सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बाॅलीवुड की सस्पेंस फिल्में

रहस्य-रोमांच शुरू से ही इंसानों की आकर्षित करते रहे है। अपराध व रहस्यों का काफी पुराना नाता रहा है, सस्पेंस शुरू से ही भारतीय फिल्मकारों का मनपसंदीदा विषय रहा है, हिन्दी फिल्मकारों ने सस्पेंस पर सैकडों़ फिल्में बनाई जानकारों की माने तो बाॅलीवुड की पहली सस्पेंस फिल्म कमाल अमरोही की महल थी अशोक कुमार मधुबाला अभिनीत यह फिल्म घटिया टेकनिक ओर कमजोर फोटोग्राफी के बावजूद कुछ रहस्यमय दृृश्यों व गीत आयेगा आयेगा के कारण हिट हुयी काली बिल्ली, अपने आप नाव चलना झूले से लड़की गायब होना का दृश्य आज भी फिल्मों मे चोरी किये जाते हैं दूसरी फिल्म ब्लैक कैट थी जिसमे एन. ए. अंसारी ने रहस्यमय अपराधी और बलराज साहनी सी.आई.डी. इन्सपेक्टर बने थे। इसके बाद 1962 मे एन ए अंसारी द्वारा निर्देशित की फिल्म टावर हाउस आई 1962 मे ही मशहूर संगीतकार हेमन्त कुमार ने आर्थर काॅनल डायल के नाॅवल दि हाउन्डस आॅफ बिस्किरविल्स पर वहीदा रहमान व विश्वजीत को लेकर बीस साल बाद बनाई अपने डरावने दृश्यों, सदाबहार गीतों औद पर्दे पर खूनी पंजा आने के सीन के कारण फिल्म बेहद हिट हुयी आज भी इसकी टक्कर की दूसरी फिल्म नही बन पाई है। 1963 मे उसी स्टारकाॅस्ट को दुहराते हुये हेमन्त कुमार ने अगली फिल्म कोहरा लांच की जो अल्फ्रेड हिचकाॅक की फिल्म रेबेका पर आधारित एक मर्डर मिस्ट्री थी 1964 मे निर्माता एन एन सिप्पी और राज खोसला निर्देशित मिस्ट्री फिल्म वो कौन थी आई जो अल्फ्रेड हिचकाॅक की फिल्म वर्टिगो पर आधारित थी मनोज कुमार, साधना, प्रेम चोपड़ा से सजी यह डरावनी फिल्म आज भी सस्पैंस फिल्मों मे मील का पत्थर मानी जाती है। इसके गाने नैना बरसे रिमझिम, जो हमने दास्तां, लग जा गले घर-घर गूँजे इसी जोड़ी को लेकर आगे चल राज खोसला ने अगली सस्पेंस फिल्म अनीता और 1967 मे एक अन्य रहस्यमय फिल्म मेरा साया बनाई जिसमे साधना के साथ सुनील दत्त थे 1966 में महमूद की भूत बंगला आई फिर किशोर साहू निर्देशित मनोज कुमार की पूनम की रात, मनोज कुमार आशा पारेख की साजन आई 1967 में ही निर्माता एन.एन. सिप्पी ने मनोज कुमार व कई सितारों को लेकर फिल्म गुमनाम बनाई जो हिट गानों व सात रहस्यमय हत्याओं के लिये खूब मशहूर हुयी 1968 मे नासिर हुसैन की संगीतमय मर्डर मिस्ट्री तीसरी मंजिल आई चुस्त कहानी, संगीत, आशा पारेख व शम्मी कपूर की बेहतरीन अदाकारी से सजी फिल्म हिट रही 1966 मे विश्वजीत माला सिन्हा की जाल व 1967 मे विश्वजीत शर्मिला टैगोर, मुमताज अभिनीत और ब्रज द्वारा निर्देशित फिल्म ये रात फिर ना आयेगी 1970 के बाद तो सस्पेंस फिल्मों की बाढ ही आ गई 1972 मे रामसे ब्रदर्स की दो गज जमीन के नीचे व 1975 मे अंधेरा, 1978 मे और कौन, 1979 मे हवेली, 1981 मे मर्डर मिस्ट्री सबूत व सात खून वाली सन्नाटा आई सभी सफल हीरो हीरोइन सस्पेंस फिल्मों के जादू से बच नही सके 1972 में बिग बी अभिताभ बच्चन नवीन निश्चल की परवाना फिर उनकी बेनाम व मजबूर आई राजेश खन्ना ने राज, दि ट्रेन, रेड रोज, वही भयानक रात में काम किया बी.आर. चोपडा़ ने कानून, धुंध, हमराज, इत्तफाक जैसी सफल सस्पेंस फिल्में बनाई देवानंद आशा पारेख की महल, जितेन्द्र की कारंवा, जैसे को तैसा यें रात फिर ना आयेगी आई हिन्दी फिल्मों के काउब्वाय फिरोज खान ने अंजान है कोई, मैं वही हूँ व कशमकश जैसी सस्पेन्स फिल्मों में काम किया आई किरन कुमार की जंगल मे मंगल, विनोद मेहरा ने 1972 में परदे के पीछे, सनसनी, बीस साल पहले में काम किया विनोद मेहरा 1982 में सन्नाटा व सबूत में भी आये, धमेंन्द्र की कब क्यूँ और कहाँ, पुरानी बाजी, शिकार सफल सस्पेंस फिल्में हैं। 1974 में महेन्द्र सिंधु रीनाराय व राकेश रोशन की गूँज, 1972 में राजकुमार कोहली की मिस्ट्री फिल्म शर्त आई जिसमे एक ही लड़की का कई बार मर्डर होता है इसमे मुमताज, संजय ने काम किया था शत्रुहन सिंहा ने 1970 में खोज आगे अब क्या होगा 1975, कशमकश शैतान में काम किया उन्ही दिनों एक मर्डर मिस्ट्री विक्रम, प्रेमा नारायन व प्रेम चोपड़ा की जब अंधेरा होता भी आई नवीन निश्चल की परवाना, मै वो नहीं, बुढढा मिल गया और रणधीर कपूर, रेखा, प्रेमनाथ की दफा 302, देव मुखर्जी की हैवान ऋषि कपूर की खेल खेल में आई ,ष्शशि कपूर रेखा, डैनी की काली घटा व शशि कपूर शर्मिला अभिनीत आमने सामने आई विनोद खन्ना योगिता बाली की मेमसाब आगे चल कर उनकी कैद, हम तुम और वोह आई राज बब्बर की राज, एतबार आई, मिथुन की कौन कैसे, 1985 में अमोल पालेकर, नसीरूददीन शाह, पंकज कपूर की मर्डर मिस्ट्री खामोश आई संजीव कुमार ने कातिल, सुराग फिल्मों में काम किया जावेद खान दीपिका की रात के अंधेरे मे व खूनी रात राजकुमार नसीरूददीन शाह की पुलिस पब्लिक, ऋषि कपूर की नसीरूददीन शाह, किमी काटकर व डैनी की खोज आई, गोविंदा की हत्या, बाबी दयोल व काजोल की गुप्त, 2001 में विक्रम भटट की कसूर, 2003 मे धुंध दि फोग मे फिर जहर आगे बाबी द्योल लारा दत्ता की नकाब आॅफताब शिवदासानी की मुस्कान, राकेश बापत की रांग नम्बर, शाहिद कपूर करिश्मा कपूर 36 चायना टाउन, करिश्मा कपूर की बाज, डेंजरस ईश्क आई अन्य उल्लेखनीय फिल्मों में डिनो मारिया की (नई) गुमनाम व शी शी ईई ई ई, अनामिका (नई), जैकी श्राफ, माधुरी दीक्षित की 100 डेज़, सुष्मिता सेन जैकी श्राफ की समय, मनोज बाजपेई ईशा कोपिक्कर की इंतकाम (नई), मनोज बाजर्पई व उर्मिला अभिनीत रामगोपाल वर्मा की कौन, सैफ अली खान, उर्मिला की एक हसीना थी, डायल 100, भयानक ए मर्डर मिस्ट्री, श्रेयस तलपड़े की क्ल्कि, स्टेंजर ए लव स्टोरी, शिल्पा शेट्टी, राखी सावंत की खामोशः खौफ की रात, एम 3, कोई है एकता कपूर निर्देशित कुछ तो है। शर्लिन चोपड़ा की रेड स्वास्तिक, प्रियंका चांेपडा़ की सात खून माफ आई अंय सस्पेंस फिल्मों में अचानक, शिकार नई, 36 एन्टाॅप हिल, गहरी चाल 2013, क्या कोई हैं। जिमी शेरगिल, के के रैना, स्ट्रेन्जर, स्टोनमैन, रूम, पिज्जा, कोंकणा सेन शर्मा की रोशन विला, उस दिशा में, अनंत महादेवन व हिमेश रेशमिया की एक्सपोज, इरफान की तलवार आदि। रहस्य रोमांच पर फिल्में बनती आई है और बनती रहेंगी कुछ फिल्मों इतिहास मे अपनी छाप छोड़ जायेगीं और कुछ गुमनामी के अंधेरे मे खोज जायेंगीं आने वाली खोजी, बुद्धिमान, आधुनिक टेकनाॅजी से लैस पीढी इस विषय पर अच्छी, रोचक व बेहतरीन फिल्में बनायेगी।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति