सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्वारंटीन सेंन्टरों में सोशल डिस्टेन्सिंग पर विशेष ध्यान दिया जाये

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने निर्देश दिये है कि घनी आबादी वाले क्षेत्रों में नियमित पेट्रोलिंग किये जाने के साथ ही लाॅकडाउन का कड़ाई से अनुपालन कराया जाये इसके अलावा जो क्वारंटीन सेंन्टरों में सोशल डिस्टेन्सिंग पर विशेष ध्यान दिया जाये और पूरी सावधानी और सतर्कता बरती जाये। कोरोना योद्धा विशेष कर स्वास्थ्य कर्मचारियों पर किसी भी प्रकार का दुव्यवहार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा। उन्होंने कड़े निर्देश दिये सीडीओ, एडीएम ई व एफआर व समस्त एसडीएम कोरोना योद्धा विशेष कर स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मचारियों, पुलिस कर्मी आदि जो कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जी जान से लगे हुए है। उन पर विशेष ध्यान दिया जाये। इसके अलावा लाॅकडाउन का पालन व लोगों को घरों में रहने की हिदायत देते रहे। आमजन मानस को आरोग्य सेतु एव आयुष कवच कोविड एप डाउनलोड करने के लिए प्रेरित भी करते रहे।
 जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि शहरी व ग्रामीण इलाको में 99 शेल्टर होम स्थापित है जिसमें 12794 लोगों को रखा जा सकता है। अबतक 170 रोके गये है। जांच रिपोर्ट प्राप्त न होने के कारण व चिकित्सय देख-रेख में रखे जाते है। क्वारंटाइन होम में रोके गये व्यक्तियों को भोजन बिस्तर, साबुन इत्यादि आवश्यक सुविधाए उपलब्ध कराई गई है। इन स्थानों की नियमित रूप से साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है। निराश्रित असहाय दिव्यांग जन/भिक्षुकों एवं श्रमिको हेतु सरकारी कम्युनिटी किचन जिसमें नगर में 12 है। गैर सरकारी/स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा संचालित 4 किचन कुल 16 किचन संचालित है। जिसमें सरकारी कम्युनिटी किचन माध्यम से प्रतिदिन 3751 व्यक्तियों को भोजन/पैकेज व गैस सरकारी के माध्यम से प्रतिदिन 1490 व्यक्तियों को भोजन मुहैया कराया जा रहा है। अबतक कुल लोगों को 406258 व्यक्तियों को भोजन एवं 6356 परिवारों को राशन सामग्री के पैकेट उपलब्ध कराये गये है। अन्य प्रदेशों एवं प्रदेश के अन्य जनपदों से आने वाले व्यक्तियों के सम्बन्ध में जिसमें उ0प्र0 के निवासी जो जनपद में 14652 रूके हुए, अन्य प्रदेश/देश के निवासी जो जनपद में 79 रूके कुल 14731 व्यक्तियों के रूके हुए है। अन्य प्रदेश के निवासी जो अन्यत्र चले गये 785, कुल 15516 है। शेल्टर होम में क्वारंटाइन 170, होम क्वारंटाइन 14693, चिकित्सीय देख-रेख में 53, डिस्चार्ज 416 किये गये है।   
 जिलाधिकारी ने बताया है कि आश्रम स्थल से क्वारंटाइन अवधि पूर्ण कर अपने निवास स्थान/घर जाने वाले व्यक्तियों को अबतक 12684 एवं पात्र आमजनमानस के लोगों में अबतक 3689 कच्ची खाद्य सामग्री किट उपलब्ध करायी गयी है। निराश्रित एवं गोशालाओं के लिए जनपद में स्थित 42 गोशालाओं में 6245 पशुओं को रखा गया है निराश्रित एवं गोशालाओं के लिए पशुओं के लिए हरा चारा, भूसा, चूनी, रोटी आदि की व्यवस्था की गई है। कोई आमजन अनावश्यक रूप से बाहर न निकले इसके लिए खाद्यान्न, दूध, सब्जी दैनिक उपभोग की वस्तुओं को नियमित आपूर्ति हेतु 209 प्राविजन स्टोर को पास निर्गत किये गये ह जो 233 व्यक्तियों के माध्यम से डोर-टू-डोर उपभोक्ताओं को सामग्री पहुचाई जा रही है। सब्जियों एवं फलों की आपूर्ति हेतु 107 छोटे वाहन एवं 135 हत्थुठेलाओं कुल 242 पास निर्गत किये गये है जिसके माध्यम से सब्जियां व फल उपभोक्ताओं को निगत किये जा रहे है। इसी प्रकार दूध की आपूर्ति के लिए 60 पास व 25 दूधियों को भी पास जारी किये गये है। ताकि दूध आदि सामग्री को घर-घर पहुचा सके। अबतक लगभग 22200 लीटर दूध का वितरण किया जा चुका है। 
 कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए युद्ध स्तर पर कार्य किया जाये। दवाओं की आपूर्ति के लिए 17 कार्यरत मेडिकल एजेन्सी, 84 मेडिकल स्टोर एवं दुकान संचालन एवं डोर स्टेप डिलीवरी के लिए कुल 272 पास निर्गत किये गये है। इन दुकानो पर सोशल डिस्टेसिंग के मानकों का अन.ुपालन कराते हुए दवाअओं की आपूर्ति करायी जा रही है। लाॅकडाउन से प्रभावित श्रमिकों आदि को उपलब्ध कराये जाने वाली अंकन 1000 रू की धनराशि उपलब्ध कराने हेतु सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण कराकर लाभार्थियों का चयन किया जा चुका है। अब तक कुल 9818 व्यक्तियों को कुल 9818000 धनराशि स्थानान्तरित की जा चुकी है। श्रम विभाग में पंजीकृत 38191 श्रमिकों में से 37106 श्रमिकों के खातों में 3 करोड़ 71 लाख 6 हजार की धनराशि स्थानान्तरित किए जा चुके है। 
 कंट्रोल इंटीगे्रटेड कंटोल रूम में विभिन्न माध्यमों से प्राप्त शिकायतों का अबतक 7293 से 7260 प्राप्त शिकायतों को निस्तारण व सत्यापन कर लिया गया है। निस्तारण का प्रतिशत 99.55 है। इसी प्रकार आईजीआरएस, सीएम हेल्पलाइन 4579 में से 4562 के माध्यम से 99.63 प्रतिशत, कंट्रोल रूम में स्थापित दूरभाष पर प्राप्त 1751 में से 1742 निस्तारित का 99.49 प्रतिशत की जा चुकी है। डायल 112 पर आॅनलाइन प्राप्त 418 में से 312 निस्तारण शिकायतो का निस्तारण का 98.56 प्रतिशत है, राहत आयुक्त के कार्यालय पर स्थापित काल सेन्टर 1070 पर आॅनलाइन पर 545 में से 544 निस्तारित, निस्तारण 99.52 प्रतिशत है। कोविड-19 के तहत निर्गत किए गए नगरी व ग्रामीण क्षेत्र में अभियान के दौरान नगरी क्षेत्र में 1541 व ग्रामीण क्षेत्र में 12730 कुल 14271 पात्र लाभार्थियों के सापेक्ष राशन कार्ड जारी किये गये है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति