भाजपा किसान नेता मांग को लेकर प्रशासन को सौंपा ज्ञापन

भाजपा किसान नेता रमेश सिंह अपने ऊपर दर्ज की गई झूठी एफआईआर समाप्त करने व अपना मुकदमा लिखे जाने की मांग को लेकर तहसील पहुंचे और कोविड19 नियमों का पालन करते हुए उपजिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी लालगंज को ज्ञापन सौंपा ज्ञापन में उन्होंने निम्नलिखित चीजे भी दर्शाई उन्होंने उसमे कहा कि मेरी एफ आई आर. अकित करने एवं प्रेम बाबू सचान लिपिक मण्डी समिति लालगंज द्वारा रिश्वत माँगने के दो वायरल आडियो की जाँच मण्डी के समस्त कर्मचारियों को लालगंज से हटाकर किये जाने से सम्बन्धित पत्रों पर अब तक कोई विचार न किया जाना लोकतंत्र में आम जनता के आक्रोश को आमंत्रित कर उच्चाधिकारियों ने सरकार की छवि को नष्ट करने का प्रयास किया है जो कि लोकतंत्र-जनहित में उचित नहीं है जिसके कुछ एक बिन्दु निम्नवत हैं - पहले अंक में यह दर्शाया की प्रेम बाबू सचान को मेरे द्वारा मण्डी की अवैध वसूली रोकने तथा रिश्वत के आडियो के कारण मुझ पर दबाव बनाने के लिए षड्यंत्र कर झूठी एफ.आई आर. लिखाना। 2 मेरे विरोधियों से मिलकर मेरी छवि नष्ट करने के लिए बिना पुलिस या विभागीय अधिकारियों को सूचित किये 21072020 को रात्रि 08ः45 पर प्रेम बाबू सचान ने झूठा गाली-गलौज का आडियो वायरल कर राजकीय सेवा नियमावली का खुला उल्लंघन किया है।


प्रेम बाबू सचान ने रंगदारी, सरकारी कार्य में बाधा जैसे संज्ञेय अपराधों की एफ आई आर. बिना मण्डी सचिव/अध्यक्ष के अनुमोदन के अंकित करवाया जिसे माननीय उच्च न्यायालय ने संज्ञान लिया है। मेरी एफ.आई आर जो भ्रष्टाचार से सम्बन्धित थी, वीडियो क्लिप सहित न अंकित कर मुझे भयाक्रान्त कर मेरे मूल अधिकारों का हनन एवं भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है। अतः आपसे अनुरोध है कि झूठी एफ.आई.आर को समाप्त कर मेरी एफ आई आर. दिनांक 11.08.2020 तक नहीं अंकित की गयी तो मजबूरन मुझे अकेले ही दिनाक 12.08.2020 को स्थान वीरा पासी चैक पर आमरण अनशन पर प्रारम्भ करूंगा और यदि तीन घंटे तक मेरी बात को अनसुना किया गया तो मैं वहीं आत्मदाह करेगा। जिससे आक्रोशित जनमानस के द्वारा किसी भी प्रकार का महामारी एक्ट उल्लंघन या राजकीय क्षति अथवा मेरी शारीरिक क्षति या मृत्यु का उत्तरदायित्व स्वयं शासन-प्रशासन का होगा।