खराब पड़े हैं सोलर स्ट्रीट लाइट

रायबरेली। सरकार द्वारा जहाँ सोलर लाइटों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शहरों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रा में भी सोलर स्ट्रीट लाइट लगवाये जा जाते है। एक स्ट्रीट लाइट की लागत लगभग 25 हजार के आस-पास आती है। हजारों की लागत से लगने वाले इस सोलर लाइटों के देख-रेख की जिम्मेदारी जिन्हें सौंपी जाती है उनकी लापरवाही के कारण जहां लाइटें खराब हो जाती है उन्हें दोबारा रिपेयरिंग के लिए तरसना पड़ता है।
इसी प्रकार का एक मामला जनपद के ग्राम पूरे त्रिवेदी पोस्ट-गोपालीखेड़ा से प्रकाश में आया है जहाॅ त्रिमूर्ति बाल शिक्षा निकेतन पूर्व माध्यमिक विद्यालय, में वर्ष 2018-19 में सांसद निधि से यूपी नेडा द्वारा स्थापित सोलर स्ट्रीट लाइट जिसकी लागत 21500 रूपये है लगवायी गयी थी। जो कि पिछले काफी समय से खराब पड़ी है। जहाॅ एक ओर इन जिम्मेदार अधिकारियों व कार्यदायी संस्थाओं द्वारा सरकार के पैसे का दुरूपयोग हो रहा है वहीं ये लोग अपनो कार्यो को सही ढंग से सम्पादित नहीं कर रहे है। स्थानीय लोगों ने लाइट को शीघ्र सही कराने की मांग के साथ-साथ इन कर्तव्यहीन कर्मचारियों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाहीं की मांग भी की है।