सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अप्रैल, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विजय की गजलों में आम इंसान का दर्द: प्रभाशंकर

विजय प्रताप सिंह की गजलें सिर्फ हुस्नो-शबाब तक सीमित नहीं है, बल्कि इनमें आमजन की समस्याओं पर जद्दोजहद करते हुए जज्बात दिखाई पड़ते हंै। शब्दों को इतने सलीके से पिरोया गया है कि सब मिलकर मोतियों की माला बन गए हैं। शब्द भाषा भाव और शिल्प सभी ने मिलकर गजलों का एक अच्छा फ्रेम तैयार किया है। एक बड़े शायर के सीने में सदी का दर्द छुपा होता है। पता नहीं क्यों आपसे आशा है कि यह दर्द आपकी क्रांतिकारी कलम से आने वाले समय में लिपिबद्ध होकर निकलेगा। यह बात गुफ्तगू द्वारा आयोजित ऑनलाइन साहित्यिक परिचर्चा में मैनपुरी जिले के बीएसए विजय प्रतापसिंह की गजलों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रभाशंकर शर्मा ने कही। इश्क सुल्तानपुरी ने कहा कि विजय प्रताप सिंह की रचनाएं हिंदुस्तानी गजल की रवायतों को निबाहने के साथ ही साथ वर्तमान परिवेश और मानव जीवन की परिस्थितियों और संघर्षों को समेटे हुए हैं। एक नए कलेवर में विजय सिंह गजलें कह रहे हैं, शुरुआती दौर की मशक्कतों के अलावा गजलों में पूरी रवानी और ताजगी मौजूद है। दयाशंकर प्रसाद ने कहा कि विजय की गजलों को पढ़ने के बाद ऐसा लगा जैसे यह उनके आसपास की धड़कनों की अभिव्यक्त

अधिक दर पर बिक्री करते पाये जाने पर कार्यवाही की जायेगी: जिलाधिकारी

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने कालाबाजारी व जमाखोरी को रोकने के लिए आवश्यक वस्तुओं की बिक्री दर तालिका जारी कर दी गई। दुकानदारों को निर्देशित किया गया है कि बिक्री दर तालिका के अनुरूप ही समानों की आमजनमानस को दें।  वस्तुओं में जिसमें गेहूँ थोक भाव 1925 कु0 व फुटकर 19.50, चावल थोक 2150-3000 कु0 व फुटकर 22 व 32 रूपये कि0ग्रा0, आटा थोक 2200-2300 कु0 व फुटकर 24-25 रूपये कि0ग्रा0, मैदा थोक 2400 कु0 व फुटकर 25-26 रूपये कि0ग्रा0, दाल अरहर थोक 8600-8800 कु0 व फुटकर 88-90 रूपये कि0ग्रा0, चना दाल थोक 5400-5600 कु0 व फुटकर 55-60 रूपये कि0ग्रा0, उर्द दाल थोक 7500-8500 कु0 व फुटकर 85-90 रूपये कि0ग्रा0, उर्द थोक 6500-7000 कु0 व फुटकर 70-75 रूपये कि0ग्रा0, मसूर थोक 6300-6500 कु0 व फुटकर 68-70 रूपये कि0ग्रा0, मटर सफेद थोक 5500-5600 कु0 व फुटकर 60-61 रूपये कि0ग्रा0, छोला चना थोक 6500 कु0 व फुटकर 70 रूपये कि0ग्रा0, धनिया थोक 9000-10000 कु0 व फुटकर 110-120 रूपये कि0ग्रा0, सरसो का तेल थोक 9600 कु0 व फुटकर 100 रूपये कि0ग्रा0, सोयाबीन रिफाइन्ड थोक 9700 कु0 व फुटकर 105 रूपये कि0ग्रा0, चीनी थोक 3500 क

टीम भावना के साथ कार्यो को युद्ध स्तर पर पूरा करे: मण्डलायुक्त

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम व आईजी एस0के0 भगत ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अधिकरियों को निर्देश दिये कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा गठित टीम, सर्विलास टीम, कोल्ड चेन मैनेटेन, लाउन्ड्री व्यवस्था, भोजन वितरण, साफ-सफाई, खरीदारी टीम आदि टीम अपने-अपने कार्यो के प्रति सजग व सर्तक रहने के साथ ही अपने कार्यो को भली-भांति जाने तथा उसका निर्वहन भी सरकार के स्वास्थ्य प्रोटोकाल के अनुरूप करें तथा प्रतिदिन अपने किये गये कार्यो की रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि अपने सीएचसी, पीएचसी, जिला अस्पताल, महिला अस्पताल व तैयार किये गये क्वारंटीन सेन्टर आदि में समुचित व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखा जाये। उन्होंने कहा कि क्वारंटाइन केन्द्र इतने तैयार कर लें कम से कम 25 हजार लोगों को क्वारंटाइन में रखा जा सके तथा वही पर सभी मूल-भूत सुविधाओं से फैसिलेट कर लें। अधिकारी स्वास्थ्य सम्बन्धी सभी मूलभूत सुविधाओं से पूरी तरह से लैस रहे। जिन अधिकारियों की डियूटी निरीक्षण व क्वारंटीन सेन्टर में लगाई गई है। ऐसे स

झांसी में हॉटस्पॉट क्षेत्र सील

झांसी। हाट-स्पाट-कंटेनमेंट जोन में किसी को भी आने और जाने की अनुमति नहीं है। यदि ऐसा पाया जाता है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। बैरियरो पर पुलिस फोर्स मुस्तैद रहे और सतत दृष्टि बनाए रखें। कंटेनमेंट जोन के क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं व खाद्यान्न की आपूर्ति बाधित नहीं होगी। क्षेत्र में जांच के लिए चिकित्सीय टीम एवं सैनिटाइजेशन टीम के साथ ही आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति हेतु टीम को अनुमति दी जा रही है। क्षेत्र में  सभी आमजन  घर पर ही रहें, सुरक्षित रहें व स्वस्थ रहें। यह जानकारी जिलाधिकारी  आन्द्रा वामसी ने विकास भवन सभागार, झांसी में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि ओरछा गेट क्षेत्र में एक महिला कोरोना वायरस से प्रभावित मिली, जांच में वह पॉजिटिव प्राप्त हुई। उनके परिवार के सदस्यों की जांच की गई तो उसका लड़का व जेठ पॉजिटिव निकले। अब झांसी में 3 पॉजीटिव केस है। जिलाधिकारी ने कहा क्षेत्र में जहां कोरोना पॉजीटिव केस मिले हैं। उस घर को केंद्रित करते हुए एक किलोमीटर के क्षेत्र को हॉटस्पॉट घोषित किया गया है तथा इस क्षेत्र के वार्डो को पूरी तरह सील कर दिया गया। उन्होंने कहा कि लोग

बड़े स्तर पर साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए: जिलाधिकारी

झांसी। जिलाधिकारी  आन्द्रा वामसी ने नगर में चयनित एल-1 हॉस्पिटल में लाइफ लाइन हॉस्पिटल व चिरंजीवी हॉस्पिटल का औचक निरीक्षण किया तथा वहां कोविड -19 से प्रभावित मरीजों को दी जाने वाली सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने निरीक्षण करते हुए निर्देश दिए कि हॉस्पिटल के सभी बेड को सुव्यवस्थित कर लिए जाएं। साथ ही बड़े स्तर पर साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। औचक निरीक्षण में जिलाधिकारी ने कहा कि महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज व बड़ागांव सीएचसी के अतिरिक्त लाइफ लाइन हॉस्पिटल तथा चिरंजीवी हॉस्पिटल को एल-1 कैटेगरी में चयनित किया गया है। जहां कोविड संदिग्ध को रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि अभी कोविड पॉजिटिव तीन लोग हैं, जिन्हें मेडिकल कॉलेज में ही रखा है। इसके अतिरिक्त जहां  कोरोना पॉजिटिव  केस  पाया गया है उस इलाके में सैंपल लेने और टेस्टिंग कार्य चल रहा है, और उन्हें मेडिकल क्वॉरेंटाइन में रखना है। उनके लिए लाइफलाइन हॉस्पिटल व चिरंजीवी हॉस्पिटल की ओर से सेवाएं उपलब्ध कराने का प्रस्ताव आया। यह सरकार के हित में अच्छा का काम है। उन्होंने वहां उपलब्ध 100 बेडो का निरीक्षण किया और अनुरोध किया कि सभी बे

अभिनेता ऋषि कपूर का निधन

बॉलीवुड के शानदार अभिनेता ऋषि कपूर का बीती रात निधन हो गया है. खराब तबीयत के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 29 अप्रैल को हिंदी सिनेमा ने अभिनेता इरफान खान को खोया था, अब इरफान के निधन के 1 दिन बाद 30 अप्रैल को ऋषि कपूर इस संसार को अलविदा कह गए। लगातार दो दिग्गज अभिनेताओं को गवां देना फिल्म इंडस्ट्री के लिए बहुत बड़ा सदमा है। ऋषि कपूर के निधन से देश में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। सोशल मीडिया पर सेलेब्स और फैंस एक्टर के निधन पर शोक जता रहे हैं. बता दें, ऋषि कपूर ने हिंदी सिनेमा में बड़ा योगदान दिया था. उन्होंने कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया था। अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर लिखा, वो गया. ऋषि कपूर गए. अभी उनका निधन हुआ. मैं टूट गया हूं. कपूर फैमिली से रणधीर कपूर ने ऋषि के निधन की खबर को कंफर्म किया है. बता दें, ऋषि कपूर को बुधवार उनके परिवार ने एच एन रिलायंस अस्पताल में भर्ती कराया था. उनके भाई रणधीर ने बताया था कि उन्हें सांस लेने में समस्या हो रही थी। ऋषि कपूर जन्म 4 सितंबर, 1952 को मुम्बई में हुआ था। वह अभिनेता-फिल्म निर्देशक राज कपूर और अभिनेता पृथ्वीराज कपूर के पोते का दूसरा पुत्

और आज दूरियाँ प्यार और परवाह की परिचायक है

ना तुम घर से निकलना  ना हम कही दूर’ जाएंगे अपने अपने हिस्से की दोस्ती निभाएंगें बहुत अच्छा लगेगा जिंदगी का ये सफर आप वहाँ से याद करना  हम यहाँ से मुस्कुरायेंगे समय और हालात कभी भी  कहीं भी बदल सकते है कल तक निकटता प्रेम का प्रतीक थी और आज दूरियाँ प्यार और परवाह की परिचायक है !!ऊं सनातनाय नमः!! !!जय श्री कृष्णा!!

ग्रह कलेश के कारण पत्नी को गोली मारने के बाद खुद भी गोली मारी

ललितपुर के रिसाला मंदिर के पास रहने वाले आजाद जैन पिता का नाम नरेंद्र जैन उर्फ छोटे पहलवान ने अपनी पत्नी को ग्रह कलेश के चलते गोली मार दी और खुद में भी गोली मार ली जिससे पति की मौके पर मौत हो गई है और पत्नी की हालत गंभीर बनी हुई है जिसे डॉक्टरों ने झांसी रिफर कर दिया है प्राप्त जानकारी के अनुसार लाइसेंसी रिवाल्वर से आजाद जैन अपनी पत्नी चंचल जैन को गोली मार दी बाद में खुद को गोली मार ली आजाद जैन की मौके पर मौत हो गई है उनकी पत्नी चंचल जैन की हालत गंभीर बनी हुई है जिन्हें झांसी रेफर कर दिया गया है मौके पर पुलिस अधीक्षक सदर सीओ सदर कोतवाल एवं भारी फोर्स तैनात मामले की गहनता से जांच की जा रही है।    

बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान का निधन

मंगलवार को तबीयत बिगड़ने की वजह से अभिनेता इरफान खान को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती किया गया था। अभिनेता इरफान का जन्म 7 जनवरी 1967 को जयपुर, राजस्थान मे हुआ था। मृत्यु 29 अप्रैल 2020। 23 फरवरी 1995 को इरफान ने सुतपा सिकदर से शादी की। सुतपा भी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से सम्बन्ध रखती हैं।      

इरफान खान नहीं रहे प्रथा फिल्म में निन्ही पाण्डेय की भूमिका किया था

बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान का निधन हो गया। अभिनेता इरफान खान को मंगलवार को पेट के संक्रमण के बाद शहर के एक अस्पताल की आईसीयू (आईसीयू) में भर्ती कराया गया था। उनके प्रवक्ता ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुए बताया था कि 53 वर्षीय अभिनेता को कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। खान का 2018 में कैंसर की बीमारी का इलाज हुआ था।

बिरधा में अनाज से भरा ट्रक पलटा

रूमानियत और रूहानियत से लबरेज है अना की शायरी

अना इलाहाबादी की शायरी की संजीदगी हर ग़ज़ल में नज़र आती है। इनके कलाम रूमानियत और रूहानियत से लबरेज हैं। रूमानियत भी रूहानियत के अनुभवों से ही प्रकट होती है, वैसे भी एक साहित्यकार अपने दिल के सबसे ज्यादा करीब होता है और दिल ही तो उस परम सत्ता का निवास है जहां से शब्द रूपी मोती प्रस्फुटित होते हैं। अना की शायरी का शिल्प सौंदर्य बहुत मजबूत है। ग़ज़ल में लयात्मकता इतनी है कि शब्द जैसे फिसलते से लगते हैं, आपके कलाम का मजमुआ एक बेहतरीन कृति है जो आपकी फिक्रो-फन और प्रतिभा का परिचायक है। यह बात गुफ़्तगू द्वारा आयोजित आॅनलाइन साहित्यिक परिचर्चा के दौरान अना इलाहाबाद के ग़ज़ल संग्रह ‘दीवान-ए-अना’ पर विचार व्यक्त करते हुए मनमोहन सिंह तन्हा ने कही। नरेश महरानी ने कहा कि अनामिका पांडेय उर्फ़ अना इलाहाबादी अपनी शायरी में प्रत्येक विषय को बड़ी ही संजीदगी से चित्रण करती हैं, जिसमें उनकी सशक्त शिल्प शैली उभरकर सामने आती है। गजल की बारिकियों पर उनकी अच्छी पकड़ है। उन्होंने सरल शब्दों को विचरण कराते हुए रूमानियत और रुहानियत के संगम को परिलक्षित किया है। रचना सक्सेना ने कहा कि अना इलाहाबादी ने जीवन के विभिन्न रं

लाॅकडाउन का पालन कड़ाई से कराया जा रहा है

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई ने कोविड-19 के अंतर्गत रायबरेली जनपद के मोहल्ला खालीसहाट कोतवाली नगर, ग्राम थुलेण्डी थाना बछरावां, ग्राम रसूलपुर थाना बछरावा, दर्जी मोहल्ला कस्बा ऊंचाहार, ग्राम पीठा पट्टी थाना ऊंचाहार, मदरसा इस्लामिया कस्बा सलोन को हॉट-स्पॉटस क्षेत्रों के रूप में चिन्हित किया गया है संपूर्ण जनपद में विशेष रूप से हॉट-स्पॉट क्षेत्र में लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग का प्रभावी अनुपालन सुनिश्चित कराया जा रहा है। महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थलों पर सेनेटाइज कराया जा रहा है। नगर पालिका की टीमों द्वारा निरंतर साफ सफाई की जा रही है तथा स्वास्थ्य विभाग की टीमों और पुलिस विभाग की रैपिड एक्शन टीमों द्वारा डोर-टू-डोर जाकर लोगों की चिकित्सीय जांच कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं तथा आवश्यकतानुसार कार्यवाही की जा रही है। हॉट-स्पॉट क्षेत्र में व्यक्तियों को चिन्हित कर क्वॉरेंटाइन कराया जा रहा है। आम जनमानस को सोशल डिस्टेंसिंग तथा लॉकडाउन का पालन करने के प्रति जागरूक तथा अपने स्मार्टफोन पर आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने हेतु प्रेरित किया जा रहा है।  लॉकडा

संक्रमण कोरोना वायरस की जड़े कमजोर होने लगी है

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम व आईजी एस0के0 भगत ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में देर रात्रि कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अधिकरियों को निर्देश दिये कि अधिकारी स्वास्थ्य सम्बन्धी सभी मूलभूत सुविधाओं से पूरी तरह से लैस रहे। जिन अधिकारियों की डियूटी निरीक्षण व क्वारंटीन सेन्टर में लगाई गई है। ऐसे सभी कर्मचारियों को सीएमओं सभी भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकाल व गाईड लाईन के अनुरूप उपकरण, माक्स, सेनेटाइजर, पीपीटी किट आदि सभी व्यवस्थाओं को मुहैया कराये तथा प्रशिक्षण देकर उन्हें ड्यूटी के लिए तैयार करें। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कोरोना वायरस की चैन तोड़ना जरूरी है। उन्होंने कहा कि आमजनमानस लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सिंग का जिनता अधिक पालन करेंगे उतना ही कोरोना वायरस से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि डरने की जरूरत नही है बल्कि उसे आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है। कोरोना के खिलाफ जारी जंग में जनपद, प्रदेश, देश में की जीत सुनिश्चित करने के लिए हमे लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना अनिवार्य है साथ ही

मण्डलायुक्त ने औचक निरीक्षण किया

मण्डलायुक्त मुकेश मेश्राम व जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए रायबरेली के सलोन के विकास खण्ड छतोह में बने राजकली इमरजेंसी ट्रामा हास्पिटल का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान निरीक्षण के दौरान कमरें, लाईट, बिस्तर, पानी आदि की व्यवस्थाओं आदि के बारे में जानकारी ली तथा सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु जो लोग कोरेन्टाइन आदि में भेज गये व भेजे जाने वाले को किसी भी प्रकार की मूल-भूत सुविधाओं में कमी न रहे। मानवीय व संवेदनाओं से युक्त कर्मचारियों की ड्यूटी रहे। खाना-पान में गुणवत्ता की कोई कमी न रहे। इसके अलावा क्वारंटीन सेन्टरों पर योग आदि की व्यवस्था भी कराई जाये। उन्हांेने कहा कि कोरोना योद्धा चिकित्सक व स्टाफ, सफाई कर्मचारी या ड्यूटी पर जो तैनात है उनके सम्मान व समुचित व्यवस्था में किसी भी प्रकार की कोई कमी न आने पाये साथ ही जो क्वारंटीन में है जो कोविड-19 वायरस से बचाव व जागरूकता के लिए जानना चाहेता तो उसको विस्तार पूर्वक व सामाजिक दूरी बनाते हुए जानकारी दें। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सि

वर्चुअल लर्निंग सेशन का आयोजन

लाॅकडाउन के इस चुनौतीपूर्ण समय में सिटी मोन्टसरी स्कूल छात्रों की पढ़ाई एवं नई-नई चीजें सीखने के अवसर उपलब्ध कराने का हरसंभव प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में सी.एम.एस. अलीगंज (प्रथम कैम्पस) द्वारा प्री-प्राइमरी एवं प्राइमरी के नन्हें-मुन्हें छात्रों के लिए वर्चुअल लर्निंग सेशन का आॅनलाइन आयोजन किया गया एवं छात्रों को ‘इजी डे सुपर मार्केट’ की आभासी सैर भी कराई गई। ‘इजी डे सुपर मार्केट’ के वर्चुअल टूर के दौरान छात्रों को आधुनिक तकनीक का ज्ञान प्रदान के साथ ही यह समझाया गया कि सुपर मार्केट कैसे काम करता है। इस वर्चुअल सुपर मार्केट में विभिन्न प्रकार के उत्पादों को प्रदर्शित किया गया तथापि छात्रों को विभिन्न वस्तुओं के नाम, फलों और सब्जियों की पहचान व अन्य अनकों प्रकार की रोचक जानकारी प्रदान कर उनके ज्ञान को और समृद्ध बनाने का प्रयास किया गया, साथ ही साथ, छात्रों को स्वस्थ एवं सुपाच्य खानपान के प्रति प्रोत्साहित किया गया।  सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि वर्चुअल लर्निंग सेशन का आयोजन सी.एम.एस. के पूर्व छात्र एवं पुरातत्वविद् श्री अर्श अली द्वारा किया गया, जि

अर्चना के काव्य में है निश्छल हृदय की पवित्रता: मानव

अर्चना जायसवाल ‘सरताज’ का काव्य, मुक्त हृदय के स्वच्छंद उद्गार हैं। जिसमें बनावटीपन लेशमात्र भी नहीं हैं। इनके काव्य में निश्छल हृदय की पवित्रता बिलकुल आईने की तरह साफ प्रतिबिम्बित होती है। इन्होंने अपने काव्य में सार्वभौमिक प्रेम की आवाज को बुलन्द किया है। जो जाति, धर्म, मजहब, लिंग, भाषा आदि सीमाओ से परे हो। साथ ही एक बड़ी बात बताने की कोशिश की है,कि मात्र ’प्रेम’ ही ऐसी शक्ति है, जो दुनिया की हर दीवार को गिराकर इंसान को इन्सान बनाये रख सकती है। यह बात गुफ्तगू द्वारा आयोजित ऑनलाइन साहित्यिक परिचर्चा में अनिल मानव ने अर्चना जायसवाल ‘सरताज’ की कविताओं पर विचार व्यक्त करने हुए कहा। जमादार धीरज ने कहा कि कवयित्री अर्चना जायसवाल प्यार और मानवता के सेतु बनाकर संसार से भेदभाव और घृणा मिटा कर सर्वत्र मैत्री भाव और भातृत्व की पवित्रत भावना के प्रसार की पवित्र कल्पना करती हैं। वह कहती हैं कि-‘ चलो एक बर फिर से एक सेतु बनाते हैं/परंपरा और संस्कृति की सीढ़ी पर पीढ़ी दर पीढ़ी पहुंचाते हैं।’ साथ ही कांटो से मित्रता कर साहस सौंदर्य और सामंजस्य के पाठ पढ़ने की तरफ भी संकेत करती हैं। भाषा और शिल्प सामान्य

आत्मविश्वास या उत्साह में की गई लाहपरवाही भी खतरनाक साबित हो सकती है

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में देर रात्रि कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अधिकरियों को निर्देश दिये कि आमजनमानस लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सिंग का जिनता अधिक पालन करेंगे उतना ही कोरोना वायरस से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि डरने की जरूरत नही है बल्कि उसे आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है। कोरोना के खिलाफ जारी जंग में जनपद, प्रदेश, देश में की जीत सुनिश्चित करने के लिए हमे लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना अनिवार्य है साथ ही कोरोना योद्धाओं जिसमें चिकित्सक व उनका समुचित स्टाफ, सफाई कर्मचारी, पुलिस आदि का कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए बड़ा ही सहयोग है। कोरोना योद्धाओं के अथक कोशिश के साथ ही आम जनमानस द्वारा समाजिक दूरी बनाना घरों में रहकर सुरिक्षत रहना परिणाम स्वरूप अब इस संक्रमण कोरोना वायरस की जड़े कमजोर होने लगी है। कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए अभी लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना बहुत ही जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा लोग अपने-अपने घरों में ही रहे।   मण्डलायुक्त ने

क्वारंटीन सेन्टरों का निरीक्षण

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई ने जनपद में कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए जनपद के बक्शी मेमोरियल पब्लिक स्कूल लालगंज, एसजेएस स्कूल लालगंज, डिग्री कालेज लालगंज, लखनऊ पब्लिक स्कूल, न्यू स्टैण्र्ड पब्लिक स्कूल आदि तैयार क्वारंटीन सेन्टर व आश्रय स्थल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कमरें, लाईट, बिस्तर, पानी आदि की व्यवस्थाओं के साथ ही उचित संख्या में शौचालय व किंचन आदि के बारे में जानकारी ली तथा सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु जो लोग कोरेन्टाइन आदि में भेज गये व भेजे जाने वाले को किसी भी प्रकार की मूल भूत सुविधाओं में कमी न रहे। क्वारंटीन सेन्टर में इतनी बेहतरीन सुविधाओं से लैस किया जाये कि लोगों को क्वारंटीन सेन्टर में घर की याद न आये। मानवीय व संवेदनाओं से युक्त कर्मचारियों की ड्यूटी रहे। खाना-पान में गुणवत्ता की कोई कमी न रहे। इसके अलावा क्वारंटीन सेन्टरों पर योग आदि की व्यवस्था भी कराई जाये।    यह भी बताया कि जनपद में लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सिंग का कड़ाई से अनुपालन कराया जाये। आज प्राप्त 44 टेस्ट

रोजे से पैदा होता है इर्श-परायणता के गुण

रमजान का महीन इस्लामिक मान्यता के अनुसार सबसे पवित्र और इबादत का सबसे खास महीना है, इसकी इबादत पूर्ण करने वालों के लिए अल्लाह की तरफ से ईद की खुशी अता की गई है। धार्मिक विधान के अनुसार रमजान की शुरूआत उस समय तक नहीं हो सकती, जब तक संतोषप्रद तरीके से यह मालूम न हो जाए कि रमजान का महीना शुरू हो चुका है और समाप्त भी उस समय तक नहीं हो सकता जब तक ईद का चांद न देख लिया जाए। रमजान का महीना जब से शुरू हो और जब तक रहे हर मुसलमान को उसके रोजे रखने चाहिए। रमजान एक कमरी यानी चांद वाला महीना है, जो चांद के दिखने पर निर्भर करता, इसके बारे में नबी का स्पष्ट संदेश मौजूद है, जिसमें कहा गया है कि चांद देखकर रोजे रखो और चांद देखकर ही रोजे खत्म करो। लेकिन आसमान साफ न हो तो तीस रोजे की गिनती पूरी करो। अगर चांद दिखने के समय आसमान में बदली छाई हुई है, बदली और चांद की लुका-छिपी के दौरान एक झटके मे चांद दिख जाए और एक-दुक्का लोग ही देख पाए हों। तब उस शहर के काजी से सामने उनकी गवाही होगी, गवाह ऐसे हों जिन पर यकीन किया जा सके, तब शहर काजी ईद का ऐलान कर सकते हैं। यहां यह भी बहुत महत्वपूण है कि जिस जिले या शहर में

ललितपुर में दुकानों के खोलने के स्पस्ट आदेश जारी किए जाएंगे

जिलाधिकारी, ललितपुर योगेश कुमार शुक्ल ने निर्देश दिए हैं कि ’जनपद के सभी दुकानदार किसी भी भ्रामक खबर के प्रभाव में आकर या अपुष्ट स्रोतों से प्राप्त जानकारी के प्रभाव में आकर दुकाने न खोलें। दुकानों के खोलने के सम्बंध में जिला प्रशासन द्वारा स्पस्ट रूप से आदेश जारी किए जाएंगे।

मेडिकल टीम एक-एक घर को छानते हुए सभी का टेस्ट किया जा रहा है

झांसी जनपद के ओरछा गेट मोहल्ले में कोविड पोजीटिव केस मिला। क्षेत्र के साथ आस-पास के मोहल्लों को सील कर दिया गया है तथा मेडिकल टीम द्वारा एक-एक घर को छानते हुए सभी का टेस्ट किया जा रहा है। उक्त क्षेत्र में किसी को भी आने-जाने हेतु अनुमति नहीं है, अथवा मोहल्ले को पूर्ण सील कर दिया गया है। यह बात जिलाधिकारी  आन्द्रा वामसी ने मौके का निरीक्षण करते हुए कही। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस प्रभावित मरीज की उम्र 59 वर्ष है और यह एक महिला है। जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने बताया कि ओरछा गेट निवासी महिला जिनकी उम्र 59 वर्ष है, उन्हें 25 अप्रैल 2020 को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। उनके लक्षण को देखते हुए उनका सैंपल लिया और टेस्ट कराया, जो टेस्टिंग में पॉजिटिव पाया गया। घर में उनके पति, उनकी बेटी व दामाद तथा बेटा है जिन्हें क्वॉरेंटाइन किया गया। उन्होंने बताया कि जिस मोहल्ले में रहती हैं वहां लगभग 300 घर है सभी को चिन्हित कर लिया गया और घरों में किन-किन लोगों से इनकी मुलाकात है और यह किन-किन लोगों से मिली है। इसको ट्रेस करने के लिए 12 मेडिकल टीम घर घर जाकर सैंपल ले रही है और टेस्टिंग करना शुरू कर

लाॅकडाउन में हो रहे कई सकारात्मक काम

प्रयागराज। कोरोना संक्रमण के कारण लाॅकडाउन लागू किए जाने के बाद से भारत समेत लगभग पूरी दुनिया में नई संस्कृति विकसित होती दिख रही है। लोग तरह-तरह के तरीके इजाद करते हुए अपने काम कर रहे हैं। लाॅकडाउन के कारण वायु और जल प्रदूषण में भी कमी आयी है, वातावरण शुद्ध हो रहा है। ये बात और है कि रोज कमाने-खाने वालों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, इसमें तो कोई शक नहीं है, तरह-तरह से इनकी मदद करने की कोशिश की जा रही है, मगर यह मदद पर्याप्त नहीं है। कुछ इलाकों में भूखमरी की समस्या भी सामने आ सकती है, इससे समाज और देश कैसे निपटेगा, यह सवाल सामने मुंह बाये खड़ा है। सरकार अपने तौर पर इसके लिए कोशिश भी करने में जुट गई है। लेकिन इन सबके बीच कई क्षेत्रों में नई संस्कृति विकसित हो रही है लोग अलग-अलग तरीकों से अपने कार्य करने का प्रयास कर रहे हंै। ऐसे कार्य सराहनीय और उल्लेखनीय हैं, जिन्हें देखने-सुनने पर प्रसन्नता हो रही है। शिक्षा के मामले में आॅनलाइन क्लासेज कारगर हो रहे हैं। जिन संस्थानों में जहां पहले से ही आॅलाइन क्लासेज चल रहे थे, उनके क्लास की प्रासंगिकता बढ़ने के साथ ही इनके छात्रों की संख्य

आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम व आईजी एस0के0 भगत ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में कहा कि कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु लोगो को जागरूक व सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डरने की जरूरत नही है बल्कि उसे आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के कथन को दोहराते हुए कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ देश की जनता डट कर लोहा ले रही है और इसमें सफलता भी मिल रही है। लेकिन ध्यान यह भी देना होगा कि आत्मविश्वास या उत्साह में की गई लाहपरवाही भी खतरनाक साबित हो सकती है। देश व प्रदेश की स्थिति अन्य देशों से ठीक है। क्योकि यह पर जनता के जागरूकता के कारण ही समाजिक दूरी बनाते हुए लाॅकडाउन का पालन किया जा रहा है। कोरोना योद्धा भी बढ़ चढकर लोगों को कोरोना वायरस के खिलाफ अपना योगदान दे रहे है। उन्होंने कहा कि हमे कोरोना को हराने में किसी भी प्रकार की लापरवाही नही करनी है। प्रत्येक दशा में लाॅकडाउन का पालन करना है सामाजिक दूरी बनायी रखनी है। मास्क को पहन कर ही घरों से निकला है इसके अ

हर व्यक्ति की अपनी नैतिक जिम्मेदारी है और वह अपने कर्तव्य के पथ पर आगे बढ़े

विश्व के पटल पर कोरोना वायरस मानव को इतनी बड़ी चुनौती दे रहा है अजीब सी स्थिति है की जिसकी गंभीरता को समझने वाले लोग स्वयं में अनुशासित होकर कर्फ्यू लगा लिया है किंतु कुछ निगेटिव लोग अपने को तो नहीं सेव कर रहे हैं मगर संक्रमण को बढ़ाने में पूरा योगदान दे रहे हैं ऐसी स्थिति में और इतना लंबे समय में बहुतों के सामने खाने-पीने की भी समस्याएं आनी लाजमी है ऐसे में हमारे जिला अधिवक्ता संघ के मंत्री राकेश दुबे की उपज कुछ ऐसे अधिवक्ता साथियों का कुशल क्षेम पहुंचने की योजना में हम सभी शिरकत कर रहे हैं अपना परम सौभाग्य समझते हैं 2 अप्रैल से लगातार यह प्रयास शुरू किया गया है मंत्री जी के नेतृत्व में ब्लॉक डाउन होने के कारण ऐसे अधिवक्ता साथी जो अकेले भी रह रहे हैं या फस गए हैं घर नहीं पहुंच पाए उनकी कुशलता और उनकी आवश्यकता को समझ ने के लिए हम लोग धूमनगंज रामबाग कीडगंज प्रीतम नगर मयोरा बाद दारागंज नैनी मंफोर्डगंज आदि क्षेत्रों में साथी अधिवक्ता प्रकाश दुबे पूर्व संयुक्त मंत्री नितिन दुबे प्रमोद सिंह साथी अधिवक्ता रेवती रमण त्रिपाठी धर्मेंद्र मिश्रा धर्मवीर राय हम लोगों ने स्वयं ही अधिवक्ता भाइयों बहनो

फिराक और चकबस्त की रवायात के शायर हैं सागर: यश मालवीय

सागर साहब जबान के शायर हैं। वह अपनी शायरी में इस बात को भी झुठलाते हैं कि उर्दू सिर्फ मुसलमानों की और हिंदी सिर्फ हिंदुओं की भाषा है। उनकी जबान का रंग पूरी तौर से हिंदुस्तानी है, और इस अर्थ में उन्हें फिराक साहब, चकबस्त और कृष्ण बिहारी नूर की रवायत पर अमल करने वाला शायर कहा जा सकता है। यह बात मशहूर गीतकार यश मालवीय ने गुफ्तगू द्वारा आयोजि ऑनलाइन परिचर्चा में सागर होशियारपुरी की पुस्तक ‘खुश्बू का चिराग’ का विमोचन करते हुए कहा। मैनपुरी जिले के बीएसए विजय प्रताप सिंह ने कहा कि सागर साहब की सारी गजलें अच्छी लगीं। भाव, शिल्प और भाषा सभी मानकों पर। जैसा कि भाषा के संबंध में यश मालवीय ने जिक्र किया है कि सागर साहब की गजलों की भाषा हिन्दुस्तानी है। यानी जिसमें बहुत खूबसूरती से हिंदी उर्दू के आम जबान के शब्द पिरो दिए गए हैं। कई बार बहुत सादी जबान में बहुत बड़ी बात कह दी जाती है, लेकिन उसका  अर्थ दूर तक जाता है। सागर साहब की गजलें इसका प्रमाण हैं। अतिया नूर ने कहा गंगा-जमुनी तहजीब की अनमोल धरोहर सागर होशियारपुरी एक बेमिसाल, बाकमाल शायर हैं। उनके बारे में लिखना, कलम चलाना बहुत मुश्किल काम है, बेहद

समीक्षात्मक परिचर्चा में छाईं सरिता श्रीवास्तव की रचनाएं

महिला काव्य मंच प्रयागराज इकाई के तत्वावधान में आनलाइन समीक्षात्मक परिचर्चा का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में प्रयागराज के मंचों की सुपरिचित कवियत्री सरिता श्रीवास्तव के दोहा संकलन सरिता सतसई और कविताओं के विभिन्न पहलुओं पर प्रयागराज की वरिष्ठ कवयित्रियों के मध्य चर्चा की गई। वीर रस, व्यंग्यात्मक काव्य लेखन में रुचि लेने वाली सरिता श्रीवास्तव कविताओं में भाषा प्रवाह और शब्दों में ओज के मुखर भाव स्पष्ट दिखाई देते हैं। उच्च शिक्षा से जुड़ी सरिता श्रीवास्तव काव्य के हर क्षेत्र में मजबूत दखल रखती हैं। उक्त विचार व्यक्त करते हुए वरिष्ठ कवियत्री उमा सहाय ने सरिता श्रीवास्तव की कविता मे मानवीय पक्ष का खूबसूरत चित्रण महसूस किया। उनका कहना है कि क्रोध जैसे मानवीय संवेगों को कवियत्री को एकांगी न रख कर समाधान तक पहुंचाने की आवश्यकता है। वरिष्ठ कवियत्री कविता उपाध्याय के अनुसार सरिता एक समर्थ कवियत्री के रुप में अपना स्थान बना रही है। सरल भाषा और सुगम विषय वस्तु के कारण उनकी कविताएं ग्राह्य हैं। वरिष्ठ साहित्यकार प्रेमा राय को कवियत्री की कविताओं में प्रकृति, देश प्रेम मानवीय मूल्यों सहित भौतिकता

ऋतंधरा मिश्रा की रचनाओं में आशावाद के साथ-साथ जीवन के यथार्थ के स्पष्ट दर्शन होते हैं

प्रयागराज। विभिन्न प्रतिभाओं की धनी ऋतंधरा मिश्रा की रचनाओं में आशावाद के साथ-साथ जीवन के यथार्थ के स्पष्ट दर्शन होते हैं। सामाजिक मुद्दों के साथ ही परिवार श्रृंगार को अपनी रचनाओं में शामिल करना एक संवेदनशील साहित्यकार को स्वयं में दूसरे साहित्यकार से अलग स्थापित करता है। मां के प्रति समर्पण एवं मां की छत्रछाया में संतानों का सुरक्षित महसूस करना इस का सजीव चित्रण मार्मिक है। कवि द्वारा स्पष्ट किया गया है कि जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए दृढ़ निश्चय होना अति आवश्यक है। यह विचार महक जौनपुरी कवयित्री ने शाश्वत साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संस्था द्वारा आयोजित ऑनलाइन साहित्यिक परिचर्चा में ऋतंधरा मिश्रा की कविताओं और काव्य संग्रह जीवन रस पर व्यक्त किया। मुनेद्र नाथ श्रीवास्तव ने कहा कि ऋतंधरा की रचनाओं में हिंदी व उर्दू साहित्य से समृद्ध होने की झलक मिलती है, वे गजल लेखन में भी दखल रखती हैं। मुखौटा शीर्षक की कविता रंगमंच की याद दिलाता है, काव्य का परिचायक होता प्रतीत होता है। कवित्री प्रतिभा  मिश्रा ने कहा कि ऋतंधरा मिश्रा जी चेहरे पर मुस्कान बेहद शांत, और, शालीन व्यक्तिव रंगमंच पर भी

दीर्घजीवी हैं नीलिमा मिश्रा की गजलें: विजय

डाॅ. नीलिमा मिश्रा की पंक्तियां हैं-‘धरम के ग्रंथ पढ़ने की नहीं चाहत रही कोई, सुना है होम करने से भी अपने हाथ जलते हैं।’ निश्चित तौर पर धर्म और विज्ञान का बहुत सम्हल के , सही और मानवता के हित में उपयोग करना आवश्यक होता है। कोई रचना जब अपने आप में अनेक भावों और अर्थों का समावेश करती है, जब पाठक अपने मनोभाव और मनःस्थिति के अनुसार उसकी व्याख्या कर उससे कुछ पाता है या आनंदित होता है, तो ऐसी रचना दीर्घजीवी होती हंै। विज्ञान व्रत जी का एक शेर याद आ रहा है, ‘गद्दी का वारिस लौटा था, राम कहां लौटे थे वन से।’ इन पंक्तियों को पढ़ते ही राम के वनवास तथा उसके बाद का जैसे सारा इतिहास आंखो के सामने कौंध जाता है। यह बात गुफ्तगू की ओर आयोजित ऑनलाइन परिचर्चा परिचर्चा में मैनपुरी के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप सिंह ने डाॅ. नीलिमा मिश्रा की गजलों पर विचार व्यक्त करते हुए कहा जमादार धीरज ने कहा कि डॉ. नीलिमा मिश्रा अपने सुगठित अशआर के माध्यम से प्यार आध्यात्म और राष्ट्रभक्ति की त्रिवेणी बहाती हुई जीवन के कठिन यथार्थ  के प्रति भी उतनी ही सजग हैं सुख और दुख के अनवरत चक्र से चिंतित होकर लिखती हैं। देश

व्यवस्थाओं को बेहतर भी बनाया जाये

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने बचत भवन में अधिकारियों को निर्देश दिये कि सोशल डिस्टेन्सिंग व लाॅकडाउन का कड़ाई से पालन किया जाये तथा बचाव व राहत कार्यो को युद्ध स्तर पर पूर्ण करें तथा टीम भावना के साथ कार्यो को पूरा कर कोरोना को हराये। उन्होंने कहा कि कोरोना से राहत व बचाव के लिए सरकार व प्रशासन के पास किसी प्रकार की कोई कमी नही है। उन्होंनेे मुख्य चिकित्साधिकारी व समस्त एसडीएम व सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि निर्वाचन के भांति टीम भावना से कार्य करें उन्होंने कहा कि जनपद में मैन पाॅवर की कोई कमी नही है। एल वन एक्टिव, पासिव इंटीट्यूशन, कोरेन्टाइन आदि बिन्दुओं पर प्रभावी रणनीति के अनुरूप कार्य करें। उन्होंने परियोजना निर्देश को निर्देश दिये कि सांसद, विधायक, एमएलसी आदि द्वारा जो धन कोरोना से निपटने के लिए आपदा राहत में दिया गया है। उसको तत्काल सीएमओं से मिलकर सम्बन्धित चिकित्सीय कार्यो हेतु अवमुक्त कराये। उन्होंने सीएमओं से कहा कि वह नियामानुसार मांग पत्र के अनुरूप धन लेकर उसे कोरोना राहत व बचाव से सम्बन्धित कार्यो में खर्च करते हुए उसका उपयोग प्रमाण पत्र भी देते रहे। इसके अला

समाजिक दूरी से कोरोना पर करे कड़ा प्रहार: मुकेश मेश्राम

लखनऊ मण्डल के आयुक्त/नोडल अधिकारी मुकेश मेश्राम व आई जी एस0के0 भगत ने कहा कि समाजिक दूरी को बनाकर तथा लाॅकडाउन का पालन करते हुए कोरोना पर कड़ा प्रहार करें। कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत रखते हुए रायबरेली में गल्ला मण्डी, फल मण्डी व गेहूँ क्रय केन्द्र का निरीक्षण किया तथा निर्देश दिये कि सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन कराते हुए कार्य करें इसके अलावा अधिक से अधिक गेहूँ क्रय केन्द्र पर किसानों से गेहूँ नियामानुसार क्रय किया जाये। सरकारी कर्मचारी सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन कराये तथा लोगों को जागरूक भी करें। सामाजिक दूरी बनाने से ही कोरोना पर प्रहार कर उसे खत्म किया जा सकता है। सोशल डिस्टेन्सिंग के नियम के साथ ही उसका पालन करना जरूरी है।   मण्डलायुक्त ने हाॅट-स्पाटस क्षेत्र कहारों का अड्डा व खालीसहाट आदि स्थलों पर जाकर वह की व्यवस्था के बारे में जाना तथा निर्देश दिये कि आमजन अपने-अपने घरों में रहे और सुरक्षित रहे। पवित्र रमजान को देखते हुए चल रहे नमाज, रोजा व इफ्तार आदि पर घरों में ही समाजिक दूरी बनाते हुए कार्य करें। लाॅकडाउन का पालन न करने वाले के खिलाफ प्रशासन सख्त नजर आये तथा आमजन

झांसी आ रहे हैं हरियाणा के प्रवासी

हरियाणा प्रदेश से आने वाले समस्त प्रवासीयों को 14 दिन क्वारंटाइन में रखा जाएगा, उनके रहने व भोजन व्यवस्था सुनिश्चित हो। आवश्यक सुविधाएं जो बेहतर हैं उन्हें और बेहतर किया जाए। यह निर्देश जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने विकास भवन सभागार, झांसी में हरियाणा प्रदेश से आ रहे प्रवासियों के रहने-खाने तथा चिकित्सीय जांच हेतु तैनात अधिकारियों को दिए। जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने कहा कि हरियाणा प्रदेश से लगभग 111 प्रवासी आ रहे हैं उन्हें पैरामेडिकल कॉलेज में 14 दिन क्वारंटाइन में रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि समस्त प्रवासी हरियाणा प्रदेश से 14 दिन क्वॉरेंटाइन पूर्ण करके आ रहे हैं लेकिन यहां भी उनकी जांच करते हुए क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। जब 14 दिन का क्वॉरेंटाइन पूरा हो जाएगा तदोपरांत उन्हें बसों द्वारा घर भेजा जाना सुनिश्चित होगा।  बैठक में जिलाधिकारी ने कहा, सभी प्रवासियों के रहने की व्यवस्था कर लें तथा साफ-सफाई की भी समुचित व्यवस्था की जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि उनके बेड लगाते समय सोशल डिस्टेंसी का कड़ाई से अनुपालन हो। इस मौके पर सीडीओ निखिल टीकाराम फुंडे, एडीएम श्रीराम अक्षय वर चैहान, एसपी देहात

लेकिन अब शहर खामोश है

कोरोना वायरस से बचाव के लिए लाॅकडाउन और हाॅटस्पाट के कारण राजधानी लखनऊ बन्द का दृश्य, जहां हर समय भीड़ रहती थी, लेकिन अब शहर खामोश है।

नई सोच के साथ नए रोजगार की तलाश करें: मंडलायुक्त, झांसी

झांसी। अधिकारी विजन डवलप करें ताकि रोजगार के अधिक अवसर प्राप्त हो सके। अपनी सोच का दायरा बढ़ाते हुए ग्रामीण क्षेत्र में मनरेगा के अंतर्गत अन्य कार्यों को टेकअप करें। श्रमिकों की रुचि को देखते हुए उनसे कार्य कराया जाए। एन.आर.एल.एम. का भी विस्तार किया जाए। विभागीय अधिकारी अपने विभाग की योजनाओं से ही लाभान्वित करने का प्रयास करें। मंडल में दिहाड़ी मजदूरों को भरण-पोषण हेतु 1000 रूपये दिए जाने की स्थिति बेहद संतोषजनक है। त्वरित गति से जारी श्रमिकों का पंजीकरण कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। रोजगार मेले आयोजित करने के लिए अभी से प्लान तैयार कर ले। यह निर्देश मंडलायुक्त, झांसी सुभाष चंद शर्मा ने सभागार में मंडल के विभिन्न प्रदेशों व जिले से आए श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराए जाने तथा भरण-पोषण भत्ता दिए जाने के संबंध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए। उन्होंने कहा कि रोजगार देना प्रशासन की प्राथमिकता है। लोगों को काम दे, उन्हें भूखा ना रहने दें। मंडलायुक्त सुभाष चंद शर्मा ने बैठक में ग्राम्य विकास विभाग, श्रम विभाग, उद्योग विभाग, सेवायोजन विभाग, उद्यान विभाग सहित एन.आर.एल.एम. व मनरेगा से ज

झांसी की सीमाएं सील कर दी गई हैं कोई भी अंदर ना आ सके:जिलाधिकारी

झांसी जनपद में कोई भी धार्मिक स्थल आमजन के लिए नहीं खुलेंगे और ना सार्वजनिक धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा। एसडीएम व सीओ संयुक्त रूप से क्षेत्र भ्रमण के दौरान धार्मिक स्थलों पर विशेष नजर बनाए रखें। क्षेत्र में पीस कमेटी की बैठक अवश्य कर लें। दिहाड़ी मजदूरों का अभियान चलाकर मनरेगा योजना अंतर्गत जॉब कार्ड बनाए जाएं। एक गांव-एक तालाब के कार्य में तेजी लाएं, इसके साथ ही मनरेगा में अन्य कार्य जो जल संचय, जल संवर्धन के लिए उपयुक्त हैं टेकअप किए जाएं। कोटेदार द्वारा घटतोली पर एफ.आई.आर. दर्ज किए जाने के निर्देश। जनपद की सीमाएं सील कर दी गई हैं कोई भी अंदर ना आ सके यह कड़ाई सुनिश्चित हो।  यह निर्देश जिलाधिकारी, झांसी आंद्रा वामसी ने विकास भवन सभागार में समस्त उपजिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी पुलिस के साथ जनपद में प्रॉपर लॉक टाउन स्थापित करने हेतु आयोजित बैठक में दिए। जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने कहा कि प्रदेश शासन द्वारा प्राप्त दिशा निर्देशों के बाद ही दुकान खोले जाने पर निर्णय लिया जाएगा। लॉकडाउन के दौरान जो स्थिति थी वह बनी रहेगी, अति आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को खोले जाने का जो निर्णय है वह यथा

सेवा भारती के स्वयसेवकों ने राशन सामग्री का वितरण कराया

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सेवा भारती के स्वयसेवकों द्वारा 100 से अधिक गरीब परिवारों को राहत सामग्री का वितरण किया गया। प्रत्येक राहत सामग्री पैकेट में 4 किलो आलू, 2 किलो प्याज, 250ग्राम मिर्च, 250ग्राम सोयाबीन, 200 ग्राम सरसों के तेल की शीशी, 1 लाइफबॉय साबुन , 2 बिस्किट का पैकेट, हल्दी सब्जी मसाला आदि सामग्री से तैयार पैकेट जरूरतमंद गरीब परिवारों को घर घर जाकर मुहैया कराया लॉकडाउन को ध्यान में रखकर डिस्टेंस दूरी बनाकर नियमों का पालन किया गया। सह जिला संघचालक श्री चंद्रशेखर सिंह, जिला प्रचारक श्री अजीत जी, सेवा भारती जिलाध्यक्ष राजीव प्रताप सिंह, सह जिला कार्यवाह प्रदीप सिंह, नगर कार्यवाह रामजीत सिंह, देवरिया विभाग बौद्धिक प्रमुख सुरेश गुप्ता, देवेन्द्र सिंह, त्रिलोकी नाथ श्रीवास्तव, उदय प्रताप सिंह, राजन जायसवाल,  अवधेश, देवेन्द्र तिवारी, दीनबन्धु तिवारी, विनय पान्डेय, ऋषभ सिंह, निहाल जायसवाल, पंकज शर्मा, रविन्द्र गुप्ता, प्रदीप शर्मा ने अपनी देख रेख में राशन सामग्री का वितरण कराया।  

आश्वासन देना निस्तारण नही होता है: मुकेश मेश्राम

कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण के दृष्टिगत मंडलायुक्त लखनऊ व नोडल अधिकारी मुकेश मेश्राम व आईजी एस0के0 भगत ने कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान आयुक्त ने निर्देश दिये कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ लॉकडाउन का पालन कराने व घर से बाहर न निकलने की हिदायत देते रहे। कोरोना वायरस के संक्रमण रोकने के लिए घरों में रहकर लाकडाउन का पुरी तरह से पालन करना है। इसके अलावा मुंह पर मास्क का प्रयोग जरूर लगाये तथा सोशल डिस्टेस को बनाये रखे। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि कंट्रोल रूम के माध्यम से जो भी शिकायतें प्राप्त हो रही है उन शिकायतों के निस्तारण व संतुष्टि की जानकारी शिकायतकताओं से कंट्रोल रूम से लेते रहें साथ ही  क्वारंटीन केन्द्रों व कम्युनिटी किचनों पर साफ-सफाई पर विशेष ध्यान रखे, कोविड-19 के नियंत्रण व रोकथाम के लिए भारत सरकार द्वारा तैयार किए गए आरोग्य सेतु एप को सभी अधिकारी व कर्मचारियों के साथ-साथ जनमानस को डाउनलोड करानें के साथ ही घर में रहे सुरक्षित रहे आदि का संदेश भी देते रहे। उन्होंने दो कन्ट

कोरेन्टाइन में रखे गये लोगों की समुचित व्यवस्था व देख-भाल भली-भांति रखी जाये

लखनऊ मण्डल के आयुक्त/नोडल अधिकारी मुकेश मेश्राम व आई जी एस0के0 भगत ने कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत कलेक्ट्रेट स्थित बचत भवन, रायबरेली के सभागार में अधिकारियों को निर्देश दिए कि सरकारी एवं निजी दोनों चिकित्सालयों में आपात चिकित्सा सुविधा 24गुणा7 उपलब्ध रहे साथ ही चिकित्सक व स्टाफ को समुचित सुरक्षा एवं समुचित व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि चिकित्सक व उनका स्टाफ/सफाई कमचारियों, पुलिस आदि जो कोरोना योद्धा के रूप में जाने जाते है इन्हें किसी भी प्रकार को दिक्कतों का सामना न करना पड़ें इन सभी लोगों के लिए खाने-पीने व रहने आदि की व्यवस्था सुरक्षित व उच्चकोटि की रहें इसके अलावा जो कोरोना के मरीज तथा कोरेन्टाइन में रखे गये लोगों की समुचित व्यवस्था व देख-भाल भली-भांति रखी जाये। लोगों को बताया जाये कि कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नही है जरूरत सिर्फ चिकित्सकों की निर्देशों का पालन करना तथा सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करना है।   मण्डलायुक्त ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि खान-पान, साफ-सफाई, आवश्यक सामग्री व वस्तुओं की व्यवस्थाए दुरूस्त रखने के साथ ही व व्यवस्थाओं