आग उल्फत की लगानी चाहिये


जिन्दगी   को   भी   मआनी   चाहिये !
दिल   पे    तेरे     हुक्मरानी   चाहिये !


चाहतों   का   घर   बनाने   के   लिये !
आप   जैसा    एक    बानी    चाहिये !


तेरी आमद   पर   मेरे  दिल  ने  कहा !
प्यार  की   दुनिया   सजानी   चाहिये !


इश्क    महकेगा     हमारा    उम्र  भर !
हर  कदम  पर   रुत   सुहानी  चाहिये !


इश्क  का  सजदा  हो   पाये  यार  हो !
रस्म-ए-उल्फत   यूँ   निभानी  चाहिये !


संग  दिल  को  मोम  करने  के  लिये !
आग  उल्फत   की   लगानी   चाहिये !


इश्क   के   ता लाब   को   मेरे   खुदा !
अब   समंदर    सी    रवानी   चाहिये !


तुम  सदाकत  साथ  में  रख्खो  वफा !
खुशनुमा   गर    जिन्दगानी    चाहिये !


हुस्न  पहले   बा-वफा   होकर  दिखा !
इश्क   की    गर   पासबानी   चाहिये !


आशिकों में हो ‘कशिश’ का भी शुमार !
बस    तुम्हारी     मेहरबानी    चाहिये !