लापरवाही किसी भी स्तर पर क्षम्य नही

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना के नोवेल कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिये है कि निगरानी समितियों को सक्रिय रखा जाये। निगरानी समितियों के सदस्यों से संवाद जारी रखा जाये तथा लोगों को आरोग्य सेतु व आयुष कवच कोविड एप को आम जनमानस को जागरूक कराते हुए एप डाउनलोड करने के लिए प्रेरित किया जाये। जिलाधिकारी के निर्देश पर मुख्य विकास अधिकारी, रायबरेली अभिषेक गोयल ने बचत भवन के सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक करते सेक्टर, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि कोरोना महामारी को गम्भीरता से लेते हुए निगारानी समितियों के माध्यम से अपने-अपने क्षेत्रों में कड़ी निगरानी रखे तथा सुरक्षा करें। पूरी दुनिया में सब बन्द होने पर कोरोना को खत्म करने में लगी हुए है। पूरी तरह व ईमानदारी एवं लगन से स्वास्थ्य प्रोटोकाल व शासन व प्रशासन द्वारा दिये गये निर्देशों को कड़ाई से अनुपालन करें। 
 मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल ने कहा कि शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में आए हुए प्रवासी मजूदरों का शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में गठित निगरानी समितियों को प्रभावी तरीके से सक्रिय रखते हुए निरंतर निगरानी करने में किसी भी प्रकार की शिथिलता व लापरवाही किसी भी स्तर पर क्षम्य नही की जायेगी। शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में निगरानी समिति प्रवासी व आम जनमानस लोगों को निरन्तर स्वास्थ्य का निरन्तर परीक्षण व जानकारी दे। प्रत्येक दिन शहरी व ग्रामीण समितियों का कार्य का जायजा लेते रहे। निगरानी समिति में किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाये यदि शिथिलता पाये जाने पर सम्बन्धित के खिलाफ आवश्यक कार्यवाही भी सुनिश्चित की जाये। समस्त सेक्टर/नोडल अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अधिकारीगण शासन के निर्देशों व स्वास्थ्य प्रोटोकाल के अनुपालन में सभी कार्य प्राथमिकता से करें। जिस अधिकारी को जो जिम्मेदारी दी गई है उसे प्रथम प्राथमिकता पर लेते हुए दायित्वों का निर्वहन करें। जरूरतमंदों को निरंतर राशन कीट एवं जरूरी सामानों की आपूर्ति भी निरंतर संचालित रहना चाहिए। 
 मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि गठित निगरानी समितियों के माध्यम से प्रतिदिन की रिपोर्ट लेकर क्षेत्र की व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखा जाये तथा रिपोर्ट के अनुरूप जहां पर जो कमी हो उसे पूरा करें। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने व बचाव के लिए अधिकारियों को निर्देश दिये है कि भारत सरकार की गाईड लाइन व स्वास्थ्य प्रोटोकाल के अनुरूप ही गठित टीमें कार्यो को युद्ध स्तर पर करें। श्रमिक प्रवासी कामगार मजूदर व उनके परिवारों का आगमन उनके गन्तब्यों तक पहुचाने का कार्य चलता रहेगा। जनपद में लगभग 9086 आकर उन्हें उनके गन्तब्यों तक भेजा गया है। उन्होंने सीएमओं, डीपीआरओ, ईओ नगर पा.लिका/नगर पंचायत, सभासद, ग्राम प्रधान आदि कोरोना योद्धा, चिकित्सक व स्टाफ, सफाई कर्मी व पुलिस कर्मियों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दिया जाये उनसे फोन से सम्पर्क कर उनका व उनके परिवार के सदस्यों की स्वास्थ्य की जानकारी ले अगर किसी का स्वास्थ्य खराब है या किसी भी प्रकार कोई समस्या है तो उसे तत्काल चिकित्सकीय व अन्य सहायता उपलब्ध कराये। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने व बचाव के लिए कोरोना योद्धाओं का प्रत्येक दशा में सम्मान व उचित देख-भाल व विशेष ध्यान देना जरूरी है। शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में आरोग्य सेतु व आयुष कवच कोविड एप डाउनलोड कराने के लिए आम जनमानस को जागरूक करें। मुख्य चिकित्साधिकारी व गठित टीमों को निर्देश दिये कि चल रहे लाॅकडाउन की समीक्षा करते हुए नई रणनीति के तहत कोरोना वायरस की चैन को तोड़ने व बचाव राहत आदि के कार्यो को युद्ध स्तर पर कराया जाये। टेलीमेडिसिन के माध्यम से 50 चिकित्सक की टीम है। जिनके द्वारा लगभग 4 हजार से अधिक व्यक्तियों ने दूरभाष से सम्पर्क कर स्वास्थ्य लाभ ले चुके है। टेलीमेडिसिन चिकित्सक प्रतिदिन की रिपोर्ट प्राप्त कर निःशुल्क मरीजों को परामर्श दिया तथा जो उनका निर्धारित समय है उसमें प्रत्येक दशा में सामान्य मरीजों निःशुल्क फोन के माध्यम से परामर्श देते रहे। उन्होंने सभी सेक्टर अधिकारियों से कहा कि निगरानी समिति के माध्यम से साफ-सफाई, टेलीमेडिसिन से लाभ, जरूरतमंदों को राशन वितरण आदि का कार्य की जानकारी भी लेते रहे।