उद्घाटन एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह व मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 संजय कुमार शर्मा द्वारा दीप प्रज्जवलित व फीता काटकर कर किया। एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि दूर दराज क्षेत्रों में जन-जन तक स्वास्थ्य विभाग के कल्याणकारी योजनाओं, कार्यो को पहुंचाने तथा सरकार द्वारा प्रदत्त कराई जा रही सुविधाओं को लाभाविन्त कराने में आशा एक महत्वपूर्ण कड़ी है। उन्होंने आशाओं से कहा राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के अन्र्तगत सम्मिलित स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सम्बन्धी कार्यक्रमों का लाभ ग्रामीण जनता तक पहुंचे तथा वे पूर्ण तरीके से स्वस्थ्य रहे यह जिम्मेदारी बखूबी निभायें। उन्होंने कहा कि आशाओं को आशा सम्मेलन में दी जा रही स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रमों, उत्तर प्रदेश सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास विकास एवं सुशासन के 30 माह, आइये ये जाने स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम की जानकारी संबंधी पम्पलेट, पुस्तक आदि दिये जा रहे लाभ परख प्रचार सामग्री को भली-भांति अध्ययन कर इसकी जानकारी ग्रामीण क्षेत्रों में आम जनता को बतायें। उन्होंने कहा कि आशा बहनें गांव के प्रत्येक परिवार से परिचित होती है। जिससे वह स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी आसानी से पहंुचा सकती है। श्री सिंह ने कहा, जब ग्रामीण क्षेत्र एवं जनता स्वास्थ्य विभाग सहित सरकार के अन्य कार्यक्रमों को भली-भांति जानेगी तथा उसका लाभ देकर समाज स्वस्थ्य और समृद्व होगा तभी जनपद स्वस्थ्य व उन्नतिशील होगा। स्वास्थ्य शिक्षा मनुष्य की मुख्य बुनियादी सुविधायें पूरी तरह से दुरस्त रहने से जीवन आनन्दमय हो जाता है। 
 मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 संजय कुमार शर्मा ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र की महिला को जननी सुरक्षा योजना के अन्र्तगत रू0 1400 एवं शहरी क्षेत्र की महिला को रू0 1000 की धनराशि आरटीजेएस के माध्यम से प्रदान की जाती है। ग्रामीण क्षेत्र की गर्भवती महिला जो दूरस्थ क्षेत्र में उन तक आशा बहनों की सेवायें निर्वाध गति से पहुंचती रहे। उन्होंने कहा कि आशा के दायित्व आठ है जिनको प्रशिक्षण में हमेशा बताया जाता है जिसको वह भली भांति जाने। 
 जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने अपने संदेश में कहा है कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के अन्र्तगत संचालित स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सम्बन्धी कार्यक्रमों का लाभ ग्रामीण जनता तक पहंुचे तथा वे स्वस्थ्य रहें यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सरकार ने आशा बहनों को भी प्रदान की है, अतः वे स्वास्थ्य विभाग के नित-नित कार्यक्रमों आदि से अपने को अद्यतन रखें तथा आने वाली चुनौतियों का समाना करतें हुए सौपें गये दायित्वों को बेेेेहतर तरीके से निभायें। जनपद में संस्थागत प्रसव, नियमित टीकाकरण, परिवार कल्याण एवं अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। जिसके फलस्वरूप जनपद में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी आई है। जिसका श्रेय मुख्य रूप से आशाओं को जाता है। मिशन की समस्त योजनाओं को सामान्य जन समुदाय तथा वंचित वर्गो तक पहुचाकर उसका लाभ दिलाये। कठिन परिश्रम निरन्तर प्रयास से ग्राम समुदाय को स्वास्थ्य सम्बंधी आसानी से उपलब्ध हो रही है। आशाए एक पुनीत सामाजिक कार्य से जुड़ी हुई है। याद रहे कि जनपद हमारे सामुदाय के सभी सदस्य स्वस्थ होंगे तभी हम स्वस्थ जनपद की संकल्पना को साकार कर सकेंगे। इस मौके पर कई आशाओं को उत्कृष्ठ कार्य के लिए सम्मानित भी किया गया। सभी आशाओं व उपस्थित जनों ने उ0प्र0 सूचना विभाग द्वारा प्रकाशित की गई विकास एवं सुशासन के 30 माह पुस्तक सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, उ0प्र0 संदेश, पंचाग, कलेण्डर आदि वितरित किये गये। कार्यक्रम का संचालन एस0एस0 पाण्डेय द्वारा बाखूबी से किया गया। आशा बहनों ने स्वागत गीत सहित कई प्रेरक गीत की प्रस्तुति की गई।
 इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, अपर सीएमओ डा0 एम नारायण, डा0 कृष्णा सोनकर, डा0 के0आर0 रिजवान, एडी सूचना प्रमोद कुमार, डा0 ए0के0 चैधरी, डा0 डीएस अस्थाना, अग्रिमा आरती, अंजली सिंह, भुप्रेन्द सिंह, डा0 जे सिंह, डा0 पी0के0 चैधरी, डा0 अरूण कुमार आदि बड़ी संख्या में चिकित्सक व आशा बहने उपस्थित थी। 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति