सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जो वोटरशिप की बात करेगा, वही देश में अब राज करेगा

वोटरशिप पर कानून बनाने की देशव्यापी मांग पर भारत सरकार संसद में शीघ्र चर्चा कराये। ताकि वर्ष 2005 से लटका वोटरशिप अधिकार कानून बनने का मार्ग शीघ्र प्रशस्त हो सके। वोटर को इंसाफ मिलेगा या फिर इस सबसे बड़े लोक कल्याणकारी मामले को बिना संसद में चर्चा कराये यूं ही टाल दिया जायेगा। हमारा संकल्पित जोरदार नारा है, जो वोटरशिप की बात करेगा, वही देश में अब राज करेगा। देश के वोटरों की धड़कन है वोटरशिप। वोटरशिप अधिकार कानून बनाने का वादा करने वाली सरकार को ही अपना कीमती वोटर देकर इस बार जीताएं। हम सरकार के सामने अपनी बात स्पष्ट रूप से रखना चाहते है कि वोटर को अपने बहुमूल्य वोट से सरकार बनाने की फीस वोटरशिप के रूप में उसके संवैधानिक अधिकार के रूप में मिलनी चाहिए। क्या भारत सरकार देश के वोटरों के साथ शीघ्र वोटरशिप अधिकार कानून बनाकर सबसे बड़ा न्याय करने का साहस करेंगी?     
 हमें अनेक वर्षों का अनुभव है कि देश की कोई भी बड़ी पार्टी वोटरशिप कानून बनाने के पक्ष में नहीं है। इस कारण से हमने इन बड़ी पार्टियों की उपेक्षा से नाराज होकर विगत 3 वर्ष पूर्व देश को राजनैतिक विकल्प देने के लिए वोटर्स पार्टी इण्टरनेशनल की स्थापना की है। मात्र तीन वर्षों में वोटरशिप को राष्ट्रीय स्वीकार्ता मिली है। वोटरशिप प्रत्येक परिवार में आर्थिक समृद्धि लाकर आर्थिक आजादी का मार्ग प्रशस्त करेगी। वोटरशिप के विचार में पूरी पारदर्शिता है। भ्रष्टाचार की इसमें कोई गुंजाइश नहीं है। 
 लोकतंत्र के इतिहास में वोटरशिप अब तक की सबसे लोकप्रिय, सर्वमान्य तथा सार्वभौमिक तथा जन हितकारी योजना है। वोटरशिप में देश के सभी वर्गों का एक समान दृष्टि से ध्यान रखा गया है। भेदभाव की वोटरशिप में रत्ती भर भी गंुजाइश नहीं है। असीम संभावनाओं वाली वोटरशिप का देश भर के सभी वोटरों को अपनी पार्टी, क्षेत्र, धर्म, जाति आदि से ऊपर उठकर हार्दिक स्वागत करना चाहिए। विशेष रूप से वोटरशिप का व्यापक विचार गरीब-बेरोजगारों की उम्मीदों को पूरा करने वाला है। 
 सभी देशवासियों को वोटरशिप की सच्चाई, न्याय, मानवता तथा आर्थिक आजादी की जीत के रूप में स्वीकार करना चाहिए। सबसे पहले कार्य सबसे पहले किया जाना चाहिए। वोटरशिप कानून बनाना सबसे पहले कार्य है क्योंकि यह करोड़ों लोगों को भूख, गरीबी तथा बेरोजगारी से मुक्ति दिलाने सबसे शक्तिशाली हथियार है। वोटरशिप किसानों, गरीबों, निम्न, मध्यम, उच्च वर्गों, महिलाओं, पुरूषों, युवाओं, शिक्षित, अशिक्षित सभी को लाभ पहुँचाने वाली एक सर्वस्पर्शी व कल्याणकारी अधिकार योजना है। हमारी दृष्टि में अब तक वोटरशिप को कानूनी जामा न पहनाना दुनिया का आंठवा आश्चर्य है?
 वोटरशिप अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग व अनुसूचित जन-जाति की आर्थिक आजादी के प्रति भी समान दृष्टि से संवेदनशील है। वोटरशिप की पात्रता की शर्त वोटर होने मात्र से पूरी हो जाती है। चुनाव आयोग के पास देश के प्रत्येक वोटर का विवरण उपलब्ध है। प्रत्येक वोटर का बैंक खाता खुला हुआ है जो कि आधार कार्ड से लिंक हैं। वोटरशिप की धनराशि सीधे वोटर के खाते में भेजने का ढांचा पहले से तैयार है। वोटरशिप कानून बनाने की देर संसद से हो रही है जो कि वोटरशिप अधिकार कानून बनने के मार्ग की सबसे बड़ी बाधा है। 
 वोटरशिप के द्वारा हम देश के हर वोटर खासकर गरीबों-बेरोजगारों के हाथों में सरकारी खजाने से पैसा थमाना चाहते हैं। जेब में पैसा होने से इंसान का दिमाग तेजी से काम करता है। वर्तमान अति आधुनिक मशीनी युग तथा वैश्विक खुले बाजार के युग में हम प्रत्येक वोटर को रोजगार-नौकरी दे नहीं सकते। इस अभाव के चलते हमारी युवा पीढ़ी मानसिक रूप से कुण्ठित तथा बीमार हो रही हैं। वोटरशिप कानून बनने स्वदेशी लोकतंत्र की परिकल्पना साकार होगी। 
 वोटरशिप अभियान नव वर्ष 2020 में इतिहास रचने के युवा जुनून तथा जज्बे से निरन्तर आगे बढ़ रहा है। वोटरशिप कानून के बनने से आर्थिक समृद्धि प्रत्येक परिवार में आयेगी ही इसके साथ ही इसके द्वारा वास्तविक राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय जगत का पुनर्जागरण और सकारात्मक बदलाव भी होगा। वोटरशिप अब आपके द्वार पर आपसे रू-ब-रू होकर दस्तक दे रहा है। आइये, उठकर उसका हार्दिक स्वागत करें। अतिथि देवो भवः!
