सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राइवेट हॉस्पिटल के 50 प्रतिशत स्टाफ को भी इस्तेमाल किया जा सकता


झांसी। मंडलायुक्त सुभाष चंद्र शर्मा ने आयुक्त सभागार में इंडियन मेडिकल ऐसो, प्राइवेट नर्सिंग होम के चिकित्सक तथा सरकारी चिकित्सकों से झांसी में कोविड-19 की बिगड़ती स्थिति को कैसे सुधारा जाए, बढ़ते हुए मरीजों की गति को कैसे रोका जाए ताकि झांसी को बचाया जा सके पर आत्ममंथन किया। उन्होंने सीधे शब्दों में कहा कि समाज हित में आप आगे आएं और प्रतिकूल समय में सहयोग दें। जिले में कोविड मौत की एक वजह प्रॉपर समय से इलाज ना हो पाना है। मरीज आखिरी समय में अस्पताल आ रहा है लोगों को आपके माध्यम से जागरूक किया जाए ताकि लोग बीमारी छुपाए नहीं तत्काल अस्पताल आए। तभी जीवन सुरक्षित किया जा सकता है। इमरजेंसी में मेडिकल कॉलेज ही क्यों मरीज आए अन्य निजी अस्पताल चिन्हित किए गए वहां क्यों नहीं जा रहे हैं, उन्हें भी जिम्मेदारी दी जाए।
मंडलायुक्त ने आईएमए व निजी चिकित्सकों से बात करते हुए कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से कैसे रोका जाए सुझाव दें। 
बैठक में उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज कोविडध् नॉन कोविड पूर्ण क्षमता से संचालित हो। जो बेड बढ़ाए गए हैं उनमें मैनपावर, भोजन आदि की व्यवस्था सुनिश्चित हो। जनपद में लगभग एल-1हॉस्पिटल में 1200 बैड तैयार कर लिए गए हैं परंतु अभी आधे का इस्तेमाल हो रहा, सभी का इस्तेमाल करें। निजी नर्सिंग होम ट्रूनेट मशीनध् लैब खोलने के लिए आगे हैं शासन से अनुमति जल्द दिलाई जाएगी। प्राइवेट हॉस्पिटल के 50ः स्टाफ को भी इस्तेमाल किया जा सकता है यदि मैनपावर की कमी है। यदि स्टॉफ आनाकानी करता है तो एपेडेमिक एक्ट का इस्तेमाल करेंगे।
मंडलायुक्त ने लाइफ लाइन, चिरंजीवी, निर्मल हॉस्पिटल सहित अन्य प्राइवेट नर्सिंग होम को ताकीद करते हुए कहा कि मरीजों को भर्ती करने से मना नहीं करेंगे। जनपद में अभी 4 नर्सिंग होम चिन्हित है। नोन कोविड हॉस्पिटल में और भी नर्सिंग होम आगे आये, उन्होंने कहा कि पेशेंट को मरने नहीं दे सकते यह आपका पेशा है जिम्मेदारी लेंगे तो समस्या हल हो जाएगी। आप सभी समाज की बेहतरी में सहयोग करें।
बैठक में जिला अस्पताल में उपलब्ध 250 बेड के सापेक्ष मात्र 24 बेड ही मरीजों से भरे होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए मंडलायुक्त ने निर्देश दिए कि जिला अस्पताल मैं ट्रूनेट मशीन उपलब्ध है अतः मरीजों की जांच करते हुए मरीज भर्ती करें भर्ती मरीजों को समय से चाय, नाश्ता, खाना के साथ सफाई व्यवस्था, चादर बदला जाना समय से सुनिश्चित हो। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला अस्पताल में 16 बेड की इमरजेंसी है जिसे तत्काल 50 बेड के वार्ड में इमरजेंसी घोषित करें ताकि अधिक से अधिक मरीजों को भर्ती किया जा सके और चिकित्सीय सुविधाएं दी जा सके। बैठक में कंटेनमेंट जोन में नियमों का सख्ती से पालन कराया जाए। पालन ना होने पर सख्त कार्रवाई की जाए। बिना मास्क लगाएं लोगों का चालन हो। मंडलायुक्त ने कहा की कंटेनमेंट जोन में होम क्वॉरेंटाइन वाले घर पर ही रहे बाहर ना निकले ना लोगों से मिले। उन्होंने कहां की लोगों को मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने व भीड़ से बचने की भी जानकारी दें, उन्हें जागरूक करें।
निदेशक पैरामेडिकल कॉलेज डाक्टर  एस एन सेंगर ने सुझाव देते हुए कहा कि ट्रूनेट मशीन से टेस्टिंग में तेजी लाएं और नॉन कोविड एरिया में टेस्टिंग करके स्थिति को सुधार सकते हैं। उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज में कोविड आईसीयू 20 बेड थे परंतु अब बढ़ाकर 90 बेड कर दिए गए हैं वेंटीलेटर की सुविधा है। अभी और हालात बिगडेगे की संभावना है, इसके लिए हमें और तैयारी करनी होगी।
डॉ राजीव सिन्हा ने सुझाव दिया कि प्राइवेट सेक्टर को भी खोला जाए ताकि वहां भी मरीजों को देखा जा सके। उन्होंने स्टाफ के भागने की बात कही। जिस पर मंडलायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि समाज के प्रति जो जिम्मेदारी है, उसका निर्वहन करें।
लाइफ लाइन हॉस्पिटल के डॉक्टर प्रवीण कुमार ने ट्रूनेट मशीन की सुविधा जल्द उपलब्ध कराए जाने का सुझाव दिया। उन्होंने बताया कि ट्रूनेट निजी हॉस्पिटल में लगाना आसान नहीं है।
डॉ सतीश अग्रवाल ने कहा कि बुखार वाले मरीजों को देखने की गाइड लाइन में मनाही है, इसलिए हम उन्हें नहीं देख रहे हैं। यदि मरीज कोविड  निगेटिव है तो उसका प्रॉपर इलाज किया जाएगा।
आईजी  एसएस बघेल ने चिकित्सकों के सुझाव को सुनते हुए कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया हैं कि अभी पीक टाइम आना है। आज जनपद में 650 टेस्टिंग में 112 पॉजिटिव आये हैं। क्या समाज के प्रति आपकी जिम्मेदारी नहीं है कि आप आगे आकर इस महामारी को रोकने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि सभी नर्सिंगहोम में सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित होगी।
इस मौके पर जिलाधिकारी  आन्द्रा वामसी, एसएसपी  डी प्रदीप कुमार, अपर आयुक्त  सर्वेश कुमार दीक्षित, सीएमओ डॉक्टर गजेंद्र कुमार निगम, एसपी सिटी राहुल श्रीवास्तव, डॉ अन्नु निगम, डॉ अंशुल जैन, डॉक्टर श्वेताशं, डॉक्टर सुदीप सहित अन्य चिकित्सक व अधिकारीगण उपस्थित रहे।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति