सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

पुलिस-पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक

नोबेल कोरोना वायरस-2020 को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा महामारी घोषित किए जाने तथा प्रदेश में लाॅकडाउन होने के कारण पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ के निर्देशन में सेल का गठन किया गया है जिसे पुलिस-पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक नाम दिया गया है। जिसमें 1 मुख्य आरक्षी तथा 2 आरक्षी नियुक्त किए गए हैं जो सहायक पुलिस अधीक्षक/क्षेत्राधिकारी लाइन्स मोबाइल नंबर (9454401300) के निर्देशन में कार्य करेंगे। पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक में नियुक्त मुख्य आरक्षी व आरक्षी को निर्देशित किया गया है कि वे पुलिस लाइन व जनपद आजमगढ़ के स्थानों तथा डायल 112 के माध्यम से किसी जरूरतमंद व्यक्ति को खाद्य सामग्री की आवश्यकता के संबंध में सूचना प्राप्त होती है तो तत्काल उक्त व्यक्ति तक पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक द्वारा निःशुल्क खाद्य सामग्री पहुंचवायी जाएगी । पुलिस लाइन की तरह सभी थानों पर भी इस प्रकार की व्यवस्था की जा रही है ताकि लाक डाउन के दौरान किसी व्यक्ति को भूखा न रहना पड़े। इसमें विभिन्न एन0जी0ओ0 की भी मदद ली जा रही है । जो एन0जी0ओ0 स्वेच्छा से गरीब व मजदूर वर्ग के व्यक्ति व उनके परिवार को पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक के माध्

सेवा भारती ने लोगो को मदद किया

आजमगढ़ में लॉक डाउन के चलते पूरी व्यवस्था थम सी गयी है ऐसे में गरीब, मजदूर, रोज मेहनत करके कमाने वाले, रिक्शा चलाने वाले आदि जो इस समय भोजन के लिए परेशान है ऐसे में आजमगढ़ में सरकार द्वारा राहत भोजन की व्यवस्था कराई जा रही है। दूसरी तरफ बहुत से संघटन इस राहत कार्य मे लगे है ऐसे में देश मे सेवा दे रही देश की सबसे बड़ी संस्था सेवा भारती ने भी लोगो को मदद किया है। आजमगढ़ में इस सेवा भारती के चिकित्सा प्रमुख डॉ मनीष त्रिपाठी जो एक विख्यात अस्थि (हड्डी ) चिकित्सक है ने अपने साथियों के साथ 56 परिवारों को खाद्य सामग्री का वितरण किया जिसमें आटा, दाल, चावल, नामक आदि था। उनके साथ राजन उपाध्याय, अनिल त्रिपाठी जो सेवा भारती के सक्रिय पदाधिकारी है भी थे।

शाश्वत की खोज

आश्चर्य तो तब होता है, जब यह विदित होता है कि जिन्हें हम शांति का पुंज मानते और जिनमें हमें शांति की तलाश है, वे वास्तव में अशांत हैं और वे इसकी खोज कहीं अन्यत्र कर रहे है। शरीर उनका कुछ कर रहा है, मन कुछ और ढूंढ़ रहा है शरीर कहीं है, मन कहीं और। वे अपने में होते नहीं। उनका संपूर्ण अस्तित्व वहां विद्यमान नहीं होता। इसलिए उनसे भेंट संपूर्ण रूप से होती नहीं। मिलन मात्र शरीर से हो पाता है, जो मन-प्राण के बिना अधूरा है। जो तृप्ति का अन्वेषण वाह्य विश्व में करते रहते हैं, उनकी सत्ता हर वक्त अधूरी बनी रहती हैं। ऐसे लोगों को थोड़ी भी ठोकर लगती है, तो एकदम असंतुलित होकर गिर पड़ते है और गिरते ही चलते है। गिरने पर या तो आत्महत्या कर लेते हैंया फिर पागल हो जाते है। जो तनिक बुद्धिमान है, वे नाममात्र के विरागी बनकर इधर-उधर भटकने लगते हैं। यही कारण है कि इन दिनों विक्षिप्तों अर्द्धविक्षिप्तों और बैरागी कहे जाने वालों की संख्या द्रुतगति से बढ़ती जा रही है, कारण कि वर्तमान में लोगों की यात्रा भीतर से बाहर की ओर हो गई है, जबकि होना इसके विपरीत चाहिए था। कभी यही स्थिति भर्तृहरि के समक्ष उपस्थित हुई थी। जब स

नेपाल बार्डर पर स्वास्थ्य टीम सक्रिय

नेपाल बार्डर सोनौली पर स्वास्थ्य टीम लगी हुई है।

डकैत गिरफ्तार

18.मार्च .2020 को श्री हरिकेश यादव पुत्र श्री धन्नू यादव, सा0 नौबरार तिरूपुरार खालसा (सहदेवगंज) थाना महराजंगज, जनपद आजमगढ़ द्वारा थाना हाजा पर उपस्थित आकर लिखित सूचना दिये कि समय करीब 3.00 बजे दिन में सदगुरू पेट्रोल पम्प से अपने जनसेवा केन्द्र के लिए 3,86,290/-(तीन लाख छियासी हजार दो सौ नब्बे) रूपये लेकर जा रहा था कि तेनुआ सरदहा रोड पर तीन अज्ञात मोटर साइकिल सवार द्वारा तमंचा दिखाकर रूपयो से भरा बैग छिन कर भाग गये। इस सूचना पर थाना हाजा पर दिनांक 18 मार्च.2020 को मु0अ0सं0 39/2020 धारा 392 भादवि बनाम अज्ञात पंजीकृत किया गया। पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ प्रो0 त्रिवेणी सिंह’ के कुशल निर्देशन व अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण, जनपद आजमगढ़ व क्षेत्राधिकारी सगड़ी, जनपद आजमगढ़ के कुशल नेतृत्व में गठित टीम मय फोर्स के महाअभियान के तहत अनावरण मुकदमा उपरोक्त व तलाश वांछित अपराधी रोकथाम जूर्म जरायम के दृष्टीगत थाना प्रभारी बिलरियागंज मनोज सिंह मय हमराह द्वारा क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर दिनांक 26 मार्च 2020 को समय 05.45 बजे दिन में ग्राम पटबध पावर हाऊस के पास मुखबिर की सूचना पर दबिश दिया गया तो अचानक पुलिस बल को दे

कोरोना वायरस की महामारी

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगई ने लाॅक डाउन पर जनपद के सिविल लाईन चैराहा, सारस चैराहा सहित विभिन्न क्षेत्रों व स्थानों पर जाकर स्थिति का जायजा लिया। सड़कों पर आमजन न दिखाई न देने पर संतोष व्यक्त किया तथा इसी प्रकार जनपदवासियों से अपील है कि घरों में रहकर कोरोना वायरस की चैन को तोड़ने में प्रशासन/पुलिस का सहयोग देते रहे। जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस कोविड 19 के सक्रमण से बचाव व रोक थाम के लिए जनपद वासियों से अपील की है कि 14 अप्रैल तक लाॅकडाउन के दौरान अपने-अपने घरों में अपने परिवारों के साथ रहे कोई भी व्यक्ति अपने घरों से बाहर न निकले। कार्ययोजना बनाकर जनपद के सभी वार्डो व समस्त तहसीलों गल्ली मौहल्लों में आवश्यक खाद्य सामग्री की आपूर्ति नियमित सूचारू रूप से कराई जा रही है। इसके अलावा एम्बुलेन्स 102, 108 व यूपी 112 व जनपद के कंट्रोल रूम पूरी तरह से सक्रिय है।   जिलाधिकारी ने इससे पूर्व डिग्री कालेज चैराहें के पास अनावश्यक घुमते हुए लोगों को पकड़ा, लोगों द्वारा दवा व आटा लेने का बहाना कर झूठ बोलने पर कड़ी फटकार लगाने के साथ ही कहा कि झूठ बोलते हुए शर्म नही आ

राज्य मार्गो पर आवश्यक सामग्रियों के वाहनों को जनपद में आने-जाने से न जाये रोका

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण के दृष्टिगत पूर्व में जारी सम्पूर्ण लाॅकडाउन निषेधाज्ञा के क्रम में घरेलू उपयोग की सामग्रियों यथा-गेहूँ, चावल, आटा, बेसन, मैदा, दाल, तेल, घी, डालडा, रिफाइन्ड, साबुन, टूथपेस्ट एवं समस्त प्रकार के मेवा, आलू, सब्जियां, फल, दूध, पेट्रोलियम पदार्थ एल0पी0जी0, पशुओं के चारा से सम्बन्धित पशु आहार, भूसा, चिकित्सीय उपकरणों (सामाग्रियों), दवाओं, सोडियम हाइपोक्लोराइड, क्लोरीन, ब्लीचिंग पाउडर तथा अन्य प्रकार के केमिकल्स जो फर्श क्ल.ीनर/सेनेटाइजर में प्रयोग किये जाने वाले है, इनकी गाड़ियों को जनपद के बार्डर या जनपद के अन्दर लाने/ले जाने हेतु प्रतिबन्ध/निषेधाज्ञा से पूर्णतया मुक्त किया गया है। इसके साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाये कि राष्ट्रीय राज मार्गो पर इस प्रकार के मालवाहक वाहनों के परिचालन में लाॅकडाउन के दृष्टिगत कोई कठिनाई न होने पाये। उन्होंने आदेश दिये है कि सामानों का परिवहन करने वाले किसी भी वाहन को जनपद के अन्दर आने से या जनपद से ले जाने से न रोका जाये। आदेश का तत्काल प्रभाव से कड़ाई से अनुपालन किया जाये।