 भारत की वास्तविकता दुनिया के समक्ष क्या है? भारत क्या सिर्फ देश की सीमाओं के भीतर 130 करोड़ लोगों का घर ही मात्र ही है? हमारे अन्तःकरण की आवाज कहेगा, जी नहीं, भारत एक महान राष्ट्र के साथ-साथ एक जीवंत परम्परा है, एक विचार है, एक संस्कार है। वोटरशिप के राजपथ पर जब आप निकलेंगे तो पूरी दुनिया मंत्र मुग्ध होकर आपको देखेगी। साथ ही भारत से शुरू हुई वोटरशिप की आंधी सारी दुनिया से आर्थिक गुलामी में कैद मानव जाति को एक झटके में मुक्त कराकर अपने-अपने देश में वोटरशिप कानून बनाने के लिए आपस में होड़ करेगी। 
 हमारी संस्कृति में वसुधा को कुटुम्ब माना जाता है। भारत वास्तव में लघु विश्व का रोल माॅडल है। देश की प्राचीन समृद्ध कला-संस्कृति विश्व की अनमोल धरोहर है। वोटरशिप से युक्त नये भारत का भावी वोटर राजपथ पर अपनी प्रतिभा तथा समृद्ध संस्कृति का प्रदर्शन करने के समान एक अद्भुत नजारा होगा। भारत की समृद्ध तथा मानवीय उदार संस्कृति का दुनिया दर्शन भी करेगी। 
 वोटरशिप के द्वारा हमें यह सुनिश्चित करना है कि भारत का कोई भी वोटर, कोई भी परिवार पीछे न रह जायें। हमें वोटरशिप से आज अभी खुद को जोड़ना होगा। विश्व का परिदृश्य बहुत ही अस्त-व्यस्त करने वाला है। इस अशान्त वातावरण के प्रदुषण तथा वायरस से वोटरशिप का सबसे शक्तिशाली विचार हमें विचलित तथा मानसिक रूप से बीमार होने से रोकता है। 
 वोटरशिप हर वोटर को आर्थिक रूप से सशक्त करता है। राष्ट्रीय स्तर की सरकार से हमारी छः हजार रूपये प्रतिमाह प्रत्येक वोटर के खाते में डालने की मांग है। साथ ही सरकारी कर्मचारियों की तरह मंहगाई भत्ता की राशि अलग से होगी। राष्ट्रीय स्तर से अगले चरणों में विश्व सरकार तक के गठन का रास्ता वोटरशिप मानव जाति को दिखाता है। दूसरे अगले चरण में दक्षिण एशियाई सरकार बनाकर वोटरशिप की राशि बढ़ाकर पन्द्रह हजार रूपये करें, तीसरे चरण में आधे विश्व की सरकार बनाकर वोटरशिप की राशि पच्चीस हजार रूपये करें तथा चैथे अन्तिम चरण में विश्व सरकार बनाकर वोटरशिप की राशि चालीस हजार रूपये प्रत्येक वोटर को प्रतिमाह दिलाने के हम पूर्णतया संकल्पित हैं। मानव जाति के लिए वोटरशिप इस युग का सबसे दमदार मकसद है।  
 वोटरशिप का मात्र एक कानून लोगों की सोच तथा जीवन स्तर को बहुत ही तेजी से बदलकर रख देगा। वोटरशिप का सफर राष्ट्रीय स्तर पर ही वरन् अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक सतत विकास करेगा। वोटरशिप से वसुधैव कुटुम्बकम् अर्थात जय जगत की परिकल्पना साकार होगी। साथ ही एक युद्धरहित तथा आतंकवादरहित विश्व का सपना भी साकार होगा। इसी को कहते है 21वीं सदी उज्जवल भविष्य तथा धरती पर स्वर्ग का अवतरण। 21वीं सदी में वोटरशिप का दर्शन कहता है कि सभी धर्मों का एवं उनकी पवित्र पुस्तकों का स्रोत एक ही परमात्मा है। नई सदी में इस सच्चाई को फैलाने की आवश्यकता है कि ईश्वर एक है, धर्म एक है तथा मानव जाति एक है। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति