सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जुलाई, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वृक्ष लगाकर उसकी सुरक्षा सर्वोपरि है

मेजा (प्रयागराज) यूपी सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना वृहद वृक्षारोपण ( प्लाटेंशन   कैपंन ) की मुहिम  मे  योगी सरकार ने कुल 30 करोड़ वृक्ष लगाने का लक्ष्य जुलाई महीने  मे  रखा  है।विभिन्न जिलों के नोडल अधिकारी और वन विभाग के अधिकारियों के सहयोग से इस लक्ष्य को तकरीबन हासिल किया है, इसी मुहिम   मे   शामिल होकर समाजसेवी और महाराष्ट्र   मुबंई   के दैनिक पहला समाचार के वरिष्ठ पत्रकार गणेश   पाण्डेंय   ने अपने निवास स्थान गाँव   निबैया   मे   वृक्षारोपण मुहिम को आगे   बढाते   हुए 15 वृक्ष जिसमे क्रमशः आम आंवला अमरूद,शीशम आदि जैसे गुणकारी वृक्षों का वृक्षारोपण किया। इस अवसर पर समाजसेवी गणेश पांडेय ने और अधिक जागरूकता और संसाधनों पर सरकार से मांग करते हुए कहा,"वृक्षों की रख रखाव के साथ   बाणरोधी   और जानवरों, मवेशी से   बचाने   के लिए सरकार और जिले के नोडल वन अधिकारियों को ध्यान देने की जरूरत है,तभी जाकर यह मुहिम सफल होगी।वृक्ष लगाकर उसकी सुरक्षा सर्वोपरि है। वृक्ष लगाने के साथ   उसकी   सुरक्षा और रखरखाव और भी ज्यादा जरूरी है। हर व्यक्ति को इस मुहिम में सहयोग देने   कि   जरूरत है, जिससे

प्राईवेट स्कूलों की समस्याओं पर विचार-विमर्श हेतु मंथन’ का आयोजन

लखनऊ, 23 जुलाई: उत्तर प्रदेश के विभिन्न प्राईवेट स्कूल संगठनों के प्रतिनिधियों ने आज निजी विद्यालयों से जुड़ी विभिन्न समस्याओं जैसे लगभग 500 दिनों से विद्यालयों का लगातार बंद रहना, प्राईवेट स्कूलों को आर.टी.आई. एक्ट के अन्तर्गत लाना एवं आर.टी.ई. एक्ट की तमाम विसंगतियों पर गहन चर्चा-परिचर्चा की एवं प्रदेश सरकार से निजी स्कूलों की समस्याओं पर ध्यान देने की पुरजोर अपील की। एसोसिएशन आॅफ प्राईवेट स्कूल्स, उ.प्र. एवं नेशनल इण्डिपेन्डेन्ट स्कूल्स एलायन्स (नीसा) के संयुक्त तत्वावधान में सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में आयोजित प्रदेश के सभी निजी विद्यालय के संगठनों की मीटिंग ‘मंथन’ में आज लखनऊ, वाराणसी, अलीगढ़, कानपुर, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, गोंडा आदि विभिन्न जिलों व मंडलों से पधारे निजी स्कूल संगठनों के प्रतिनिधियों ने विद्यालयों को तत्काल खोलने की जोरदार वकालत की तो वहीं दूसरी ओर स्वयं के संसाधनों पर निर्भर निजी विद्यालयों की स्वायतता को खत्म करने हेतु विद्यालयों को राईट टू इन्फार्मेशन (आर.टी.आई.) एक्ट के अन्तर्गत लाने की घोर आलोचना करते हुए इसे एक असंवैधानिक कदम बताया। इस मीटिंग में बोलते

रायबरेली के 48 नवनियुक्त सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र वितरित

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने लखनऊ से मिशन रोजगार के अंतर्गत निष्पक्ष एवं पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया के माध्यम से बेसिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश द्वारा संचालित परिषदीय विद्यालयों में चयनित 6696 सहायक अध्यापकों की नियुक्ति वितरण नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम का वर्चुअल माध्यम से शुभारंभ करते हुए अपने कर कमलों से दस नवनियुक्त सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र वितरित किया। जिसमें जनपद रायबरेली की सुमन देवी को भी मा0 मुख्यमंत्री के करकमलों के माध्यम से नियुक्ति पत्र प्राप्त हुआ। इसी क्रम में जनपद रायबरेली में एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह व बछरावां विधायक राम नरेश रावत जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव, मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल ने मुख्यमंत्री जी के नियुक्ति पत्र वितरण महोत्सव कार्यक्रम का लाइव प्रसारण देखा तथा जनपद रायबरेली के 48 नवनियुक्त सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र वितरित किया। मुख्यमंत्री जी ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि प्रदेश सरकार के 19 मार्च को चार वर्ष पूर्ण होने पर लगभग 4 लाख से अधिक लोगों को नौकरी मुहैया करवाने के साथ वर्तमान में 4.5 लाख से अधिक लोगों को नौकरिया

प्लानेट क्वेस्ट-2021

  सिटी मोन्टेसरी स्कूल , अलीगंज ( द्वितीय कैम्पस ) लखनऊ के प्राइमरी सेक्शन की छात्रा वर्णिका श्रीवास्तव ने ऑनलाइन   नेशनल क्विज प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल अर्जित कर लखनऊ का नाम गौरवान्वित किया है। यह प्रतियोगिता शैक्षिक संस्था ‘ परपल विंग्स ’ के तत्वावधान में नेशनल लेविल ऑनलाइन   कम्पटीशन ‘ प्लानेट क्वेस्ट -2021’ के तत्वावधान में आयोजित हुई। सी . एम . एस . के मुख्य जन - सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि प्रतियोगिता में सी . एम . एस . की इस प्रतिभाशाली छात्रा ने विभिन्न विषयों से सम्बन्धित प्रश्नों के उत्तर बड़ी ही तीव्रता , स्पष्टता तथा सारगर्भित ढंग से देकर अपने ज्ञान - विज्ञान , तार्किक क्षमता व आत्मविश्वास का शानदार प्रदर्शन किया और दिखाया कि सी . एम . एस . के छात्र छोटी उम्र से ही रचनात्मक सोच व अभिव्यक्ति क्षमता में अव्वल हैं। प्रतियोगिता के आयोजकों ने वर्णिका के ज्ञान - विज्ञान की भूरि - भूरि प्रशंसा करते हुए गोल्ड मेडल एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान कर स

जन आक्रोश आंदोलन

मुंबई। पेट्रोल-डीजल और घरेलू गैस की आसमान छूती कीमतों तथा महँगाई के खिलाफ राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष व जलसंसाधन मंत्री जयंतराव पाटील, मुंबई अध्यक्ष व मंत्री नवाब मलिक के आदेशानुसार उत्तर मुंबई जिल्हा अध्यक्ष अँडवोकेट इंद्रपाल सिंह व जिल्हा निरीक्षक दिनकर तावडे साहेब, उत्तर मुंबई जिल्हा अध्यक्षा महिला श्रीमती प्रियाताई बांदिवडेकर, मालाड तालुका निरीक्षक विजय शेट्टीजी, मनी शंकर चौहान,ताजुदिन इनामदार, सतीश असावरे, किरण मोरे, जमाल शेख, समीर शेख, काशिनाथ नलावडे, मनोहर भातुसे   एनसीपी मालाड तालुका वार्ड क्रमांक 46 द्वारा गुरुवार 22 जुलाई 2021 को सुबह मालाड (पश्चिम) में स्टेशन रोड श्री सोन्या मारुति मंदिर के पीछे सामाजिक समाजसेवक व पार्टी कार्यकर्ता परशुराम शर्मा और मालाड महिला तालुका अध्यक्षा श्रीमती. ज्योती रामदास भैसारे, दत्ताराम कानडे, रिजवान शेख,सुबोध कवटकर,दाऊद भाई,अनिता मात्रे,शिल्पा पाटील, ज्योती गाईगवळी, अमित शर्मा,परशुराम शर्मा,वैशाली शेट्टी,अलका करांडे, प्रिशिला फर्नाडिस , सविता राऊत ,हीना शेख और बड़ी संख्या में एनसीपी पदाधिकारी, वार्ड अध्यक्ष, कार्यकर्

कैंसर क्लीनिक का उद्घाटन

 कैंसर जैसी घातक बीमारी के इलाज को जनपद  रायबरेली  से बाहर जाकर इलाज करवाने वाले मरीजों के लिए राहत भरी खबर है। आज जनपद में पहले कैंसर क्लीनिक का उद्घाटन हुआ। डॉ शशांक चौधरी के निर्देशन में चलने वाले इस क्लीनिक का शुभारंभ जनपद के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने फीता काट कर किया और साथ ही क्लीनिक संचालन और सहयोगी तथा परिजनों के साथ मुख्य अतिथि ने दीप प्रज्वलन भी किया। मुख्य अतिथि एसपी श्लोक कुमार ने कहा कि जनपद के लिए यह क्लीनिक बड़ी उपलब्धि होगी। जनपद में यह पहला कैंसर क्लीनिक है । अभी तक कैंसर जैसी घातक बीमारी के लिए मरीजो को बाहर जाना पड़ता था पर अब उन्हें यह सुविधा जनपद में ही उपलब्ध होगी जिससे ऐसे मरीजों को फायदा होगा। क्लीनिक संचालक डॉ शशांक चौधरी ने कहा कि उनका उद्देश्य जनपद में रहकर सेवा करना है। इसी लिए उन्होंने अपने गृह जनपद में क्लीनिक खोला है। यही नही कैंसर जैसी बीमारी के प्रति लोग अभी कम जागरूक है और इलाज भी महंगा है। जिसके लिए हम भरकस प्रयास करेंगे कि जनपद के मरीजों को इस क्लीनिक का लाभ मिल सके। कार्यक्रम में  विशिष्ट अतिथि डॉ आशा शंकर वर्मा , डॉ विजय कुमार प्रोफेसर, डॉ नासीम अ

तहसील डलमऊ 1 ग्राम व ऊँचाहार में 5 ग्रामों की भूमि गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना हेतु पुनग्र्रहीत

  मुख्य कार्यपालक अधिकारी, यूपीडा, पर्यटन भवन लखनऊ के अनुक्रम में उपजिलाधिकारी डलमऊ जिला रायबरेली के संस्तुति सहित पुनग्र्रहण प्रस्ताव व शासनादेश तथा शासकीय अधिसूचना द्वारा प्रतिनिहित अधिकारों का प्रयोग करते हुए जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने ग्राम हींगामऊ, परगना व तहसील डलमऊ, जिला रायबरेली को जो अब तक उपरिवर्णित शासनादेश के अनुसार अपने अधिकार लेकर कर भूमि का जिलाधिकारी द्वारा निर्धारित सर्किल रेट के अनुसार (समस्त परिसंपत्तियों को सम्मिलित करते हुए) कुल मूल्य रूपये 33,62,100 (तैतीस लाख बासठ हजार एक सौ) रूपये एवं पुनर्ग्रहीत भूमि का पंजीकृत मूल्य मालगुजारी का 150 गुना अर्थात् 8741 (आठ हजार सात सौ इकतालीस) रुपये होता है, जिसे ‘‘उत्तर प्रदेश शासन, एवं औद्योगिक विकास विभाग लखनऊ’’ के निवर्तन में रखते हुए गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना हेतु उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) लखनऊ के पक्ष में शासनादेश के अनुसार निहित व्यवस्थानुसार, निःशुल्क प्रदत्त की है। इसी क्रम में जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने उप जिलाधिकारी ऊँचाहार जिला रायबरेली के संस्तुति सहित पुनग्र्रहण प्रस्ताव व शास

हमें मानव का शरीर एकमात्र अपनी ‘आत्मा के विकास’ के लिए परमात्मा ने दिया है!

  - डा 0 जगदीश गांधी , शिक्षाविद्             परमात्मा ने दो तरह की योनियाँ बनायी हैं - पहला पशु योनियाँ तथा दूसरा मानव योनि। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार 84 लाख पशु योनियों में अगिनत वर्षों तक अत्यन्त कष्टदायी तथा दुःखदायी जीवन बिताने के बाद मानव योनि में जन्म दयालु परमात्मा की कृपा से बड़े सौभाग्य से मिलता है। इस मानव योनि में ही मनुष्य अपनी आत्मा का विकास करके जीते जी मोक्ष अर्थात जन्म - मरण के चक्कर से मुक्ति प्राप्त कर सकता है। 84 लाख पशु योनियों में आत्म तत्व न होने के कारण आत्मा के विकास का अवसर नहीं मिलता है। यदि हमने 84 लाख पशु योनियों के बाद मानव योनि में जन्म लेने के सुअवसर को ऐसे ही गुजार दिया तो हमें फिर से 84 लाख पशु योनियों में अत्यन्त कष्टदायी तथा दुःखदायी परिस्थितियों में अनगिनत वर्षों के लिए भटकना पड़ता है। 84 लाख पशु योनियों की कठिन यात्रा करने के बाद फिर जाकर हमें पुनः मानव योनि में अपनी आत्मा के विकास तथा जन्म - मरण