कामगार व श्रमिक को रोजगार दिलाया जाये

कामागार और श्रमिक आयोग की जिला स्तरीय समिति की प्रथम बैठक जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना कलेक्ट्रेट स्थित बचत भवन के सभागार की अध्यक्षता में बैठक की गई। जिलाधिकारी ने कहा कि कामगार और श्रमिको के सामाजिक एवं आर्थिक सुरक्षा के लिए तथा उनके सर्वागीण विकास के लिए प्रदेश सरकार द्वारा कामगार और श्रमिक आयोग का गठन किया गया है। जिसका उद्देश्य सरकारी व गैर सरकारी क्षेत्रों में सेवा योजन एवं रोजगार के अवसर सृर्जित करना है। जिसके फलस्वरूप जनपद के आये प्रवासियों एवं कामगार और श्रमिकों को उनके कार्य के अनुरूप सेवा योजन एवं रोजगार दिलाया जाये। आयोग के अन्तर्गत एक राजस्तरीय कार्यकारी परिषद/बोर्ड का गठन किया गया है जिसके द्वारा दिये गये समस्त निर्देशानुसार क्रियान्वयन एवं अनुश्रवण हेतु जिला स्तरीय समिति गठित की गई है। केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास योजनाओं में मुख्य रूप से राष्ट्रीय अजीविका मिशन, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना, एक जनपद एक उत्पाद योजना, माटी कला बोर्ड, खादी एवं कुटीर उद्योग खाद्य प्रसंस्करण, फार्मस प्रोड्यूसर आगेंनाइजेशन तथा मनरेगा योजनान्तर्गत अधिक से अधिक प्रवासी श्रमिक व कामगार को जोड़ा जाये तथा विभिन्न विभागों की निर्माण संस्थाओं एवं निजी इकाई के साथ समन्वयक स्थापित करते हुए अधिक से अधिक कामगार व श्रमिक को रोजगार दिलाया जाये। 
 जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सेवा योजन पोर्टल पर प्रवासी श्रमिक व कामगार एवं निवासी श्रमिको, सेवामित्र एप्लीकेशन का विकास कराया जाये जिससे समस्त विभाग के अधिकारी अपने क्षेत्रानुसार आईजीआरएस आईडी व पासवर्ड के साथ लाॅगिंन कर प्रवासियों का डाटा डाउनलोड किया जा सकता है। जिससे प्रतिदिन सेवायोजित होने वाले प्रवासियों का डाटा उपलब्ध हो सके। श्रमिक द्वारा भी इस एप्लीकेशन से सेवायोजन कार्यालय में अपना पंजीयन करा सकते हैं। कामगार व श्रमिक आयोग की जनपद स्तरीय समिति की माह के प्रत्येक सप्ताह में बैठक आयोजित की जाये।
 इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल व परियोजना निदेशक, मनरेगा पवन कुमार, जिला पंचायत राज अधिकारी, खादी ग्रामोद्योग अधिकारी अवधेश कुमार, जिला उद्योग नेहा सिंह सहित जनपद के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

जेल जाने के योग