सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लूटी गई पिकप तीन अभियुक्त अवैध असलहा कारतूस के साथ मुठभेड़ में गिरफ्तार


थाना गम्भीरपुर में लूटी गई पिकप (मसाला सहित) बरामद ,तीन अभियुक्त अवैध असलहा कारतूस के साथ मुठभेड़ में गिरफ्तार’ 15 जुलाई.2020 को श्री प्रदीप श्रीवास्तव पुत्र श्री रामनरेश श्रीवास्तव निवासी न्यू0 कालोनी महेशपुर लहरतारा थाना मडुवाडीह जनपद वाराणसी ने थाना गम्भीरपुर में शिकायत दर्ज कराई कि वह वाराणसी मे ट्रान्सपोर्ट का कार्य करता है और 14.जुलाई को अपने पिकप  यूपी65टीडी7682 से चालक सलीम द्वारा 93 नग राकेश मसाला एव सत्तू आदि लोड कर आजमगढ के लिए भेजा था। जिसे जायका दरबार से आगे इण्डियन पेट्रोल पम्प के पास चार बोलेरो सवार लूटेरो ने असलहा दिखाकर पिकप एवम् उस पर लदा माल लूट लिया। थाना गम्भीरपुर मे तत्काल मु0अ0स0 109/20 धारा 392 भादवि पंजीकृत कर विवेचना प्रारम्भ की गयी।


पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ प्रो0 श्री त्रिवेणी सिंह’ द्वारा घटना का संज्ञान लेकर अपर पुलिस अधीक्षक नगर श्री पंकज पाण्डेय व क्षेत्राधिकारी सदर मो0 अकमल खाँ, प्रभारी निरीक्षक गम्भीरपुर श्री राकेश कुमार सिंह तथा सर्विलांस एवम् स्वाट की टीमो को तत्काल इसके अनावरण हेतु निर्देशित किया गया। जिसके क्रम में दिनांक 16.जुलाई को प्रभारी निरीक्षक गम्भीरपुर एवम् प्रभारी निरीक्षक मेहनगर श्री दुर्जेन्द्र कुमार सिंह अपने पुलिस बल के साथ मगरावा तिराहा पर देर शाम अपराधियो के विरूद्ध कार्यवाही के लिये आपस में चर्चा कर रहे थे तभी मेहनगर की तरफ से एक बोलेरो आती दिखायी दी पुलिस पार्टी द्वारा उसे चेकिंग के लिये रोकने का प्रयास किया गया तो बोलेरो सवार बदमाशो ने पुलिस पार्टी पर जान से मारने की नियत से फायरिंग कर दिया। परन्तु पुलिस पार्टी द्वारा अपने अनुभव व प्रशिक्षण का इस्तेमाल कर उनके हमले को विफल कर दिया और बोलेरो सहित 3 अभियुक्त मौके से गिरफ्तार किये जबकि एक अभियुक्त अंधेरे का लाभ लेकर भागने में सफल रहा । पकड़े गये अभियुक्तो के नाम क्रमशः1- अबु तालिब पुत्र अली जहीर सा0 मुजफ्फरपुर थाना गम्भीरपुर आजमगढ़  2- शाहिद पुत्र सोहराब साई सा0 मुजफ्फरपुर थाना गम्भीरपुर आजमगढ़ 3- अबु कैश पुत्र स्व0 असफाक सा0 विषहम थाना मेहनगर आजमगढ़ एवम् फरार अभियुक्त का नाम बेलाल पुत्र स्व0 खुर्शीद निवासी चीवटही थाना गम्भीरपुर जनपद आजमगढ के रूप में सामने आया। अभियुक्त अबु तालिब एवं अबु कैश की निजी तलाशी से एक-एक अदद तमंचा 315 बोर एवम् 2-2 कारतूस जिन्दा 315 बोर बरामद हुआ। पुछताछ से ज्ञात हुआ कि पुलिस पार्टी पर फायर करने वाला अभियुक्त बेलाल था जो भागने में सफल रहा। अभियुक्तगण ने विस्तृत पुछताछ के बाद जायका दरबार के पास लूटी गयी पिकप की घटना करना स्वीकार किया तथा लूटा गया मसाला-सत्तू कुल 91 नग एवम् लूटी गयी पीकप नं0 यूपी65टीडी7682 नसीम पुत्र मैनुद्दीन के घर एवं हाता ग्राम खुन्दनपुर थाना मेहनगर से बरामद भी कराया। बरामदगी के आधार पर लूट के मुकदमें में धारा 411,414 भादवि की वृद्धि करते हुए अभियुक्त अबु तालिब एव अबु कैश के विरूद्ध क्रमशः मु0अ0सं0-111/2020 तथा 112/2020 अन्तर्गत धारा 3/25 आर्म्स एक्ट थाना गम्भीरपुर पर पंजीकृत किया गया। आवश्यक विवेचनात्मक कार्यवाही कर न्यायिक अभिरक्षा हेतु माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया जा रहा है
अभियुक्तगण के द्वारा पूछताछ करने पर यह तथ्य भी प्रकाश में आया कि अभियुक्त तालिब कि किराने की दुकान है जो घाटे में चल रही है। अभियुक्त बेलाल उसी दुकान पर काम करता था। शेष अभियुक्तगण आपस में मित्र है तथा पिछले कई दिनो से आपस में अपराध करके धन कमाने की योजना बना रहे थे। जिसमें बेलाल सभी को लीड कर रहा था। इस अभियोग के घटना के दिन चारो अभियुक्त बोलेरो गाडी में सवार होकर रोड पर किसी बेचने लायक माल लदी गाडी जिसमें सिर्फ चालक हो की तलाश किये और सुनसान जगह पर इस अपराध को कारित किये। चालक को घटना स्थल से दूर ले जाकर छोड दिये और माल सहित फरार हो गए।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति