सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जनता कफ्र्यू पालन करने की अपील

युवा विकास समिति के अध्यक्ष सिद्धार्थ त्रिवेदी ने कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 मार्च को सुबह 7 बजे से शाम 9 बजे तक जनता से जनता कफ्र्यू का आह्वान किया है कि हम अपने घरों से बाहर नहीं निकलें। हम सभी देशहित में लिए गए निर्णय का स्वागत करते हैं। हम सभी यह प्रण करते हैं कि हम इसका पालन करेंगे और अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाते हुए अन्य सभी को भी इस आह्वान के लिए प्रेरित करेंगे।
22 मार्च को जनता कर्फ्यू क्यों?
वैसे तो ये 14 घण्टे का स्वेच्छा से स्वंय संयम का संकल्प है, मगर हो जायेंगे लगभग 34 घण्टे।
वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो 34 घंटे का कफ्र्यू वायरस चक्र में एक ब्रेक साबित हो सकता है। (34 घण्टे इसलिए क्योंकि अमूमन ज्यादातर लोग शनिवार 21 मार्च रात 9 बजे तक घर पहुँच चुके होंगे और इतवार रात 9 बजे तक घर पर रहेंगे और लगभग सोमवार सुबह 7 बजे तक भी घर पर ही होंगे) 34 घंटे अगर वायरस को नए इंसानी शरीर नहीं मिलेंगे तो वातावरण में मौजूद काफी वायरस खत्म हो जाएंगे। 
34 घण्टे में हमारी सड़कें, बाजार, दफ्तरों के दरवाजे, रैलिंग, लिफ्ट आदि स्वतः ही स्टरलाइज हो जाएंगे। अंतः आप सभी से निवेदन है की आप इस मुहिम में स्वेच्छा से साथ दें और सकारात्मक विचार फैलाये। 
कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या करें!
1. व्यक्तिगत स्वच्छता और शारीरिक दूरी बनाए रखें। 
2. बार-बार हाथ धोने की आदत डालें। साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल करें। 
3. साफ दिखने वाले हाथों को निरंतर धोएं।
4. छींकते औरर खांसते समय अप नी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंकें। 
5. उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंकें। 
6. बातचीत के दौरान व्यक्तियों से एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें, विशेष रूप से फ्लू जैसे लक्षण दिखने वाले व्यक्तियों के साथ।
7. अपनी कोहने के अंदरूनी हिस्से में छींके, अपने हाथों की हथेलियों में न खासें। 
8. अपने तापमान को और श्वसन लक्षणों की जांच नियमित रूप से करें। अस्वस्थ्य महसूस करने पर (बुखार, सांस लेने में कठिनाई और खांसी) डॉक्टर से मिलने के दौरान, अपने मुंह और नाक को ढंकने के लिए मास्क का प्रयोग करें। 
9. खांसने-छींकने वालों से कम से कम 1मीटर (3 फीट) दूर ही रहिये.
क्या नहीं करें:-
1. हाथ न मिलाएं।
2. अगर आपको खांसी और बुखार महसूस हो रहा है तो किसी के साथ निकट संपर्क में न आएं। 
3. अपनी आंख, नाक और मुंह को स्पर्ष न करें। 
4. हाथों की हथेलियों में न छींके  और न ही खासें। 
5. सार्वजनिक रूप से न थूकें। 
6. अनावश्यक यात्रा न करें, विशेषकर प्रभावित इलाकों में। 
7. समूह में न बैठें, बड़े समारोहों में भाग न लें। 
8. जिम, क्लब और भीड़-भाड़वाली जगहों पर न जाएं। 
9. अफवाह और दहशत न फैलाएं।
आवश्यक सूचना’ः-
सैनिटाइजर लगाकर रसोई में गैस या किसी भी आग, ज्वलनशील पदार्थ के पास मत जाओ या पहले पानी से हाथ अच्छी तरह से धो लो।
सैनिटाइजर में एल्कोहल होता है और एकदम आग पकड़ता है
सभी के लिए यह जानकारी अत्यधिक आवश्यक है। 
इस सन्देश को अधिक से अधिक शेयर करें।
उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनऊ में कोरोना वायरस के इलाज के लिए 6 अस्पतालों को नामांकित किया हैः-
1- लोकबंधु अस्पताल 
2- सिविल अस्पताल
3- बलरामपुर अस्पताल
4- केजीएमयू
5- राम मनोहर लोहिया अस्पताल
6- एसजीपीजीआई


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति