थम गई मेरी जिन्दगी है अभी

दूर  इस  दिल  से  तीरगी  है  अभी !
तेरी  चाहत   की   रौशनी  है  अभी !


हिचकियाँ  आयीं  तो  मेरे  दिल  में !
एक   उम्मीद   सी   जगी  है  अभी !


मुझको     कैसे     सुकूँन   आयेगा !
तुझसे  मिलने की  बेकली  है अभी !


लौट   आओ   के    तेरे   जाने   से !
थम  गई   मेरी   जिन्दगी  है  अभी !


तेरे   आने   की   जो   खबर  आई !
बस  इसी  बात की  खुशी है अभी !


गुल  खिले  हैं  चमन  ये  महका है !
शाखे-गुल भी  सनम  हरी है अभी !


शाम   रंगीन  हो   जो  आ  जाओ !
दिल ढला शम्मा भी जली है अभी !


कैसे  मंजिल   तलक  ये  पहुँचेगी !
जिन्दगी   राह  में   पड़ी  है  अभी !


कुछ  नहीं  है ‘कशिश’  कहूँ  कैसे !
रब  मेरा  उसकी  बंदिगी  है  अभी !